"क्यूबाई मिसाइल संकट" के अवतरणों में अंतर

छो
बॉट: डॉट (.) के स्थान पर पूर्णविराम (।) और लाघव चिह्न प्रयुक्त किये।
छो (बॉट: डॉट (.) के स्थान पर पूर्णविराम (।) और लाघव चिह्न प्रयुक्त किये।)
छो (बॉट: डॉट (.) के स्थान पर पूर्णविराम (।) और लाघव चिह्न प्रयुक्त किये।)
[[चित्र:Soviet-R-12-nuclear-ballistic missile.jpg|thumb|मॉस्को के रेड स्क्वायर में मध्यवर्ती दूरी की सोवियत आर-12 परमाणु बैलिस्टिक मिसाइल (नाटो द्वारा दिया गया नाम एसएस-4) की सीआईए (CIA) संदर्भ तस्वीर.]] '''क्यूबाई मिसाइल संकट''' (क्यूबा में ''अक्टूबर संकट'' के रूप में जाना जाता है) [[शीतयुद्ध|शीत युद्ध]] के दौरान अक्टूबर 1962 में [[सोवियत संघ|सोवियत संघ,]] [[क्यूबा]] और [[संयुक्त राज्य अमेरिका]] के बीच एक टकराव था। सितंबर 1962 में, क्यूबा और सोवियत सरकारों ने चोरी-छिपे क्यूबा में महाद्वीपीय संयुक्त राज्य अमेरिका के अधिकांश भागों पर मार कर सकने की क्षमता वाली अनेक मध्यम- और मध्यवर्ती-दूरी की प्राक्षेपिक मिसाइलें (MRBMs और IRBMs) लगानी शुरू की. 1958 में यूके (UK) में थोर आईआरबीएम (IRBM) और 1961 में इटली और तुर्की में जुपिटर आईआरबीएम (IRBM)- मॉस्को पर नाभिकीय हथियारों से हमला करने की क्षमता वाली इन 100 से अधिक यू॰एस॰ (U.S.)-निर्मित मिसाइलों की तैनाती के प्रतिक्रियास्वरूप यह कारवाई की गयी.गयी। 14 अक्टूबर, 1962 को, एक संयुक्त राज्य अमेरिकी यू-2 (U-2) फोटोआविक्षण विमान ने क्यूबा में निर्माणाधीन सोवियत मिसाइल ठिकानों के फोटोग्राफिक सबूत जमा किये.
 
फलस्वरूप बर्लिन नाकाबंदी से पैदा हुआ संकट शीत युद्ध के एक बड़े टकराव का रूप ले लिया और आम तौर पर माना जाने लगा कि शीत युद्ध अब एक नाभिकीय संघर्ष के कगार पर आ पहुंचा है।<ref>{{cite journal|first=B. Gregory |last=Marfleet|title=The Operational Code of John F. Kennedy During the Cuban Missile Crisis: A Comparison of Public and Private Rhetoric |journal=Political Psychology |volume=21|page=545|issue=3}}</ref> संयुक्त राज्य अमेरिका ने क्यूबा आकाश और समुद्र मार्ग से हमला करने पर विचार किया और क्यूबा का सैन्य संगरोधन करना तय किया। यू॰एस॰ (U.S.) ने घोषणा की कि वह क्यूबा में आक्रामक हथियारों को ले जाने नहीं देगा और मांग की कि सोवियत संघ क्यूबा में निर्माणाधीन या बन चुके मिसाइल ठिकानों को नष्ट करे और वहां से सभी आक्रामक हथियारों को हटा ले. कैनेडी प्रशासन को बहुत ही कम उम्मीद थी कि क्रेमलिन उनकी मांगों को मान लेगा और वह एक सैन्य टकराव की अपेक्षा कर रहा था। दूसरी ओर सोवियत संघ के निकिता ख्रुश्चेव ने केनेडी को एक पत्र में लिखा कि "अंतरराष्ट्रीय जल मार्ग और आकाश मार्ग के यातायात के" उनके संगरोधन की "कारवाई एक ऐसी आक्रामकता है जो मानव जाति को विश्व नाभिकीय-मिसाइल युद्ध के नरक कुंड में डाल देगी."
== पूर्वी गुट रणनीति ==
(translator needed)
सोवियत प्रधानमंत्री निकिता ख्रुश्चेव के मन में मई 1962 में क्यूबा में अपनी मध्यवर्ती-दूरी की नाभिकीय मिसाइलों की तैनाती द्वारा संयुक्त राज्य अमेरिका के सामरिक मिसाइलों के विकास और तैनाती का प्रत्युत्तर देने का विचार आया.आया। अप्रैल 1962 के दौरान तुर्की में संयुक्त राज्य अमेरिका की जुपिटर नामक मध्यवर्ती-दूरी की प्रक्षेपिक मिसाइलों की तैनाती के हिस्से के रूप में भी ख्रुश्चेव प्रतिक्रया कर रहे थे।<ref name="afmag" />
 
