"क्यूबाई मिसाइल संकट" के अवतरणों में अंतर

छो
बॉट: दिनांक लिप्यंतरण और अल्पविराम का अनावश्यक प्रयोग हटाया।
छो (बॉट: विराम चिह्नों के बाद खाली स्थान का प्रयोग किया।)
छो (बॉट: दिनांक लिप्यंतरण और अल्पविराम का अनावश्यक प्रयोग हटाया।)
[[चित्र:Soviet-R-12-nuclear-ballistic missile.jpg|thumb|मॉस्को के रेड स्क्वायर में मध्यवर्ती दूरी की सोवियत आर-12 परमाणु बैलिस्टिक मिसाइल (नाटो द्वारा दिया गया नाम एसएस-4) की सीआईए (CIA) संदर्भ तस्वीर.]] '''क्यूबाई मिसाइल संकट''' (क्यूबा में ''अक्टूबर संकट'' के रूप में जाना जाता है) [[शीतयुद्ध|शीत युद्ध]] के दौरान अक्टूबर 1962 में [[सोवियत संघ|सोवियत संघ,]] [[क्यूबा]] और [[संयुक्त राज्य अमेरिका]] के बीच एक टकराव था। सितंबर 1962 में, क्यूबा और सोवियत सरकारों ने चोरी-छिपे क्यूबा में महाद्वीपीय संयुक्त राज्य अमेरिका के अधिकांश भागों पर मार कर सकने की क्षमता वाली अनेक मध्यम- और मध्यवर्ती-दूरी की प्राक्षेपिक मिसाइलें (MRBMs और IRBMs) लगानी शुरू की. 1958 में यूके (UK) में थोर आईआरबीएम (IRBM) और 1961 में इटली और तुर्की में जुपिटर आईआरबीएम (IRBM)- मॉस्को पर नाभिकीय हथियारों से हमला करने की क्षमता वाली इन 100 से अधिक यू॰एस॰ (U.S.)-निर्मित मिसाइलों की तैनाती के प्रतिक्रियास्वरूप यह कारवाई की गयी। 14 अक्टूबर, 1962 को, एक संयुक्त राज्य अमेरिकी यू-2 (U-2) फोटोआविक्षण विमान ने क्यूबा में निर्माणाधीन सोवियत मिसाइल ठिकानों के फोटोग्राफिक सबूत जमा किये.
 
फलस्वरूप बर्लिन नाकाबंदी से पैदा हुआ संकट शीत युद्ध के एक बड़े टकराव का रूप ले लिया और आम तौर पर माना जाने लगा कि शीत युद्ध अब एक नाभिकीय संघर्ष के कगार पर आ पहुंचा है।<ref>{{cite journal|first=B. Gregory |last=Marfleet|title=The Operational Code of John F. Kennedy During the Cuban Missile Crisis: A Comparison of Public and Private Rhetoric |journal=Political Psychology |volume=21|page=545|issue=3}}</ref> संयुक्त राज्य अमेरिका ने क्यूबा आकाश और समुद्र मार्ग से हमला करने पर विचार किया और क्यूबा का सैन्य संगरोधन करना तय किया। यू॰एस॰ (U.S.) ने घोषणा की कि वह क्यूबा में आक्रामक हथियारों को ले जाने नहीं देगा और मांग की कि सोवियत संघ क्यूबा में निर्माणाधीन या बन चुके मिसाइल ठिकानों को नष्ट करे और वहां से सभी आक्रामक हथियारों को हटा ले. कैनेडी प्रशासन को बहुत ही कम उम्मीद थी कि क्रेमलिन उनकी मांगों को मान लेगा और वह एक सैन्य टकराव की अपेक्षा कर रहा था। दूसरी ओर सोवियत संघ के निकिता ख्रुश्चेव ने केनेडी को एक पत्र में लिखा कि "अंतरराष्ट्रीय जल मार्ग और आकाश मार्ग के यातायात के" उनके संगरोधन की "कारवाई एक ऐसी आक्रामकता है जो मानव जाति को विश्व नाभिकीय-मिसाइल युद्ध के नरक कुंड में डाल देगी."
 
