मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

छो
बॉट: दिनांक लिप्यंतरण और अल्पविराम का अनावश्यक प्रयोग हटाया।
1999 के अंत में हैम्बर्ग, जर्मनी से आदमियों का एक समूह अफगानिस्तान आया, जिनमें मोहम्मद अत्ता, मरवन अल-शेही, जियाद जर्राह और रैम्जी बिनालशिभ शामिल थे।<ref>{{Cite news|first=Richard |last=Bernstein |title=On Path to the U.S. Skies, Plot Leader Met bin Laden |url=http://www.nytimes.com/2002/09/10/national/10PLOT.html?ex=1221624000&en=30bc6f683535b59f&ei=5070 |publisher=New York Times |date=सितंबर 10, 2002 |accessdate=September 16, 2008}} {{Dead link|date=अक्टूबर 2010|bot=H3llBot}}</ref> ये शिक्षित थे, अंग्रेजी बोल सकते थे और इन्हें पश्चिम में रहने का अनुभव था, इसलिए बिन लादेन ने इन आदमियों को साजिश के लिए चुना।<ref>{{Cite book|author=Wright, Lawrence |title=The Looming Tower |year=2006 |publisher=Alfred P. Knopf |pages=304–307 |isbn=8483068389}}</ref> नए रंगरूटों के कौशल की नियमित जांच होती थी, जिससे अल-कायदा पहचान सका कि हानी हनजौर के पास पहले से ही एक वाणिज्यिक विमान चालक का लाइसेंस था।<ref>{{Cite book|author=Wright, Lawrence |title=The Looming Tower |year=2006 |publisher=Alfred P. Knopf |page=302 |isbn=8483068389}}</ref>
 
हनजौर 8 दिसंबरदिसम्बर 2000 को सैन डिएगो में आ गया और हाजमी से मिला। वे जल्द ही प्रशिक्षण के लिए [[एरीजोना|एरिज़ोना]] चले गए जहां हनजौर ने पुनश्चर्या प्रशिक्षण लिया। मरवन अल-शेही मई 2000 के अंत में आया, जबकि अत्ता 3 जून 2000 को पहुंचा और जर्राह 27 जून 2000 को आया। बिनालशिभ ने कई बार संयुक्त राज्य अमेरिका के वीज़ा के लिए आवेदन किया, किंतु एक [[यमन]] के रूप में उसके वीजा की अवधि के बाद में एक अवैध आप्रवासी के रूप में रहने की आशंका के कारण इंकार कर दिया गया। अट्टा और खालिद शेख मोहम्मद के बीच समन्वय प्रदान करने के लिए हैम्बर्ग में बने रहे। हैम्बर्ग सेल के तीन सदस्यों ने दक्षिण [[फ़्लोरिडा|फ्लोरिडा]] में विमान चालक प्रशिक्षण लिया।
 
2001 वसंत में, पहलवान अपहरणकर्ता संयुक्त राज्य अमेरिका में पहुंचने शुरू हुए।<ref>{{Cite web|url=http://www.9-11commission.gov/staff_statements/911_TerrTrav_Monograph.pdf |format=PDF|title=Staff Monograph on 9/11 and Terrorist Travel |publisher=9/11 Commission |year=2004}}</ref> जुलाई 2001 में, अत्ता बिनालशिभ से स्पेन में मिला, जहां उन्होंने अंतिम लक्ष्य के चयन सहित साजिश के विवरण का समन्वय किया। बिनालशिभ ने बिन लादेन का यह संदेश भी दिया कि हमले, यथासंभव जल्दी से जल्दी किए जाएं.<ref name="irujo">{{Cite news|url=http://www.elpais.com/articulo/espana/Atta/recibio/Tarragona/joyas/miembros/comando/11-S/hiciesen/pasar/ricos/saudies/elpepiesp/20040321elpepinac_11/Tes/ |title=Atta recibió en Tarragona joyas para que los miembros del 'comando' del 11-S se hiciesen pasar por ricos saudíes |publisher=El Pais |date=मार्च 21, 2004 |author=Irujo, Jose Maria |accessdate=September 15, 2008 |language=Spanish}}</ref>
