"धर्म के लक्षण" के अवतरणों में अंतर

6 बैट्स् नीकाले गए ,  7 वर्ष पहले
छो
हलान्त शब्द की पारम्परिक वर्तनी को आधुनिक वर्तनी से बदला।
छो (बॉट: कोष्टक () की स्थिति सुधारी।)
छो (हलान्त शब्द की पारम्परिक वर्तनी को आधुनिक वर्तनी से बदला।)
 
== महात्मा विदुर ==
[[महाभारत]] के महान्महान यशस्वी पात्र [[विदुर]] ने धर्म के '''आठ अंग''' बताए हैं -
 
: '''इज्या (यज्ञ-याग, पूजा आदि), अध्ययन, दान, तप, सत्य, दया, क्षमा और अलोभ'''।
उनका कहना है कि इनमें से प्रथम चार इज्या आदि अंगों का आचरण मात्र दिखावे के लिए भी हो सकता है, किन्तु अन्तिम चार सत्य आदि अंगों का आचरण करने वाला महान्महान बन जाता है।
 
== तुलसीदास द्वारा वर्णित ''धर्मरथ'' ==