सोवियत संघ ने सार्वजनिक रूप से यू॰एस॰ (U.S.) मांगों पर एतराज जताया, लेकिन संकट को हल करने के लिए गुप्त रूप से पिछले दरवाजे के संचार के जरिये एक प्रस्ताव की पहल की. 28 अक्टूबर 1962 को टकराव समाप्त हो गया, जब राष्ट्रपति [[जाह्न केनेडी|जॉन एफ कैनेडी]] और संयुक्त राष्ट्र महासचिव [[यू थान्ट|यू थांट]] ने सोवियत प्रमुख निकिता ख्रुश्चेव के साथ यह समझौता किया कि सोवियत संघ आक्रामक हथियारों को नष्ट कर देगा और उन्हें सोवियत संघ वापस ले जाएगा, इस प्रक्रिया की निगरानी संयुक्त राष्ट्र करेगा; बदले में हुए समझौते में संयुक्त राज्य अमेरिका ने क्यूबा पर कभी भी आक्रमण नहीं करने का वादा किया। सोवियत ने मिसाइल प्रणालियों और उनके सहायक उपकरणों को निकाल लिया, उन्हें 5-9 नवम्बर को आठ सोवियत जहाजों पर लाद दिया गया। एक महीने बाद, 5 और 6 दिसंबरदिसम्बर को और सोवियत Il-28 बमवर्षक विमानों को तीन सोवियत जहाज़ों पर लादकर रूस रवाना कर दिया गया। 20 नवंबरनवम्बर 1962 को शाम 6:45 ईडीटी (EDT) बजे औपचारिक रूप से संगरोध समाप्त कर दिया गया। एक गुप्त समझौते के भाग के रूप में, यूरोप में तैनात सभी अमेरिकी-निर्मित थोर और जुपिटर आईआरबीएम (IRBM) को सितंबर 1963 तक निष्क्रिय कर दिया गया।
 
क्यूबाई मिसाइल संकट ने हॉटलाइन एग्रीमेंट और मॉस्को तथा वाशिंगटन, डी.सी. के बीच सीधे संचार संपर्क के लिए मॉस्को-वाशिंगटन हॉटलाइन के निर्माण को प्रोत्साहन दिया.
संयुक्त राज्य अमेरिका ने फिर से गुप्त कार्रवाई पर विचार किया और अपने विशेष गतिविधि डिवीजन के सीआईए (CIA) अर्द्धसैनिक अधिकारियों को क्यूबा में प्रवेश कराया.<ref>{{cite book |title=Shadow Warrior: The CIA Hero of 100 Unknown Battles|last=Rodriguez |publisher=Simon & Schuster |date=October 1989 |isbn=9780671667214 |others= John Weisman}}</ref> वायुसेना जनरल कर्टिस लेमे ने सितंबर को आक्रमण-पूर्व बमबारी की एक योजना कैनेडी के समक्ष प्रस्तुत की, जबकि जासूसी उड़ानों और ग्वान्टोनामो नौसेना अड्डे पर अमेरिकी सेना द्वारा किये जा रहे छोटे-मोटे उत्पीड़न की क्यूबा की कूटनीतिक शिकायतें यू॰एस॰ (U.S.) सरकार से निरंतर की जा रही थी।
 