शुरू में बिन लादेन ने toइनकार किया, लेकिन बाद में घटनाओं में भागीदारी स्वीकार कर ली.<ref name="cbc-2004"/><ref name="ajNov2004">{{Cite news|archiveurl=http://web.archive.org/web/20070613014620/http://english.aljazeera.net/English/archive/archive?ArchiveId=7403 |archivedate=April 10, 2007 |url=http://english.aljazeera.net/English/archive/archive?ArchiveId=7403 |title=Full transcript of bin Ladin's speech |publisher=[[Al Jazeera]] |date=नवम्बर 2, 2004 |accessdate=May 20, 2008}}</ref> 16 सितंबर 2001 को [[क़तर|कतर]] के [[अल जजीरा|अल-जजीरा]] सेटेलाइट टेलीविजन पर प्रसारित एक वक्तव्य पढ़ते हुए बिन लादेन ने हमलों में उसके शामिल होने से इनकार कियाः "मैं जोर देकर कहता हूं कि मैं ने यह काम नहीं किया है, ऐसा लगता है कि यह काम किन्हीं व्यक्तियों द्वारा अपनी स्वयं की प्रेरणा से किया गया है।"<ref>{{Cite news|title=Pakistan to Demand Taliban Give Up Bin Laden as Iran Seals Afghan Border |url=http://www.foxnews.com/story/0,2933,34440,00.html |publisher=[[Fox News Channel]] |date=सितंबर 16, 2001 |accessdate=May 20, 2008}}</ref> इस इन्कार को अमेरिका और दुनिया भर में समाचार नेटवर्कों पर प्रसारित किया गया।
 
नवंबर 2001 में अमेरिकी सेना ने जलालाबाद, [[अफ़्गानिस्तान|अफगानिस्तान]] में एक नष्ट मकान से बरामद एक वीडियो टेप बरामद किया जिसमें ओसामा बिन लादेन खालिद अल-हरबी से बात कर रहा था। टेप में लादेन ने यह माना था कि उसे हमलों का पूर्वज्ञान था।<ref>{{Cite news|title = Bin Laden on tape: Attacks 'benefited Islam greatly'| publisher = CNN| date= December 14, 2001| url = http://archives.cnn.com/2001/US/12/13/ret.bin.laden.videotape/| accessdate = November 9, 2007 |quote=Reveling in the details of the fatal attacks, bin Laden brags in Arabic that he knew about them beforehand and says the destruction went beyond his hopes. He says the attacks "benefited Islam greatly"।}}</ref> इस टेप को 13 दिसंबरदिसम्बर 2001 से विभिन्न समाचार नेटवर्क पर प्रसारित किया गया। टेप पर उसकी विकृत छवि के लिए टेप स्थानान्तरण की तकनीक को जिम्मेदार ठहराया गया है।<ref>{{Cite web|author=Haas, Ed |title=Taking the fat out of the fat bin Laden confession video |date=मार्च 7, 2007 |publisher=Muckraker Report |url=http://muckrakerreport.com/id372.html |accessdate=May 1, 2008}}</ref> बिन लादेन को पूर्वज्ञान होने के विस्तृत घटनाक्रम का खुलासा सितम्बर 2002 में एक वृत्तचित्र निर्माता योसरी फाउदा द्वारा खालिद शेख मोहम्मद और रैम्जी बिनालशिभ के साथ आयोजित एक साक्षात्कार में हुआ: अमेरिका में शहादत ऑपरेशन शुरू करने का निर्णय अल-कायदा की सैन्य समिति द्वारा 1999 के आरंभ में लिया गया था;
हमले के लिए तारीख (9/11/01) पर निर्णय लेने के बाद, अत्ता ने 29 अगस्त, 2001 को बिनालशिभ को सूचना दी और बिन लादेन को यह सूचना 6 सितम्बर 2001 को दी गई थी।<ref>{{Cite news|title= Al-Qaeda 'plotted nuclear attacks'|publisher = BBC News|date = September 8, 2002
| url=http://news.bbc.co.uk/2/hi/middle_east/2244146.stm |accessdate = Jan 2010}}</ref>
 
27 दिसंबर,दिसम्बर 2001 को, बिन लादेन का एक दूसरा वीडियो जारी किया गया था। इस वीडियो में वह कहता है कि, "हमारे लोगों को मारने वाले [[इज़रायल|इसरायल]] का समर्थन करने से अमेरिका को रोकने के उद्देश्य से अमेरिका के खिलाफ आतंकवाद प्रशंसा का हकदार है, क्योंकि यह अन्याय की प्रताक्रिया थी," लेकिन उसने हमलों की जिमेमोदारी स्वीकार करना बंद कर दिया।<ref>{{Cite news|title = Transcript: Bin Laden video excerpts