एकदम शुरुआत से ही, सोवियत की गतिविधि का विस्तृत खंडन और छल आवश्यक बन गया था, जिसे रूस में ''मस्किरोव्का'' (Maskirovka) कहा जाता है।<ref name="hansen" /> सारी योजना और मिसाइलों का परिवहन और उनकी तैनाती अत्यंत गोपनीयता के साथ पूरी की गयी, सिर्फ कुछ लोगों को इस अभियान की वास्तविक प्रकृति के बारे में बताया गया। यहां तक कि इस अभियान पर जाने वाले सैनिकों को भी गुमराह किया गया था, उनसे कहा गया था कि वे ठंडे क्षेत्र को जा रहे हैं और स्की जूते, गर्म जैकेट और अन्य शीतकालीन उपकरणों से उन्हें सुसज्जित किया गया।<ref name="hansen">{{cite web|url=https://www.cia.gov/library/center-for-the-study-of-intelligence/kent-csi/vol46no1/pdf/v46i1a06p.pdf|title=Soviet Deception in the Cuban Missile Crisis|last=Hansen|first=James H.|work=Learning from the Past|accessdate=2 May 2010}}</ref> सोवियत कोड नाम रखा गया ऑपरेशन अनादीर (Operation Anadyr), जो बेरिंग सागर में समाने वाली एक नदी, चुकोत्स्की जिले की राजधानी और सुदूर पूर्वी क्षेत्र स्थित एक बमवर्षक अड्डे का भी नाम है। आंतरिक व बाहरी लोगों से इस कार्यक्रम को छुपाने के लिए यह सब किया गया।<ref name="hansen" />
 
1962 के शुरू में, एक कृषि प्रतिनिधिमंडल के साथ सोवियत सैन्य और मिसाइल निर्माण विशेषज्ञों का एक दल हवाना पहुंचा.पहुंचा। उन्होंने क्यूबा के नेता [[फिदेल कास्ट्रो|फिडेल कास्त्रो]] के साथ एक बैठक की. क्यूबा के नेतृत्व को पूरी आशंका थी कि यू॰एस॰ (U.S.) फिर से क्यूबा पर करेगा और इसीलिए बड़े उत्साह के साथ उन्होंने क्यूबा में नाभिकीय मिसाइलें लगाने के विचार को मंजूरी दे दी. जुलाई में "मशीन ऑपरेटरों", "सिंचाई विशेषज्ञों" और "कृषि विशेषज्ञों" के वेश में मिसाइल निर्माण विशेषज्ञ वहां पहुंच गये।<ref name="hansen" /> सोवियत रॉकेट बलों के प्रमुख मार्शल सेर्गेई बिर्युज़ोव ने क्यूबा का दौरा करने वाले एक सर्वेक्षण दल का नेतृत्व किया। उन्होंने ख्रुश्चेव को बताया कि मिसाइलों को ताड़ के पेड़ों से छुपाया जाएगा और वैसा छद्मावरण बनाया जाएगा.<ref name="afmag" />
 
क्यूबा का नेतृत्व तब और अधिक परेशान हुआ, जब सितंबर में कांग्रेस ने यू॰एस॰ (U.S.) संयुक्त प्रस्ताव 230 को अनुमोदित कर दिया, जो अमेरिकी हितों पर खतरा होने पर क्यूबा के विरुद्ध सैन्य शक्ति के इस्तेमाल की इजाजत देता था।<ref name="blight" /> उसी दिन, यू॰एस॰ (U.S.) ने कैरिबियाई सागर में एक बड़े सैन्य अभ्यास, PHIBRIGLEX-62, की घोषणा कर दी, जिसे सुविचारित उकसावा बताकर क्यूबा ने उसकी निंदा की और इसे यू॰एस॰ (U.S.) द्वारा क्यूबा पर हमला करने की योजना बनाने का सबूत बताया.<ref name="blight" /><ref>{{cite web|url=http://library.thinkquest.org/10826/cuba.htm |title=The Days the World Held Its Breath |accessdate=4-3-2010 |publisher= |date=1997-07-31}}</ref>
== मिसाइल प्रतिवेदित ==
 
इन मिसाइलों के जरिये सोवियत संघ ने वस्तुतः पूरे महाद्वीपीय संयुक्त राज्य अमेरिका को अपने प्रभावी निशाने पर ले लिया.लिया। चालीस लांचरों का आयोजित शस्त्रागार था। क्यूबा की आबादी ने तत्काल मिसाइलों के आगमन और तैनाती पर ध्यान दिया और सैकड़ों रिपोर्ट मियामी पहुंची. यू॰एस॰ (U.S.) खुफिया विभाग को असंख्य रिपोर्ट मिली, उनमें से अनेक संदेहास्पद प्रकार की थीं या हास्यास्पद थीं और उनमें से अधिकांश को रक्षात्मक मिसाइलें मानकर खारिज किया जा सकता था। केवल पांच रिपोर्टों ने विश्लेषकों को चिंतित किया। उन रिपोर्टों में रात के वक्त शहरों से बहुत लंबे कैनवास से ढंकी सिलिंडरनुमा वस्तुओं को बड़े ट्रकों के जरिये ले जाने के वर्णन थे, जिन्हें बिना मदद और युक्ति के शहरों में मोड़ा नहीं जा सकता था। रक्षात्मक मिसाइलें ऐसा कर सकती थीं। इन रिपोर्टों को संतोषजनक ढंग से खारिज नहीं किया जा सका.<ref name="GWUgraybeal">{{cite web| url = http://www.gwu.edu/~nsarchiv/coldwar/interviews/episode-21/graybeal3.html | publisher = [[George Washington University]], National Security Archive |work=Cold War Interviews | title = Interview with Sidney Graybeal - 29.1.98 | work=Episode 21 |date=March 14, 1999}}</ref>
 