अगस्त 1962 को, संयुक्त राज्य अमेरिका को संदेह हुआ कि सोवियत संघ क्यूबा में मिसाइल सुविधाओं के निर्माण में लगा हुआ है। उसी महीने, इसकी खुफिया सेवाओं ने अपने जमीनी पर्यवेक्षकों द्वारा रूस-निर्मित मिग-21 (नाटो का दिया नाम ''फिशबेड'') लड़ाकू विमानों और Il-28 हल्के बमवर्षक विमानों के अड्डों की सूचना प्राप्त की. U-2 जासूसी विमानों ने आठ अलग-अलग स्थानों में जमीन से आकाश में मार करने वाली S-75 ड्विना (नाटो (NATO) का दिया नाम ''एसए-2'') (SA-2) मिसाइलों को पाया। 31 अगस्त को, सेनेटर केनेथ बी. कीटिंग ने सीनेट में कहा कि सोवियत संघ क्यूबा में संभवतः एक मिसाइल अड्डा बना रहा है; उन्हें शायद फ्लोरिडा<ref name="afmag">{{cite news|url=http://www.airforce-magazine.com/MagazineArchive/Pages/2005/August%202005/0805u2.aspx|title=Airpower and the Cuban Missile Crisis |last=Correll |first=John T. |date=August 2005|work=Vol. 88, No. 8|publisher=AirForce-Magazine.com|accessdate=4 Mayमई 2010}}</ref> में रह रहे क्यूबा के निर्वासितों से यह सूचना मिली थी।<ref name="franklin">{{cite web|url=http://andromeda.rutgers.edu/~hbf/missile.htm| title=The Cuban Missile Crisis: An In-Depth Chronology|last=Franklin |first=H. Bruce |accessdate=3 Mayमई 2010}}</ref> सीआईए (CIA) निदेशक जॉन ए मैककोन कई रिपोर्टों से संदिग्ध हुए. 10 अगस्त को उन्होंने राष्ट्रपति कैनेडी को एक ज्ञापन भेजा, जिसमें उन्होंने अनुमान लगाया गया कि सोवियत संघ क्यूबा में प्राक्षेपिक मिसाइल लगाने की तैयारी में है।<ref name="afmag" />
 
== शक्ति संतुलन ==
सोवियत प्रधानमंत्री निकिता ख्रुश्चेव के मन में मई 1962 में क्यूबा में अपनी मध्यवर्ती-दूरी की नाभिकीय मिसाइलों की तैनाती द्वारा संयुक्त राज्य अमेरिका के सामरिक मिसाइलों के विकास और तैनाती का प्रत्युत्तर देने का विचार आया। अप्रैल 1962 के दौरान तुर्की में संयुक्त राज्य अमेरिका की जुपिटर नामक मध्यवर्ती-दूरी की प्रक्षेपिक मिसाइलों की तैनाती के हिस्से के रूप में भी ख्रुश्चेव प्रतिक्रया कर रहे थे।<ref name="afmag" />
 
एकदम शुरुआत से ही, सोवियत की गतिविधि का विस्तृत खंडन और छल आवश्यक बन गया था, जिसे रूस में ''मस्किरोव्का'' (Maskirovka) कहा जाता है।<ref name="hansen" /> सारी योजना और मिसाइलों का परिवहन और उनकी तैनाती अत्यंत गोपनीयता के साथ पूरी की गयी, सिर्फ कुछ लोगों को इस अभियान की वास्तविक प्रकृति के बारे में बताया गया। यहां तक कि इस अभियान पर जाने वाले सैनिकों को भी गुमराह किया गया था, उनसे कहा गया था कि वे ठंडे क्षेत्र को जा रहे हैं और स्की जूते, गर्म जैकेट और अन्य शीतकालीन उपकरणों से उन्हें सुसज्जित किया गया।<ref name="hansen">{{cite web|url=https://www.cia.gov/library/center-for-the-study-of-intelligence/kent-csi/vol46no1/pdf/v46i1a06p.pdf|title=Soviet Deception in the Cuban Missile Crisis|last=Hansen|first=James H.|work=Learning from the Past|accessdate=2 Mayमई 2010}}</ref> सोवियत कोड नाम रखा गया ऑपरेशन अनादीर (Operation Anadyr), जो बेरिंग सागर में समाने वाली एक नदी, चुकोत्स्की जिले की राजधानी और सुदूर पूर्वी क्षेत्र स्थित एक बमवर्षक अड्डे का भी नाम है। आंतरिक व बाहरी लोगों से इस कार्यक्रम को छुपाने के लिए यह सब किया गया।<ref name="hansen" />
 
