"स्वामी रामानन्दाचार्य" के अवतरणों में अंतर

छो
बॉट: अंगराग परिवर्तन।
छो (बॉट: लेख में लगी स्रोतहीन चिप्पी को दिनांकित किया।)
छो (बॉट: अंगराग परिवर्तन।)
'आनन्दभाष्य' नाम से जगदगुरु रामानन्दाचार्य जी ने प्रस्थानत्रयी का [[भाष्य]] लिखा है।
 
=बाहरी कड़ी ==
* [http://www.india-forum.com/forums/index.php?showtopic=1891&pid=77785&mode=threaded&show=&st=& ]
* [http://www.ramanandacharya.blogspot.com/2008_12_01_archive.html रामानन्दाचार्य पर हिन्दी ब्लॉग]