=== यू-2 विमानों ने मिसाइलों को खोज निकाला ===
=== राष्ट्रपति को सूचना ===
 
बुधवार, 17 अक्टूबर को, सीआईए के राष्ट्रीय फोटोग्राफिक खुफिया केंद्र ने यू-2 तस्वीरों की समीक्षा की और वस्तुओं की पहचान करके उनकी व्याख्या मध्यम दूरी की प्राक्षेपिक मिसाइलों के रूप में की. उस शाम, सीआईए ने विदेश विभाग को सूचित किया और रात 8.30 EST राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मैकजॉर्ज बंडी ने राष्ट्रपति को बताने के लिए सुबह तक इंतजार करना तय किया। रक्षा सचिव रॉबर्ट एस. मैकन्मारा को आधी रात में जानकारी दी गयी.गयी। गुरुवार की सुबह 8:30 ईएसटी (EST) बजे बंडी ने कैनेडी के साथ मुलाकात की और उन्हें यू-2 से ली गयी तस्वीरें दिखाया और उन तस्वीरों के बारे में सीआईए के विश्लेषण से अवगत कराया.<ref>{{cite web| url=http://www.loc.gov/exhibits/archives/colc.html |title=Revelations from the Russian Archives | publisher=Library of Congress |accessdate=2010-04-20}}</ref> {{Failed verification|date=July 2010}} शाम 6:30 EST कैनेडी ने राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के नौ सदस्यों और पांच अन्य प्रमुख सलाहकारों<ref>{{cite web |url=http://www.jfklibrary.org/jfkl/cmc/cmc_misc_transcripts.html |title=Cuban Missile Crisis: Miscellaneous Transcripts |accessdate=201-5-4|publisher-John F. Kennedy Museum and Presidential Library }}</ref> की एक बैठक बुलायी, राष्ट्रीय सुरक्षा कार्रवाई ज्ञापन 196 के 22 अक्टूबर के तथ्य के बाद उन्होंने औपचारिक रूप से एक समूह में राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की कार्यकारी समिति के नाम घोषित किये.<ref>{{cite web| url=http://www.jfklibrary.org/jfkl/cmc/cmc_misc_transcripts.html |title=National Security Action Memorandum 196 |accessdate=2010-05-02|publisher=JFK Presidential Library and Museum}}</ref>
 
=== प्रतिकिया पर विचार ===
[[चित्र:McNamara and Kennedy.jpg|left|thumb|राष्ट्रपति कैनेडी और रक्षा सचिव मैकनैमारा एक्सॉम (EXCOMM) की बैठक में.]]
 
तब एक्सॉम (EXCOMM) ने शक्ति के सामरिक संतुलन, राजनीतिक और सैनिक दोनों पर पड़ने वाले प्रभाव पर चर्चा की. संयुक्त चीफ्स ऑफ स्टाफ का मानना था कि मिसाइलों से सैन्य संतुलन गंभीर रूप से बदल जाएगा, लेकिन रक्षा सचिव रॉबर्ट मैकन्मारा ने इससे असहमति जतायी. उन्हें यकीन था कि मिसाइलों से सामरिक संतुलन पर बिल्कुल कोई असर नहीं पड़नेवाला. उनका कहना था कि अतिरिक्त चालीस से समग्र सामरिक संतुलन पर कोई ख़ास फर्क नहीं पडेगा. यू॰एस॰ (U.S.) के पास पहले से ही लगभग 5,000 सामरिक स्फोटक शीर्ष (वारहेड्स) थे, जबकि सोवियत संघ के पास सिर्फ 300.<ref>{{cite book|first=Robert Evan |last=Ornstein |title=New world new mind: moving toward conscious evolution|publisher=The University of Michigan, Doubleday |year=1989|unused_data=others}}</ref>{{rp|261}} उन्होंने कहा कि इसलिए सोवियत संघ के पास 340 होने में सामरिक संतुलन मूलतः नहीं बदलने वाला. 1990 में उन्होंने दोहराया कि "इससे कोई अंतर ''नहीं'' आया.आया।..सैन्य संतुलन नहीं बदला था। मैं तब भी नहीं मानना था और मैं अब भी नहीं मानता हूं."<ref>{{cite book|last=Blight| first=J.|coauthors=Welch, D. |title=On the Brink: Americans and Soviets Reexamine the Cuban Missile Crisis |publisher= Noonday Press |year=1990}}</ref>
 