1962 के शुरू में, एक कृषि प्रतिनिधिमंडल के साथ सोवियत सैन्य और मिसाइल निर्माण विशेषज्ञों का एक दल हवाना पहुंचा। उन्होंने क्यूबा के नेता [[फिदेल कास्ट्रो|फिडेल कास्त्रो]] के साथ एक बैठक की. क्यूबा के नेतृत्व को पूरी आशंका थी कि यू॰एस॰ (U.S.) फिर से क्यूबा पर करेगा और इसीलिए बड़े उत्साह के साथ उन्होंने क्यूबा में नाभिकीय मिसाइलें लगाने के विचार को मंजूरी दे दी. जुलाई में "मशीन ऑपरेटरों", "सिंचाई विशेषज्ञों" और "कृषि विशेषज्ञों" के वेश में मिसाइल निर्माण विशेषज्ञ वहां पहुंच गये।<ref name="hansen" /> सोवियत रॉकेट बलों के प्रमुख मार्शल सेर्गेई बिर्युज़ोव ने क्यूबा का दौरा करने वाले एक सर्वेक्षण दल का नेतृत्व किया। उन्होंने ख्रुश्चेव को बताया कि मिसाइलों को ताड़ के पेड़ों से छुपाया जाएगा और वैसा छद्मावरण बनाया जाएगा.<ref name="afmag" />
 
[[चित्र:U2 Image of Cuban Missile Crisis.jpg|right|thumb|क्यूबा में सोवियत परमाणु मिसाइलों की यू-2 की टोही तस्वीर. ईंधन भरने और रखरखाव के लिए मिसाइल परिवहन और टेंट दिखाई दे रहे हैं।]]
आर-12 मिसाइलों की पहली खेप 8 सितंबर की रात को पहुंची और 16 सितंबर को दूसरी खेप. आर-12 पहली सामरिक मध्यम-दूरी की प्राक्षेपिक मिसाइल थी, यह सबसे पहली मिसाइल रही जिसका बड़े पैमाने पर उत्पादन किया गया और यह पहली सोवियत मिसाइल थी जिसे थर्मोन्यूक्लियर स्फोटक शीर्ष के साथ तैनात किया गया। यह एक सिगल-स्टेज, सड़क से परिवहनयोग्य, जमीन से चलायी जाने वाली, भंडारयोग्य प्रणोदक ईंधन मिसाइल थी, जिससे एक मेगाटन-श्रेणी के नाभिकीय हथियार को छोड़ा जा सकता था।<ref>{{cite web|url=http://www.globalsecurity.org/wmd/world/russia/r-12-specs.htm|title=R-12 / SS-4 SANDAL|publisher=Global Security|accessdate=2010-04-30 }}</ref> सोवियत संघ ने नौ अड्डों का निर्माण किया था - छः {{convert|2000|km}} की प्रभावकारी दूरी की आर-12 मध्यम-दूरी की मिसाइलों (नाटो का दिया नाम ''एस एस-4 संडल'') के लिए और तीन {{convert|4500|km}} की अधिकतम दूरी की आर-14 मध्यवर्ती-दूरी की प्राक्षेपिक मिसाइलों (नाटो का दिया नाम ''एस एस-5 एस्कियन'') के लिए.<ref>{{cite web|url=http://www.globalsecurity.org/wmd/world/russia/r-14-specs.htm|title=R-14 / SS-5 SKEAN |publisher=Global Security|accessdate=30 Aprilअप्रैल 2010}}</ref>
 
=== क्यूबा का स्थिति निर्धारण ===
क्यूबा में एक सैन्य निर्माण के सबूतों में वृद्धि के बावजूद, 5 सितंबर से 14 अक्टूबर तक क्यूबा के ऊपर यू-2 विमानों ने कोई उड़ान नहीं भरी. 30 अगस्त को टोही उड़ानों पर रोक लगाने की पहली वजह यह थी कि एक वायु सेना के स्ट्रेटेजिक एयर कमांड का यू-2 विमान गलती से सुदूर पूर्व सखालिन द्वीप के ऊपर जा पहुंचा था। सोवियत संघ ने विरोध दर्ज किया और यू॰एस॰ (U.S.) को माफी मांगनी पड़ी. नौ दिन बाद, एक ताईवानी-स्वामित्व वाला यू-2 पश्चिमी चीन में खो गया, संभवतः सैम (SAM) की वजह से. यू॰एस॰ (U.S.) अधिकारी चिंतित हुए कि एक क्यूबा में क्यूबा या सोवियत के सैम ने सीआईए के यू-2 को शायद मार गिराया, जिससे एक और अंतरराष्ट्रीय घटना की शुरुआत हुई. सितंबर के अंत में, नौसेना के टोही विमान ने सोवित जहाज ''कासिमोव'' के डेक पर बड़े-बड़े क्रेट की तस्वीरें लीं, जिनके आकार और बनावट Il-28 हल्के बमवर्षकों जैसी थी।<ref name="afmag" />
 