| publisher = BBC News| date= December 27, 2001| url = http://news.bbc.co.uk/1/hi/world/middle_east/1729882.stm| accessdate = September 7, 2006}}</ref>
 
जकेरियस मुसावयी के मुकदमे में "खालिद शेख मोहम्मद की गवाही के लिए प्रतिस्थापन" में ऑपरेशन के विवरण से पूर्णतः वाकिफ पांच लोगों की पहचान की गई है। वे हैं, ओसामा बिन लादेन, खालिद शेख मोहम्मद, रैम्जी बिनालशिभ, अबु तुरब अल-उर्दुनी और मोहम्मद आतिफ.<ref>{{Cite web| title=Substitution for Testimony of Khalid Sheikh Mohammed| page=24| url=http://www.vaed.uscourts.gov/notablecases/moussaoui/exhibits/defense/941.pdf| year=2006| work=[[United States District Court for the Eastern District of Virginia]]| publisher=United States Department of Justice| accessdate=May 20, 2008|format=PDF}}</ref> आज तक, केवल सतही लोगों पर हमलों के लिए मुकदमा चला है या सजा हुई है। बिन लादेन पर अभी तक औपचारिक रूप से हमलों का अभियोग नहीं लगाया गया है।<ref>{{Cite web| last=Clewley| first=Robin|title=How Osama Cracked FBI's Top 10| publisher=[[Wired (magazine)|Wired]]| date=September 27, 2001| url=http://www.wired.com/politics/law/news/2001/09/47109| accessdate=July 6, 2007|archiveurl=https://archive.is/hoPk|archivedate=May 26, 2012}}</ref>
 
26 सितंबर 2005 को न्यायाधीश बाल्टासर गरजों के निदेश पर स्पेनिश उच्च न्यायालय ने अबू दाहदाह को 9/11 हमले में षड़यंत्र के लिए तथा आतंकवादी संगठन अल-कायदा का सदस्य होने के कारण 27 वर्ष के कारावास की सजा सुनाई. उसी समय, अन्य 17 अल-कायदा के सदस्यों को छः साल से ग्यारह साल के बीच दंड की सजा सुनाई.<ref>{{Cite news| url=http://www.theage.com.au/news/world/spain-jails-18-alqaeda-operatives/2005/09/27/1127586828047.html| title=Spain jails 18 al-Qaeda operatives| publisher=[[The Age]]| date=September 27, 2005| accessdate=May 19, 2008 | location=Melbourne}}</ref><ref>{{Cite web| url=http://www.forbes.com/finance/feeds/afx/2005/09/26/afx2243735.html| title=18 jailed in Spanish Al-Qaeda trial| publisher=[[Forbes]]| date=September 26, 2005| accessdate=May 19, 2008}}</ref> 16 फरवरीफ़रवरी 2006 को स्पेनिश सुप्रीम कोर्ट ने दाहदाह के दंड को घटा कर 12 वर्ष कर दिया क्योंकि उनके विचार से उसकी षड़यंत्र में भागीदारी सिद्ध नहीं हो पाई थी।<ref>{{Cite web| url=http://spain.usembassy.gov/terrorism2006en.html| title=Country Reports on Terrorism 2006| work=Embassy of the United States in Spain| publisher=United States Department of State| date=October 2, 2007| accessdate=May 19, 2008}}</ref>
 
=== मंशा/उद्देश्य ===
* {{Cite book|author=Bergen, Peter L. |title=Holy War Inc. |publisher=Simon & Schuster |year=2001 |page=3}}
* {{Cite news|url=http://www.guardian.co.uk/g2/story/0,3604,558075,00.html |title=Face to face with Osama |publisher=The Guardian |date=सितंबर 26, 2001|location=London|accessdate=2010-05-13 | first=Rahimullah | last=Yusufzai}}