एक्सॉम (EXCOMM) सहमत था, हालांकि, मिसाइलों से ''राजनीतिक'' संतुलन प्रभावित हो रहा था। सबसे पहले, कैनेडी ने संकट से एक माह पहले अमेरिकी जनता से स्पष्ट वादा किया था कि "अगर अमेरिका के खिलाफ आक्रामक कार्रवाई करने लायक क्षमता से संपन्न होता है।..तो अमेरिका कार्रवाई करेगा,"<ref>{{cite journal|unused_data=DUPLICATE DATA: title=In Public Papers of the Presidents: John F Kennedy, 1962|last=Kennedy |first=J. |title=The President's News Conference of September 13, 1962 |location=Washington, DC |publisher= Government Printing Office |year=1963}}</ref>{{rp|674-681}} दूसरे, उसके सहयोगियों और अमेरिकी जनता के बीच यू॰एस॰ (U.S.) की विश्वसनीयता को क्षति पहुंचेगी, अगर वे क्यूबा में मिसाइल लगाने के जरिये सामरिक संतुलन को बदलता ''दिखाने'' की सोवियत संघ को इजाजत देते हैं। संकट के बाद कैनेडी ने कहा कि "इससे राजनीतिक रूप से शक्ति संतुलन बदल जाता. ऐसा आभास हो रहा था और आभास का वास्तविकता में योगदान होता है।"<ref>{{cite journal|last=Kennedy, J. |title=After Two Years: A conversation with the president |format=Television and radio interview |date=December 17, 1962 |work=In 'Public Papers of the Presidents: John F. Kennedy, 1962' |location=Washington, DC. |publisher=Government Printing Office |year=1963}}</ref>{{rp|889-904}}
=== संगरोध को चुनौती ===
 
गुरुवार की सुबह 7:15 ईएसटी (EST) बजे यूएसएस ''एसेक्स'' (USS Essex) और यूएसएस ''गेयरिंग'' (USS Gearing) ने ''बुखारेस्ट'' को बीच में रोकने का प्रयास किया मगर ऐसा करने में विफल रहे. काफी हद तक निश्चित था कि उस टैंकर में कोई सैन्य सामग्री नहीं थी, इसे नाकाबंदी से जाने की अनुमति दे दी गयी थी। बाद में उस दिन, शाम 5:43 पर, नाकाबंदी प्रयास के कमांडर ने यूएसएस ''कैनेडी'' को लेबनानी मालवाहक जहाज ''मरुक्ला'' (Marucla) को रोकने और उस पर चढ़ने का आदेश दिया. यह काम अगले दिन हुआ और उसके कार्गो की जांच के बाद ''मरुक्ला'' को नाकाबंदी से बहार जाने की अनुमति दे दी गयी.गयी।<ref>{{cite web|url=http://www.battleshipcove.org/news-boarding-marucla.htm|title=Boarding MARUCLA: A personal account from the Executive Officer of USS Joseph P. Kennedy, Jr.|last=Reynolds|first=K.C.|accessdate=2010-06-22}}</ref>
 
25 अक्तूबर, गुरुवार की शाम 5:00 ईएसटी (EST) बजे विलियम क्लीमेंट्स ने घोषणा की कि क्यूबा में मिसाइलों पर अभी भी सक्रिय रूप से काम किया जा रहा है। बाद में सीआईए (CIA) की एक रिपोर्ट द्वारा इस रिपोर्ट को सत्यापित किया गया, जिसके अनुसार काम ज़रा भी धीमा नहीं हुआ था। जवाब में, कैनेडी ने सुरक्षा कार्रवाई ज्ञापन 199 जारी किया, इसके द्वारा SACEUR (सोवियत संघ पर पहला हवाई हमला करने का जिसका जिम्मा था) के कमांड के तहत विमानों पर परमाणु हथियार लादने के काम के लिए अधिकृत किया गया। दिन के दौरान, सोवियतों ने १४ जहाजों को वापस करके अपनी संगरोध पर प्रतिक्रिया दिखाई, उन जहाजों में संभवतः आक्रामक हथियार लदे थे।<ref name="hpol" />
26 अक्टूबर शुक्रवार की शाम 6:00 ईएसटी (EST) बजे, विदेश विभाग को एक संदेश मिलना शुरू हुआ ‍जो ख्रुश्चेव द्वारा व्यक्तिगत रूप से लिखा गया लगता था। मॉस्कों में तब शनिवार रात 2:00 बजे का वक्त था। लंबे पत्र को पहुंचने में कई मिनट लग गए और लंबे पत्र का अनुवाद होने और इसके अनुलेखन में और भी अतिरिक्त समय लग गया।
 
रॉबर्ट कैनेडी ने इसे "बहुत लंबा और भावुक पत्र" कहा. ख्रुश्चेव ने बुनियादी रूपरेखा को दोहराया, जिसके बारे में जॉन स्कैली को एक दिन पहले ही कहा गया था, "मेरा प्रस्ताव है: अपनी ओर से हम यह घोषणा करेंगे कि क्यूबा के लिए हमारे पोतों में कोई भी हथियारों नहीं होंगे. आप घोषणा करेंगे कि संयुक्त राज्य अमेरिका क्यूबा पर हमला नहीं करेगा और किसी अन्य बलों का, जो क्यूबा पर हमला करने की मंशा रखता हो, का समर्थन नहीं करेगा. तब क्यूबा में हमारे सैन्य विशेषज्ञों की उपस्थिति की आवश्यकता नहीं रह जाती है।" शाम 6:45 ईएसटी (EST) बजे स्कैली को दिया गया फोमिन का प्रस्ताव अंतत: सुना गया और ख्रुश्चेव के पत्र के आगमन के सिलसिले में एक "तैयारी" के रूप में इसकी व्याख्या की गयी.गयी। पत्र को तब आधिकारिक और यर्थाथ माना गया, हालांकि बाद में यह पता चला कि फोमिन कुछ हद तक निश्चित रूप में बैगर किसी आधिकारिक समर्थन के स्वयं अपने तई यह कर रहे थे। पत्र के अतिरिक्त अध्ययन का आदेश दिया गया और यह काम रात भर चलता रहा.
 
