"तिरुवल्लुवर" के अवतरणों में अंतर

2 बैट्स् जोड़े गए ,  6 वर्ष पहले
छो
बॉट: डॉट (.) के स्थान पर पूर्णविराम (।) और लाघव चिह्न प्रयुक्त किये।
छो (बॉट: डॉट (.) के स्थान पर पूर्णविराम (।) और लाघव चिह्न प्रयुक्त किये।)
छो (बॉट: डॉट (.) के स्थान पर पूर्णविराम (।) और लाघव चिह्न प्रयुक्त किये।)
| year =1997}}</ref>
 
वहां और भी अधिक परंपरागत कहानियां हैं जिसमें कहा गया है कि ''मदुरै का तमिल संगम'' (नियमित तौर पर आयोजित किया जाने वाला प्रख्यात विद्वानों और शोधकर्ताओं का सम्मेलन/सभा) वह प्राधिकरण था जिसके माध्यम से तिरुक्कुरल को विश्व के सामने पेश किया गया.गया। हो सकता है कि तिरुवल्लुवर ने अपना अधिकांश जीवन मदुरै में बिताया हो क्योंकि यह [[पाण्ड्य राजवंश|पांडिया]] शासकों के अधीन था जहां कई तमिल कवि आगे बढ़े. अभी हाल ही में कन्याकुमारी ऐतिहासिक और सांस्कृतिक शोध केन्द्र (KHCRC) द्वारा दावा किया गया कि वल्लुवर एक राजा थे जिन्होंने [[तमिल नाडु|तमिलनाडु]] के कन्याकुमारी जिले के एक पहाड़ी इलाके वल्लुवनाडु पर शासन किया।<ref>{{cite news
| title =Valluvar lived in Kanyakumari district
| publisher =Yahoo! News