* {{Cite news|url=http://news.bbc.co.uk/2/hi/middle_east/2984547.stm|title=US pulls out of Saudi Arabia |accessdate=29 Novemberनवम्बर 2009|work=BBC News|date=2003-04-29}}
* {{Cite web|url=http://cryptome.org/zawahri-wsj.htm |title= Saga of Dr. Zawahri Sheds Light On the Roots of al Qaeda Terror |publisher=Wall Street Journal |date=जुलाई 2, 2002 |accessdate=May 20, 2008|archiveurl=http://web.archive.org/web/20051223041317/http://cryptome.org/zawahri-wsj.htm|archivedate=December 23, 2005}}
* {{Cite web|url=http://www.9-11commission.gov/archive/hearing10/9-11Commission_Hearing_2004-04-13.htm |title=Tenth Public Hearing, Testimony of Louis Freeh| publisher=9/11 Commission| date=April 13, 2004| accessdate=May 20, 2008}}
|year=2007
}}</ref> और इराक के खिलाफ प्रतिबंध.<ref>
** {{Cite web|url= http://english.aljazeera.net/archive/2004/11/200849163336457223.html|title=Full transcript of bin Ladin's speech |publisher=aljazeera|accessdate=29 Novemberनवम्बर 2009}}
** [http://www.guardian.co.uk/world/2002/nov/24/theobserver बिन लादेन के "लेटर टू अमेरिका" के पूर्ण पाठ]</ref> [[अल कायदा|अल-क़ायदा]] ने अगस्त 1996 के ''फतवे''<ref name="e1996">[http://www.pbs.org/newshour/terrorism/international/fatwa_1996.html 1996 फतवा के पाठ], पीबीएस (PBS) द्वारा अनुवाद</ref> तथा फरवरी 1998 में प्रकाशित एक छोटे फतवे सहित, हमलों से पूर्व घोषणाओं में ये उद्देश्य स्पष्ट रूप से व्यक्त किये थे।<ref name="e1998">[http://www.pbs.org/newshour/terrorism/international/fatwa_1998.html 1998 फतवा के पाठ] पीबीएस (PBS) द्वारा अनुवाद</ref> हमलों के बाद, बिन लादेन और अल ज़वाहिरी ने अतिरिक्त वीडियो टेप और ऑडियो टेप प्रकाशित किये, जिनमें से कुछ में हमले के कारणों को दोहराया गया था। दो विशेष रूप से महत्त्वपूर्ण प्रकाशन थे बिन लादेन के 2002 के "अमेरिका के लिए पत्र",<ref>[http://www.guardian.co.uk/world/2002/nov/24/theobserver बिन लादेन के "लेटर टू अमेरिका" के पूर्ण प्रतिलिपि]</ref> तथा 2004 का बिन लादेन का वीडियो टेप.<ref>
"इसलिए आपके विचार के लिए मैं उन घटनाओं के पीछे की कहानी के बारे में आप से बात करूंगा और सच्चाई से आपको उन क्षणों के बारे में बताऊंगा जिनमें यह निर्णय लिया गया था।"[http://english.aljazeera.net/archive/2004/11/200849163336457223.html ] -2004 ओसामा बिन लादेन वीडियो
1998 के फतवे में अल-कायदा ने इराक पर प्रतिबंध की, अमरीकियों को मारने के कारण के रूप में पहचान की हैः "मुजाहिद-यहूदी गठबंधन द्वारा की गई इराकी लोगों की महातबाही के बावजूद, बड़ी संख्या में लोगों के मारे जाने के बावजूद, जो दस लाख को पार कर चुकी है, इस सब के बावजूद, अमेरिकी एक बार फिर से भयानक कत्लेआम को दोहराना चाहते हैं, जैसे कि वे अति क्रूर युद्ध या विखंडन और विनाश के बाद थोपी गई लंबी नाकेबंदी से अभी संतुष्ट नहीं हैं।..इस आधार पर और अल्लाह के आदेश की अनुपालना में, हम मुसलमानों के लिए यह फतवा जारी करते हैं: "अमेरिकियों और उनके सहयोगियों- नागरिक या सैनिक- को मारने का फैसला हर मुसलमान का जाती फर्ज है।.."<ref name="1998 Al Qaeda fatwā"/>
 
