"अंग्रेजी शब्दकोशों का इतिहास" के अवतरणों में अंतर

आकार में कोई परिवर्तन नहीं ,  7 वर्ष पहले
छो
बॉट: डॉट (.) और शून्य (०/0) को पूर्णविराम (।) और लाघव चिह्न (॰) से बदला।
छो (बॉट: छोटे कोष्ठक () की लेख में स्थिति ठीक की।)
छो (बॉट: डॉट (.) और शून्य (०/0) को पूर्णविराम (।) और लाघव चिह्न (॰) से बदला।)
 
== नैथन बेली ==
सौ वर्षों तक अंग्रेजी की कोशरचना का उपर्युक्त क्रम चलता रहा जिनके शब्दसंकलन में विशिष्ट शब्दों की ही मुख्यता बनी रही। भाषा में प्रयुक्त समस्त सामान्य और विशिष्ट शब्दों का कोश बनाने में विद्वान् प्रवृत्त नहीं हुए थे। '[[नैथन वेली]]' ने सर्वप्रथम ऐसे कोशके निर्माण की योजना बनाई जिसमें अंग्रेजी के समस्त शब्दों के समावेश का प्रयास किया गया। इसका नाम था '''युनिवर्सल इटिमाँलाजिकल इंगिलिश डिक्शनरी'''। इसमें अनेक विशेषताएँ थी। संकलित शब्दों के विकासक्रम का संकेत दिया गया था। साथ ही इसमें व्युत्पत्ति देने की भी चेष्टा की गई। १७२९ में इसका प्रथम संस्करण प्रकाशित हुआ। १७३९ में प्रकाशित दूसरे संस्करण में शब्दों के उच्चारणबोधक संकेत भी इ समें दिए गए। अंग्रेजी के कोशज्ञ विद्वानों द्वारा यह कोश अत्यंत महत्त्वपूर्ण अंग्रेजी डिक्शनरी माना जाता है। पहला कारण यह था कि डा०डॉ॰ जानसन द्वारा निर्मित ऐतिहासिक महत्व के अंग्रेजी कोश की यह साधारशिला बनी। दूसरा कारण यह था कि इसमें समस्त अंग्रेजी शब्दों के वयाशक्ति संकलन का लक्ष्य पहली बार रखा गया। तीसरा कारण व्युत्पत्ति निर्देश करने और उच्चारणसंकेत देने की पद्धति के प्रवर्तन का प्रायास था।
 
== जाँनसन का अंग्रेजी कोश (१७४७ — १७५५ ई०) ==