=== संकट जारी रहा ===
27 अक्टूबर की शनिवार सुबह 9:00 ईएसटी (EST) बजे रेडियो मास्को ने ख्रुश्चेव के एक संदेश का प्रसारण शुरू किया। पिछली रात के पत्र के विपरीत इस संदेश में एक नया प्रस्ताव दिया गया, कि इटली और तुर्की से जूपिटर मिसाइलें हटा ली गयीं तो बदले में क्यूबा से मिसाइलें हटा ली जाएंगी. सुबह 10:00 ईएसटी (EST) बजे स्थिति पर चर्चा के लिए कार्यकारी समिति की फिर से बैठक हुई और यह निष्कर्ष निकला कि क्रेमलिन में ख्रुश्चेव और पार्टी के अन्य अधिकारियों के बीच आंतरिक तर्क-वितर्क के बाद संदेश में परिवर्तन हुआ।<ref>{{cite book |title=For the President's Eyes Only: Secret Intelligence and the American Presidency from Washington to Bush |last=Christopher |first= Andrew |pages=688 |isbn=0060921781|publisher=Harper Perennial |date=March 1, 1996}}</ref>{{rp|300}} मैकनैमारा ने पाया कि ''ग्रोज्नी'' नाम का एक और टैंकर रवाना होने{{convert|600|mi|km|-1}} को है, उसे रोक दिया जाना चाहिए. उन्होंने यह भी पाया कि उनलोगों ने यूएसएसआर (USSR) को संगरोधी रेखा के बारे में जागरूक नहीं किया गया है, इसीलिए संयुक्त राष्ट्र में [[यू थान्ट|यू थांट]] के जरिए उन्हें यह सूचना पहुंचा देने का उन्होंने सुझाव दिया.
 
[[चित्र:U-2F refueling from KC-135Q.jpg|thumb|left|एक U-2F लॉकहीड, बहुत ही ऊंचाई टोही जैसा जिसे क्यूबा में मार गिराया गया था, एक बोइंग KC-135Q द्वारा ईंधन भरा जा रहा है। 1962 में इस विमान को पूरी तरह से ग्रे रंग किया गया और उसमें USAF सैन्य प्रतीक और राष्ट्रीय चिह्न लगाए गए.गए।]]
जबकि बैठक जारी रहने के दौरान सुबह 11:03 ईएसटी (EST) बजे ख्रुश्चेव की ओर से एक नया संदेश आना शुरू हुआ, संदेश के एक भाग में कहा गया,
 
 
[[चित्र:Engine u2.jpg|thumb|लॉकहीड U-2 का इंजन, जिसे क्यूबा में मार गिराया गया था, हवाना के म्यूजियम ऑफ रेवलूशन में प्रदर्शित.]]
27 अक्टूबर की सुबह, यूएसएएफ (USAF) मेजर रुडोल्फ एंडरसन द्वारा चलाया जानेवाला एक यू-2एफ (U-2F) (हवा में ईंधन भरनेवाले के लिए सीआईए यू-2ए (CIA U-2A) को तीसरी बार रूपांतरित किया गया)<ref>पोकोक, क्रिस, "50 इयर्स ऑफ़ द यु-2: द कम्प्लीट इलस्ट्रेटेड हिस्ट्री ऑफ़ द 'ड्रैगन लेडी', शिफर प्रकाशन, लिमिटेड., एटग्लेन, पेंसिल्वेनिया, लाइब्रेरी ऑफ़ कॉन्ग्रेस कार्ड नं. 2005927577, ISBN 0-7643-2346-6, पृष्ठ 406.</ref> विमान आगे की कार्रवाई स्थल फ्लोरिडा के मैककॉय एएफबी के लिए रवाना कर दिया गया और लगभग दोपहर 12:00 ईएसटी (EST) को क्यूबा से चले एस-75 (S-75) डिविना ([[नाटो]] द्वारा नियुक्त ''SA-2 दिशानिर्देश'' ) एसएएम (SAM) मिसाइल द्वारा विमान पर हमला हुआ। विमान नीचे मार गिराया गया और मेजर एंडरसन मारे गए.गए। यूएसएसआर (USSR) और यू॰एस॰ (U.S.) के बीच वार्ता में तनाव गहरा गया और कुछ समय बाद पता चला कि मिसाइल को छोड़ने का निर्णय एक स्थानीय तौर पर एक अनिश्चित सोवियत कमांडर द्वारा उसके अपने अधिकार के तहत लिया गया था। अगले दिन दोपहर 3:41 (EST) बजे कई यू॰एस॰ (U.S.) नौसेना आरएफ-8ए क्रुसेडर (RF-8A Crusader) विमान निचले स्तर के तस्वीर टोही मिशन पर रवाना हुआ और उनमें से एक पर 37 मिमी गोले द्वारा मार किया गया, लेकिन किसी तरह बेस पर लौटने आया.आया।
 