अल कायदा द्वारा प्रकाशित उद्देश्यों के अलावा, विश्लेषकों ने इस्लामी दुनिया के पश्चिमी दुनिया से पिछड़ जाने के कारण उत्पन्न अपमान, सहित अन्य उद्देश्य सुझाए हैं, यह विसंगति हाल के भूमंडलीकरण के कारण खास तौर पर दिखाई देती है।<ref>बर्नार्ड लुईस की 2004 की पुस्तक [[The Crisis of Islam: Holy War and Unholy Terror]] में, वे तर्क देते हैं कि पश्चिम के प्रति शत्रुता को कभी शक्तिशाली रहे ऑटोमैन साम्राज्य के पतन के साथ पश्चिमी विचारों के आयात- अरब समाजवाद, अरब उदारवाद और अरब धर्म निरपेक्षता के संयोजन से सर्वाधिक अच्छी तरह से समझा जा सकता है। पिछली तीन शताब्दियों के दौरान, इस्लामी दुनिया ने अपने प्रभुत्व और अपने नेतृत्व को खो दिया है और आधुनिक पश्चिम तथा तेजी से आधुनिकीकरण कर रहे पूर्व, दोनों से पिछड़ गई है। यह बढ़ता हुआ अंतर उत्तरोत्तर व्यावहारिक और भावनात्मक दोनों प्रकार की तीव्र समस्याएं खड़ी कर रहा है, जिसके लिए शासकों, विचारकों और इस्लाम के विद्रोहियों को अभी तक कोई प्रभावी जवाब नहीं मिला है। [[The Crisis of Islam: Holy War and Unholy Terror]] से. बर्नार्ड लुईस. 2004</ref><ref>'[http://www.chass.utoronto.ca/~ikalmar/illustex/baudriterror.htm द स्पिरिट ऑफ टेररिज्म]' शीर्षक वाले एक निबंध में, जीन बाउड्रीलार्ड ने 9/11 की घटना का पहली वैश्विक घटना के रूप में वर्णन किया है जो "खुद भूमंडलीकरण की प्रक्रिया पर सवाल उठाती है।" {{Cite web|url=http://www.chass.utoronto.ca/~ikalmar/illustex/baudriterror.htm|title=The spirit of terrorism|last= Baudrillard|accessdate=15 Decemberदिसम्बर 2009}}</ref> एक अन्य अनुमानित मकसद था, अल कायदा के समर्थन हेतु और सहयोगियों को प्रेरित करने की उम्मीद के साथ, इस्लामी दुनिया के खिलाफ एक अधिक व्यापक युद्ध के लिए अमेरिका को भड़काने की इच्छा।<ref>
* माइकल स्कॉट डोरन और पीटर बर्जेन का कहना है कि 9/11 अमेरिका को युद्ध के लिए उकसाने का एक सामरिक कदम था, जिससे एक अखिल अरब क्रांति भड़क सके. माइकल स्कॉट डोरन का तर्क है कि हमलों को, मुस्लिम दुनिया के अंदर एक धार्मिक संघर्ष का हिस्सा मान कर सर्वोत्तम ढंग से समझा जा सकता है। एक निबंध [http://www.foreignaffairs.com/articles/57618/michael-scott-doran/somebody-elses-civil-war%7Ctitle=somebody-elses-civil-war समबडी एल्स'ज सिविल वॉर] में डोरन का तर्क था कि बिन लादेन के अनुयायी: "खुद को अन्याय के समुद्र से घिरे सच्चे विश्वासियों का एक द्वीप मानते हैं"। {{Cite web|url=http://www.foreignaffairs.com/articles/57618/michael-scott-doran/somebody-elses-civil-war|title=somebody-elses-civil-war|publisher=Foreign Affairs|accessdate=5 Decemberदिसम्बर 2009}}
* उम्मीद है कि अमेरिकी प्रतिशोध से वफादार पश्चिम के खिलाफ एकजुट हो जाएंगे, बिन लादेन अरब देशों में और अन्यत्र क्रांति की चिंगारी फूंकना चाहते थे। डोरन का तर्क है ओसामा बिन लादेन के वीडियो मध्य पूर्व में जुनूनी प्रतिक्रिया भड़काने और यह सुनिश्चित करने कि मुस्लिम नागरिक उनके क्षेत्र में अमेरिकी दखल बढ़ने के खिलाफ जितना संभव हो सके उतनी हिंसक प्रतिक्रिया करें, का प्रयास कर रहे थे। {{Cite book|last=Doran |first=Michael Scott |title=Understanding the War on Terror |publisher=Norton |year=2005 |location=New York |pages=72–75 |isbn=0-87609-347-0}}
