"हाइड्रोक्लोरिक अम्ल" के अवतरणों में अंतर

छो
बॉट: कोष्टक () की स्थिति सुधारी।
छो (बॉट: अंगराग परिवर्तन।)
छो (बॉट: कोष्टक () की स्थिति सुधारी।)
हाइड्रोजन और क्लोरीन के सीधे संयोजन से यह बन सकता है। कहीं कहीं व्यापार का हाइड्रोक्लोरिक अम्ल इसी विधि से तैयार होता है। यह क्रिया सामान्य ताप पर नहीं होती। सूर्यप्रकाश में अथवा २५० डिग्री सें. पर गरम करने से संयोजन [[विस्फोट]] के साथ होता है। साधारणतया [[नमक]] पर [[गंधकाम्ल]] की क्रिया से इसका निर्माण होता है। सामान्य ताप पर हाइड्रोजन क्लोराइड और सोडियम बाइसल्फेट बनते हैं और उच्च ताप पर हाइड्रोजन क्लोराइड ओर सोडियम सल्फेट बनते हैं।
 
NaCl + H<sub>2</sub>SO<sub>4</sub> = Na H S O<sub>4</sub> (सोडियम बाइसल्फेट) + 2HCl
 
2 NaCl + H<sub>2</sub>SO<sub>4</sub> = Na<sub>2</sub>SO<sub>4</sub> (सोडियम सल्फेट) + 2HCl