शाम 4:00 ईएसटी (EST) बजे, कैनेडी ने [[व्हाइट हाउस]] में एक्सॉम (EXCOMM) के सदस्यों की फिर से बुलाया और आदेश दिया कि एक संदेश तुरंत यू थांट को भेजा जाए कि वह सोवियत को कहे कि वार्ता चलने के दौरान वह मिसाइल कार्रवाई को "निलंबित" रखे. इस बैठक के दौरान, मैक्सवेल टेलर ने समाचार दिया कि यू-2 (U-2) को मार गिराया गया है। कैनेडी ने पहले ही कह दिया था कि अगर हमला हुआ तो वे उन स्थलों पर हमले का आदेश देंगे, लेकिन उन्होंने तय किया कि वे ऐसा तब तक नहीं करेंगे जब तक कि दूसरी बार हमला नहीं होता. 40 सालों के बाद मैकनैमारा ने एक साक्षात्कार में कहा:
[[चित्र:ExComm Meeting 29 OCT 1962.jpg|left|thumb|क्यूबा मिसाइल संकट के दौरान 29 अक्टूबर 1962 में व्हाइट हाउस कैबिनेट रूम में आयोजित एक्सॉम (EXCOMM) की एक बैठक. अमेरिकी ध्वज के बाईं ओर राष्ट्रपति कैनेडी; उनके बाईं तरफ के रक्षा सचिव मंत्री रॉबर्ट एस. मैकनैमारा और उनके बाएं राज्य सचिव डीन रस्क.]]
 
जुऑन ब्रिटो की गुजारिश पर फोमिन और स्कैली फिर से मिले. स्कैली ने पूछा कि ख्रुश्चेव के दो पत्र इतने अलग क्यों हैं, तो फोमिन ने दावा दिया कि "खराब संप्रेषण" के कारण ऐसा हुआ होगा. स्कैली ने जवाब दिया कि यह दावा विश्वसनीय नहीं और वे चिल्लाए कि उन्हें सोचा कि यह "एक बेकार धोखा था". वे यह कह कर चले गए कि आक्रमण अब केवल कुछ ही घंटे का मामला है, इस बिंदु पर फोमिन ने कहा कि ख्रुश्चेव से यू॰एस॰ (U.S.) के संदेश की प्रतिक्रिया की उम्मीद की जा रही है और उन्होंने स्कैली से विदेश विभाग को यह कहने का आग्रह किया कि छल करने का ऊनका कोई इरादा नहीं था। स्कैली ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि कोई इस पर विश्वास करेगा, लेकिन वे संदेश दे देने के लिए सहमत हो गए.गए। दोनों अपने-अपने अलग रास्तों पर चले गए और स्कैली ने एक्सॉम (EXCOMM) के लिए तुरंत एक ज्ञापन टाइप किया।{{Citation needed|date=May 2010}}
 
यू॰एस॰ (U.S.) प्रतिष्ठान के भीतर इसे अच्छी तरह समझ लिया गया कि दूसरे प्रस्ताव की अनदेखी करने और पहले को मान लेने से ख्रुश्चेव एक भयानक स्थिति पड़ गए हैं। सैन्य तैयारियां जारी रही और संभावित कार्रवाई के लिए एअर फोर्स के सभी अधिकारियों को सक्रिय ड्यूटी के लिए उनके अड्डों पर वापस बुला लिया गया। बाद में रॉबर्ट कैनेडी ने उस मनोदशा को याद करते हुए कहा, "हमलोगों ने उम्मीद एकदम से नहीं छोड़ दी थी, लेकिन अगले कुछ घंटों में अपनी स्थिति का जब ख्रुश्चेव पुनरावलोकन करने लगे हों तो अब और क्या उम्मीद की जा सकती थी। यह एक उम्मीद थी, न कि अपेक्षा. मंगलवार या संभवत: कल तक सैन्य संघर्ष की अपेक्षा थी। .."{{Citation needed|date=May 2010}}
कैनेडी ने तुरंत बयान जारी करते हुए इसे "शांति के लिए एक महत्वपूर्ण और रचनात्मक कदम" बताया. एक औपचारिक पत्र में उन्होंने आगे कहा: "सत्ताइस अक्टूबर को आपको लिखे गए मेरे पत्र और आज आपके जवाब को मैं हमारी दोनों सरकारों का दृढ़ उपक्रम मानता हूं, जिसे मुस्तैदी के साथ जारी रखा जाना चाहिए... क्यूबा के संदर्भ में सुरक्षा परिषद के ढांचे के तहत यू॰एस॰ (U.S.) एक बयान देगा, जो इस तरह है: यह घोषणा की जाएगी कि संयुक्त राज्य अमेरिका क्यूबा की सीमाओं की अनुल्लंघनीयता, इसकी संप्रभुता का सम्मान करेगा, आंतरिक मामले में दखल नहीं देगा, अतिक्रमण नहीं करने और क्यूबा पर हमला करने के लिए एक मोर्चे के रूप में अपनी भूमि के इस्तेमाल करने की अनुमति नहीं देने की शपथ लेगा और यू.एस (U.S.) की जमीन पर से या क्यूबा के पड़ोसी देश की जमीन से क्यूबा पर आक्रमण करने की योजना बनाने वालों को रोकेगा."<ref name="Faria">{{cite web|last=Faria |first=Miguel |title=Cuba in Revolution—Escape from a Lost Paradise |year=2002 |publisher= Hacienda Publishing |location=Macon, Georgia | ISBN=0-9641077-3-2}}</ref>{{rp|103}}
 