* '''द ओसामा बिन लादेन आई नो''' में संवाददाता पीटर बर्जेन की दलील है कि हमले, मध्य पूर्व में अपनी सैन्य एवं सांस्कृतिक उपस्थ्ति बढ़ाने के लिए अमेरिका को उकसाने की एक योजना का भाग थे, जिससे मुस्लिम गैर-मुस्लिम सरकार के विचार के खिलाफ संघर्ष करने को बाध्य हों और वे क्षेत्र में एक रूढ़िवादी इस्लामिक सरकार की स्थापना कर सकें. {{Cite book|last=Bergen |first=Peter |title=The Osama bin Laden I Know: An Oral History of al Qaeda's Leader |publisher=Free Press |year=2006 |location=New York |isbn=0-7432-7891-7 |page=229}}
{{Main|Health effects arising from the September 11 attacks}}
[[चित्र:September 14 2001 Ground Zero 02.jpg|thumb|upright|एक अकेला अग्निशामक न्यूयॉर्क शहर में मलबे और धुएं के बीच खड़ा है।]]
ट्विन टावर्स के पतन से उत्पन्न हजारों टन विषाक्त मलबे में ज्ञात कैंसरकारी तत्वों सहित 2,500 से अधिक संदूषक थे।<ref>{{Cite news| first=Anita |last=Gates |title=Buildings Rise from Rubble while Health Crumbles |publisher=The New York Times |date=सितंबर 11, 2006 |url=http://www.nytimes.com/2006/09/11/arts/television/11dust.html?ref=nyregionspecial3 |accessdate=May 18, 2008}}</ref><ref>{{Cite news|url=http://www.nytimes.com/imagepages/2006/09/05/nyregion/20060905_HEALTH_GRAPHIC.html |title=What was Found in the Dust |publisher=New York Times |date=सितंबर 5, 2006|accessdate=September 8, 2006}}</ref> कई लोगों का दावा है कि मलबे से सीधे संपर्क में आने के कारण बचाव और राहत कार्यकर्ताओं में कमजोर कर देने वाली बीमारियां उत्पन्न हुईं।<ref name="DustDeath">{{Cite news|title= New York: 9/11 toxins caused death|publisher= CNN.com| date=May 24, 2007|url=http://www.cnn.com/2007/US/05/24/wtc.dust/index.html|accessdate=July 10, 2007 |archiveurl = http://web.archive.org/web/20070618154824/http://www.cnn.com/2007/US/05/24/wtc.dust/index.html |archivedate = June 18, 2007}}</ref><ref>{{Cite news| url=http://www.nytimes.com/2006/05/13/nyregion/13symptoms.html| title=Tracing Lung Ailments That Rose With 9/11 Dust| last=DePalma| first=Anthony| date=May 13, 2006| publisher=The New York Times| accessdate=May 3, 2008}}</ref> उदाहरण के लिए, 3 सितंबर, 2007 को एनवायपीडी (NYPD) अधिकारी फ्रैंक मैक्री की फेफड़ों के कैंसर से, जो उनके पूरे शरीर में फैल चुका था, मृत्यु हो गई। उनके परिवार का दावा है कि दुर्घटना स्थल पर कई-कई घंटे काम करने के कारण उन्हें कैंसर हुआ था और उन्होंने सेवा के दौरान मृत्यु परिलाभ हेतु दावा दायर किया है, जिस पर नगर को निर्णय करना शेष है।<ref>{{Cite news| last=Shapiro| first=Rich| title=Cancer ends his fitness life after toil at the Pit| publisher=New York Daily News| date=September 10, 2007| url=http://www.nydailynews.com/news/2007/09/10/2007-09-10_cancer_ends_his_fitness_life_after_toil_.html| accessdate=May 3, 2008}}</ref>
 
