"लेसर किरण" के अवतरणों में अंतर

4 बैट्स् जोड़े गए ,  5 वर्ष पहले
छो
बॉट: डॉट (.) के स्थान पर पूर्णविराम (।) और लाघव चिह्न प्रयुक्त किये।
छो (बॉट: अनावश्यक अल्पविराम (,) हटाया।)
छो (बॉट: डॉट (.) के स्थान पर पूर्णविराम (।) और लाघव चिह्न प्रयुक्त किये।)
== पुराना ==
[[चित्र:Laser_play.jpg|thumb|200px|धुंध में कार की विंड स्क्रीन पर लेज़र]]
[[1957]] में, [[:en:Bell Labs|बेल प्रयोगशाला]] में चार्ल्स हार्ड टाउन्‍स और [[:en:Arthur Leonard Schawlow |आर्थर लियोनार्दो स्चाव्लो]] ने अवरक्त लेसर पर एक गंभीर अध्ययन शुरू किया I जैसे जैसे यह विचार विकसित हुआ, [[अधोरक्त|अवरक्त]] आवृत्तियों से ध्यान हटा कर उनकी जगह [[प्रत्यक्ष वर्णक्रम|दृश्य प्रकाश]]पर ज्यादा ध्यान दिया जाने लगा Iयह अवधारणा मूलतः एक "प्रकाशीय मसेर" के रूप में जाना जाता था Iएक साल बाद बेल प्रयोगशाला ने प्रस्तावित प्रकाशीय मसेर के लिए [[पेटेन्ट|एकाधिकार]] का आवेदन दायर किया Iस्चाव्लो और तोव्नेस ने सैद्धांतिक गणना की एक पांडुलिपि [[:en: Physical Review|भौतिक समीक्षा]] को भेजा,जिसमें उनके शोधपत्र को उसी साल प्रकाशित किया गया.गया।(भाग 112, अंक 6).
 
[[चित्र:Gould notebook 001.jpg|thumb|right|गॉर्डन गोल्ड के लेजर नोटबुक के प्रथम पृष्ठ में उन्होंने संक्षिप्त शब्द लेजर का प्रयोग किया और उसके निर्माण के लिए आवश्यक तत्‍वों का वर्णन किया I]]<!--
बाद में 1960 में [[ईरान]]इआन भौतिकविद् [[:en:Ali Javan|अली जावन]], ने [[:en:William R. Bennett, Jr. |विलियम आर. बेनेट]] और [[:en:Donald Herriot|डोनाल्ड हैरोइट]] के साथ काम करते हुए, पहला [[:en:gas laser|गैस लेजर]] [[हीलियम]] और [[नियोन|नीयन]] का उपयोग करते हुए बनाया I जावन को बाद में [[:en:Albert Einstein Award|अल्बर्ट आइंस्टीन पुरस्कार]] 1993 में प्राप्त हुआ।
 
इस अर्धचालक [[:en:लेजर डायोड |लेजर डायोड]] ([[:en:laser diode|laser diode]]) की अवधारणा बसोव और जावन ने प्रस्तावित किया था Iपहले ''लेजर डायोड'' का प्रदर्शन1962 में [[:en:रॉबर्ट एन. हॉल|रॉबर्ट एन. हॉल]] ([[:en:Robert N. Hall|Robert N. Hall]]) ने किया I हॉल का उपकरण [[गैलिअम आर्सेनाइड|गैलियम आर्सेनाइड]] से बना था जो बनाया गया था और -[[अधोरक्त|अवरक्त]] स्पेक्ट्रम के क्षेत्र में 850 एनएम के पास पर उत्सर्जित थाथा। .दृश्य उत्सर्जन के साथ पहला अर्धचालक लेजर का प्रदर्शन बाद में उसी साल [[:en:निक होलोंयक |निक होलोनायक, जूनियर]] ([[:en:Nick Holonyak|Nick Holonyak, Jr]]) के द्वारा किया गया I पहले गैस लेज़रों में, इन अर्धचालक लेजर का उपयौग केवल स्पंदित आपरेशन में ही किया जा सकता है और वह भी तब जब केवल [[:en:तरल नाइट्रोजन |तरल नाइट्रोजन]] ([[:en:liquid nitrogen|liquid nitrogen]]) के तापमान (77 k) पर ठंडा किया जाय I
 
1970 में, [[ज़ोरेस अल्फेरोव|ज़ोरस अल्‍फेरोव]] ने सोवियत संघ और इज़ुयो हयाशी व मोर्टन पानिश [[:en:बेल टेलीफोन लेबोरेटरी|बेल टेलीफोन लेबोरेटरी]] ([[:en:Bell Telephone Laboratories|Bell Telephone Laboratories]]) ने लगातार कमरे के तापमान पर संचालित [[:en:हितरोजंक्‍शन |हेटरोजंक्‍शन]] ([[:en:heterojunction|heterojunction]]) संरचना का उपयोग कर, स्वतंत्र रूप से लेजर डायोड विकसित किया I