यू॰एस॰ (U.S) ने संगरोध जारी रखा और अगले दिनों में, हवाई जांच ने साबित कर दिया कि सोवियत का मिसाइल प्रणालियों को दूर हटाने का काम प्रगति पर था। 42 मिसाइलों और उनके सहयोगी उपकरणों को आठ सोवियत जहाज पर लाद दिया गया था। 5-9 नवंबर तक जहाजों ने क्यूबा छोड़ दिया. यू॰एस॰ (U.S.) ने अंतिम दृश्य जांच किया कि हरेक जहाज संगरोधी लाइन को पार चुका हैं या नहीं. सोवियत आईएल-28 बमवर्षकों को हटाने के लिए आगे और भी राजनयिक प्रयासों की जरूरत थी और 5 तथा 6 दिसंबर को वे तीन सोवियत जहाजों में लाद दिए गए.गए। संगरोध औपचारिक रूप से 20 नवंबर 1962 को शाम 6:45 ईडीटी (EDT) बजे समाप्त हो गया।<ref name="global">{{cite web|url=http://www.globalsecurity.org/military/ops/cuba-62.htm|title=Cuban Missile Crisis|publisher=Global Security|accessdate=6 May 2010}}</ref>
 
यू॰एस॰ (U.S.) एटॉर्नी जनरल रॉबर्ट कैनेडी ने सोवियत राजदूत एंटोनी डोब्रेनि‍न से अपने समझौते में अनौपचारिक रूप से प्रस्ताव दिया कि [[तुर्की]] में जूपिटर मिसाइलों को "संकट खत्म होने के कुछ ही दिनों के भीरत" हटा लिया जाएगा.<ref>{{cite book | last=Glover |first=Jonathan |title=Humanity: a moral history of the twentieth century |url=http://books.google.com/?id=xtqFJVhmuowC |accessdate=2009-07-02 |year=2000 |publisher=Yale University Press |isbn=0300087004 |pages=464 }}</ref>{{rp|222}} आखिरी यू॰एस॰ (U.S.) मिसाइलों को 24 अप्रैल 1963, तक खोलकर अलग-अलग कर दिया गया और इसके तुरंत बाद उन्हें तुर्की से बाहर भेज दिया गया।<ref>{{cite book |last=Schlesinger |first=Arthur |title=Robert Kennedy and his times |url=http://books.google.com/?id=0xqrU5lnD7AC&pg=PA528&dq=robert+kennedy+ambassador++cuban+missile |accessdate=July 2, 2009 |year=2002 |publisher=Houghton Mifflin Harcourt |isbn=0618219285 |page=523 |pages=1088 }}</ref>
 
कैनेडी-ख्रुश्चेव की इस संधि का व्यावहारिक प्रभाव यह हुआ कि इसने प्रभावी ढंग से क्यूबा में कास्त्रो की स्थिति को मजबूत किया, साथ में निश्चित किया कि यू॰एस॰ (U.S.) क्यूबा पर आक्रमण नहीं करेगा. यह संभव है कि ख्रुश्चेव ने क्यूबा में मिसाइलों को केवल इसलिए रखा था ताकि कैनेडी इटली और तुर्की से मिसाइले हटा ले, जबकि सोवियत का परमाणु युद्ध की शरण में जाने का कोई इरादा नहीं था; बशर्ते अमेरिकियों द्वारा गोली मार कर उनकी हत्या कर दी जाए.{{Citation needed|date=May 2010}} बहरहाल, चूंकि दक्षिणी इटली और तुर्की में नाटो (NATO) बेस से जूपिटर मिसाइलों का हटा लिया जाना उस समय सार्वजनिक नहीं किया गया था, इसीलिए ख्रुश्चेव संघर्ष को हारते हुए नजर आते हैं और कमजोर हो जाते है। धारणा यह बनी कि महाशक्तियों के बीच की लड़ाई में कैनेडी जीत गए और ख्रुश्चेव अपमानित हो गए.गए। हालांकि, यह मामला पूरी तरह से ठीक ऐसा नहीं है क्योंकि कैनेडी और ख्रुश्चेव दोनों ने ही उनकी अपनी सरकारों के दबाव के बावजूद पूर्ण संघर्ष को टाल देने के लिए ही हर कदम उठाया. ख्रुश्चेव अगले दो साल तक सत्ता में बने रहे.<ref name="Faria" />{{rp|102-105}}
 
=== परिणाम ===
ख्रुश्चेव और सोवियत संघ के लिए यह समझौता विशेष रूप से बड़ा ही शर्मनाक था, क्योंकि अमेरिकी मिसाइलों को इटली और तुर्की से हटा लेने को सार्वजनिक नहीं किया गया था - यह कैनेडी और ख्रुश्चेव के बीच एक गुप्त समझौता था। सोवियत संघ उन परिस्थितियों से पीछे हटता हुआ नजर आ रहा था जिसकी शुरूआत उनलोगों ने की थी - हालांकि इसे अगर ठीक ढंग से निभाया गया होता तो इसे विपरीत रूप में देखा जा सकता था। ख्रुश्चेव के सत्ता से हट जाने के दो साल बाद भी उनकी यू॰एस॰ (U.S.) को संभावित रूप से रियायत देने और उचित समय पर संकट से बेखबर होने की अयोग्यता दोनों ह‍ी पोलिटब्यूरो की शर्मिंदगी में उनकी आंशिक हिस्सेदारी हो सकती है। हालांकि, क्यूबा मिसाइल संकट ख्रुश्चेव के पतन के लिए अकेले जिम्मेदार नहीं था।{{Citation needed|date=May 2010}}
 