स्वास्थ्य पर प्रभावों का भी लोअर मैनहटन और पास के चाइनाटाउन में कुछ निवासियों, छात्रों तथा कार्यालय कर्चारियों तक प्रसार हुआ है।<ref>{{Cite web| title=Updated Ground Zero Report Examines Failure of Government to Protect Citizens| publisher=Sierra Club| year=2006| url=http://www.sierraclub.org/groundzero/| accessdate=May 21, 2008}}</ref> अनेक मौतों को वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के ढहने से उत्पन्न विषैली धूल के साथ जोड़ा गया है तथा पीड़ितों के नाम वर्ल्ड ट्रेड सेंटर स्मारक में शामिल किए जाएंगे.<ref>{{Cite news| last=Smith| first=Stephen| url=http://www.cbsnews.com/stories/2008/04/28/national/main4049362.shtml| title=9/11 "Wall Of Heroes" To Include Sick Cops| publisher=CBS News| date=April 28, 2008| accessdate=May 3, 2008}}</ref> इस प्रकार की वैज्ञानिक अटकलें भी हैं कि वायु में विभिन्न विषैले उत्पादों के संपर्क से भ्रूण विकास पर हानिकारक प्रभाव पड़ सकता है। इस संभावित खतरे के कारण वर्तमान में एक प्रसिद्ध बाल पर्यावरणीय स्वास्थ्य केंद्र उन बच्चों का विश्लेषण कर रहा है, जिनकी माताएं वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के ध्वंस के समय गर्भवती थीं तथा वर्ल्ड ट्रेड सेंटर टॉवर्स के पास रहती थीं या कार्य करती थीं।<ref>{{Cite web| title = CCCEH Study of the Effects of 9/11 on Pregnant Women and Newborns| work = World Trade Center Pregnancy Study| publisher = Columbia University| year= 2006| url =http://www.familiesofseptember11.org/docs/CCCEH%20Study%20Intro.pdf|accessdate=April 14, 2008|format=PDF}}</ref> अप्रैल 2010 में जारी किए गए बचाव कार्यकर्ताओं के एक अध्ययन में पाया गया कि जिन कार्यकर्ताओं का अध्ययन किया गया था, उन सभी के फेफड़े दुर्बल हो गए थे और यह कि 30% से 40% कार्यकर्ता लगातार उन लक्षणों की शिकायत कर रहे थे जो हमले के प्रथम वर्ष में आरंभ हुए थे और जिनमें अभी तक कोई सुधार नहीं हुआ है या बहुत कम सुधार हुआ है।<ref>[http://www.nytimes.com/2010/04/08/nyregion/08lung.html?src=m 9/11 के उद्धारक के लंग फंक्शन, स्टडी फाइंड द न्यूयॉर्क टाइम्स 7 अप्रैल 2010]</ref>
हमलों के बाद, स्टैटन द्वीप पर फ्रेश किल्स लैंडफिल को अस्थाई तौर पर वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के नष्ट होने से निकले अधिकांश मलबे को प्राप्त करने और संसाधित करने के लिए पुनः खोला गया था। मलबे में अधिकतर धूल और छोटे-छोटे टुकड़ों के रूप में अनेक पीड़ितों के अवशेष शामिल थे। अगस्त 2005, 17 वादियों ने, 1000 अन्य रिश्तेदारों के समर्थन का दावा करते हुए, अदालत में एक मामला दायर किया था कि न्यूयॉर्क शहर, फ्रेश किल्स लैंडफिल से लगभग दस लाख टन मलबा हटा कर किसी अन्य स्थान पर ले जाए और वहां इसकी छटनी करके अवशेषों को कब्रिस्तान में रखा जाए। वादियों के वकील नॉर्मन सीगल ने कहा "यह तो अधमता होगी: क्या हम सैकड़ों शरीर के भागों तथा मानव अवशेषों को कूड़े के ढेर पर छोड़ देने के लिए तैयार हैं?" शहर का प्रतिनिधित्व करने वाले एक वकील, जेम्स ई. टायरेल ने तर्क दिया "आप में विशिष्ट विवरण देकर यह कहने की क्षमता होनी चाहिए कि यह मेरे शरीर का भाग है। यहाँ जो सब छोड़ा गया है वह एक समान धूल का ढेर है।"<ref>{{Cite news|first=C.J.|last=Hughes|title=9/11 Families Press Judges on Sifting at Landfill|date=December 16, 2009|publisher=New York Times|url =http://www.nytimes.com/2009/12/17/nyregion/17sift.html|accessdate = December 29, 2009}}</ref><ref>{{Cite news|first=Anemona|last=Hartocollis|title=Landfill Has 9/11 Remains, Medical Examiner Wrote|date=मार्च 24, 2007|publisher=New York Times|url =http://www.nytimes.com/2007/03/24/nyregion/24remains.html|accessdate = December 29, 2009}}</ref>
 