इस संकट का हल किस तरह किया जाए इसका निर्णय कैनेडी और ख्रुश्चेव द्वारा लिये जाने को क्यूबा ने इसे सोवियत संघ द्वारा आंशिक रूप से किए विश्वासघात के रूप में लिया.लिया। क्यूबा के हित के लिए ग्वांटानामो की स्थिति जैसे कुछ मुद्दे को इसमें शामिल नहीं किए जाने से कास्त्रो विशेष रूप से परेशान थे। इस कारण क्यूबा-सोवियत के संबंध कुछ सालों के लिए खराब हो गए.गए।<ref name="Ramonet">{{cite book|first=Ramonet|last=Ignacio |title=Fidel Castro: My Life |publisher=Penguin Books |year=2007|isbn=978-0-1410-2626-8}}</ref>{{rp|278}} दूसरी ओर, आक्रमण से क्यूबा की रक्षा भी जारी रही.
 
इस नतीजे से यू॰एस॰ (U.S.) के एक सैन्य कमांडर बहुत खुश नहीं थे। जनरल लेमे ने राष्ट्रपति से कहा कि "हमारे इतिहास में यह सबसे बड़ी हार है" और यू॰एस॰ (U.S.) को तुरंत क्यूबा पर आक्रमण करना चाहिए.
1992 के शुरू में, इसकी पुष्टि हो गयी थी कि संकट टलने तक क्यूबा में सोवियत सेना ने अपने तोपों के रॉकेट और Il-28 बमवर्षक विमानों के लिए सामरिक परमाणु स्फोटक शीर्ष प्राप्त कर लिया था।<ref name="aca">{{cite web |url=http://www.armscontrol.org/act/2002_11/cubanmissile.asp |title=Arms Control Association: Arms Control Today}}</ref> कास्त्रो ने कहा है कि अगर यू॰एस॰ (U.S.) यह जानते हुए भी कि क्यूबा तबाह हो जाएगा, आक्रमण करता है तो वे इनके उपयोग की सिफारिश करेंगे.<ref name="aca" />
 
[[चित्र:Soviet b-59 submarine.jpg|thumb|यू॰एस॰ (U.S.) नौसेना HSS-1 सीबैट हेलीकॉप्टर, सोवियत पनडुब्बी B-59 पर चक्कर लगाता है, जिसे यू॰एस॰ (U.S.) नौसेना बल द्वारा क्यूबा के करीब कैरेबियन समुद्र पर जबरन उतरा गया।]]विवादास्पद रूप से इस संकट में सबसे खतरनाक क्षण की पहचान अक्टूबर 2002 को क्यूबन मिसाइल क्राइसेस हवाना सम्मेलन के दौरान ही की गयी थी। संकट के कई दिग्गजों ने इसमें भाग लिया, उन सब को पता चला कि 26 अक्टूबर 1962 को यूएसएस बाले (USS Beale) ने पीछे किया और सोवियत प्रोजेक्ट 641 (नाटो (NATO) द्वारा दिया गया नाम ''फॉक्सट्रोट'' (Foxtrot)) बी-59 नाम की पनडुब्बी पर गहराई तक संकेत देनेवाले चार्जर (हथगोले का आकार) गिरा दिया, यू॰एस॰ (U.S.) इस बात से अनजान था कि पनडुब्बी 15 किलोटन परमाणु टारपिडो से लैस था। हवा में उड़ते हुए अमेरिकी युद्धपोत से सोवियत पनडुब्बी घिर गयी थी और उसे सतह पर आने की बहुत जरूरत थी। बी-59 के तीन अधिकारियों, जिसमें पनडुब्बी के कैप्टन वैलेंटिन सैवितस्की, राजनीतिक अधिकारी इवान सेमोनोविच मास्लेनिकोव और उप ब्रिगेड कमांडर सेकेंड कैप्टन वैसिली अर्खिपोव शामिल थे, के बीच बड़ा तर्क-वितर्क हुआ। हताश सैवितस्की आपे से बाहर हो गए और उन्होंने सामना करने लिए पनडुब्बी के बोर्ड पर परमाणु टारपिडो तैयार करने का आदेश दिया. उनमें इस बात को लेकर मतभेद था कि कमांडर अर्खिपोव सैवित्सकी हमला करने की बात पर सहमत है या सैवित्सकी ने अंतत: यह निष्कर्ष निकाला है कि सतह पर आने का केवल यही मुनासिब विकल्प खुला रह गया है।<ref>{{cite book | last=Dobbs |first=Michael |title=One Minute to Midnight: Kennedy, Khrushchev, and Castro on the Brink of Nuclear War |publisher=Alfred A. Knopf |location=New York |year=2008 |isbn=978-1-4000-4358-3}}</ref>{{rp|303, 317}} सम्मेलन के दौरान रॉबर्ट मैकनैमारा ने कहा कि लोगों ने जितना सोचा था परमाणु युद्ध उससे बहुत करीब आ पहुंचा है। नेशनल सिक्योरिटी आर्काइव के निदेशक थॉमस ब्लैंटन ने कहा, "वैसिली ‍आर्खिपोव नाम के शख्स ने दुनिया को बचा लिया.लिया।"
 
2003 के वृत्तचित्र ''द फॉग ऑफ वार'' (The Fog of War) में यह संकट अच्छी तरह केंद्रित था, जिसने ऑस्कर जीता.