26 मार्च, 2010 को 9/11 के शिकार लोगों के परिवारों को एक नोटिस प्राप्त हुआ कि शहर द्वारा फ्रेश किल्स लैंडफिल में वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के अवशेषों के लिए छंटनी (सिफ्टिंग) प्रक्रिया का आयोजन किया जाएगा। निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार 14 लाख डॉलर की अनुमानित लागत वाले इस ऑपरेशन में तीन महीने का समय लगेगा। मानवविज्ञानी और अन्य प्रशिक्षित पेशेवर लोग ध्यानपूर्वक सामग्री का मूल्यांकन एवं खोज करेंगे और संभावित अवशेषों को आगे जांच के लिए मुख्य चिकित्सा परीक्षक के कार्यालय की प्रयोगशालाओं में भेजा जाएगा।<ref>{{Cite news|first=Doug|last=Auer|title=City to sift again for 9/11 remains|date=मार्च 27, 2010|publisher=Staten Island Advance|url =http://www.silive.com/news/index.ssf/2010/03/city_to_sift_again_for_911_rem.html|accessdate = 2010-03-29}}</ref>
 
4 अक्टूबर, 2010 को संयुक्त राज्य अमेरिका के सुप्रीम कोर्ट ने 9/11 शिकारों के कुछ परिवारों द्वारा दायर की गई, वर्ल्ड ट्रेड सेंटर की साइट से प्राप्त सामग्री की, निपटान से पहले मानव अवशेषों के लिए एक अधिक संपूर्ण परीक्षा की आवश्यकता हेतु अपील को खारिज कर दिया। उन्होंने दावा किया कि कुछ सामग्री (1.65 मिलियन में से 223,000 टन) की या तो छानबीन नहीं की गई है या फिर पर्याप्त छानबीन नहीं की गई है और एक गड्ढा उस सामग्री का उपयुक्त विश्राम स्थल नहीं हो हो सकता जिसमें अभी भी शिकारों के अवशेष हो सकते हैं। (अदालत के रिकॉर्ड के अनुसार, 2,752 मृत लोगों में से लगभग 1100 न तो कभी भी बरामद हुए और न किसी की पहचान हुई.) शहर के अधिकारियों ने कहा कि उन्होंने सामग्री को गड्ढे में भेजने से पहले 10 महीने तक, मानव अवशेषों के लिए ध्यान से सामग्री की जांच की थी। निचली संघीय अदालत न्यूयॉर्क सिटी के खिलाफ परिवारों के मुकदमे पहले ही खारिज कर चुकी थी।<ref>{{cite news | first = Bill | last = Mears | title = High court rejects appeal over remains of unidentified 9/11 victims | date = October 4, 2010 | url = http://www.cnn.com/2010/CRIME/10/04/scotus.rejected.cases/ | work = CNN | accessdate = 2010-10-06}}</ref>
 
== इन्हें भी देखें ==
* [http://www.9-11commission.gov/ संयुक्त राज्य अमेरिका पर आतंकवादी हमलों का राष्ट्रीय आयोग] ''आयोग की आधिकारिक वेबसाइट''
* अमेरिकन लाइब्रेरी कांग्रेस द्वारा [http://memory.loc.gov/ammem/collections/911_archive/ 11 सितम्बर 2001, वृत्तचित्र परियोजना], ''Memory.loc.gov''
* अमेरिकन लाइब्रेरी कांग्रेस, ''मिनेर्वा'' द्वारा [http://lcweb2.loc.gov/diglib/lcwa/html/sept11/sept11-overview.html 11 सितंबर, 2001, वेब पुरालेख]
* द ''सेंटर ऑफ़ हिस्ट्री एंड न्यू मिडिया'' और द ''अमेरिकन सोशल हिस्ट्री प्रोजेक्ट/सेंटर फॉर मिडिया एंड लर्निंग'' द्वारा [http://911digitalarchive.org/ 11 सितंबर डिजिटल आर्चिव: सेविंग द हिसट्रीज़ ऑफ़ 11 सितंबर 2001]
* {{dmoz|Society/Issues/Terrorism/Incidents/September_11,_2001}}