12 अक्टूबर को, प्रशासन ने क्यूबा के यू-2 टोही अभियान का तबादला वायु सेना में करने का फैसला किया। इस बीच एक और यू-2 को मार गिराया गया, तब इसकी सफाई में वायु सेना की उड़ानों को बहाना के रूप में पेश करने के बारे में सोचा गया, जिसे सीआईए की उड़ानों से आसान समझा गया। इस बात के भी सबूत हैं कि रक्षा विभाग और वायु सेना ने क्यूबाई उड़ानों की जिम्मेवारी लेने के लिए लॉबी की.<ref name="afmag" /> 8 अक्तूबरअक्टूबर को जब टोही अभियानों को पुन:-अधिकृत किया गया तब मौसम ने विमानों की उड़ान में बाधा डाली. 14 अक्टूबर को यू॰एस॰ (U.S.) ने पहली बार मिसाइलों की तस्वीर खींचकर प्रमाण प्रमाण प्राप्त किया, जब मेजर रिचर्ड हेसर द्वारा उडाये जा रहे यू-2 से 928 तस्वीरें ली गयीं, उनसे पश्चिमी क्यूबा के पिनार डेल रियो प्रांत के सान क्रिस्टोबल अड्डे में एस एस-4 (SS-4) निर्माण का पता चला.<ref>{{cite web|url=http://future.state.gov/educators/slideshow/cuba/cuba2.html| title=Cuban Missile Crisis |publisher=U.S. Department of State|accessdate=6 Mayमई 2010}}</ref>
 
=== राष्ट्रपति को सूचना ===
{{bquote|They, no more than we, can let these things go by without doing something. They can't, after all their statements, permit us to take out their missiles, kill a lot of Russians, and then do nothing. If they don't take action in Cuba, they certainly will in Berlin.<ref name=rfkennedy>{{cite book | last = Kennedy | first = Robert | authorlink = Robert F. Kennedy | title = Thirteen Days: A Memoir of the Cuban Missile Crisis | publisher = W.W. Norton & Company | pages = 14 | isbn = 0-393-09896-6 | year = 1971 }}</ref>}}
 
कैनेडी ने सोचा कि क्यूबा पर हवाई हमला करने से सोवियत यह मान लेंगे कि बर्लिन को अधीन करने के लिए "एक हरी झंडी" का सिग्नल मिल गया है। कैनेडी का यह भी मानना था कि अमेरिका के सहयोगी यह सोचेंगे कि क्यूबा स्थिति का शांतिपूर्ण समाधान नहीं निकाल पाने के कारण "युद्ध-प्रेमी काउब्वॉय" ("trigger-happy cowboys") के रूप में बर्लिन ने यू॰एस॰ (U.S.) को गंवा दिया.<ref>{{cite book|last=Axelrod|first=Alan |title=The Real History of the Cold War: A New Look at the Past |publisher=Sterling Publishing Co.|location=New York|year=2009| isbn=978-1-4027-6302-1| url=http://books.google.com/?id=ZnYHG1eK-2AC| accessdate=22 Aprilअप्रैल 2010}}</ref>{{rp|332}}
[[चित्र:McNamara and Kennedy.jpg|left|thumb|राष्ट्रपति कैनेडी और रक्षा सचिव मैकनैमारा एक्सॉम (EXCOMM) की बैठक में.]]
 
एक्सॉम (EXCOMM) सहमत था, हालांकि, मिसाइलों से ''राजनीतिक'' संतुलन प्रभावित हो रहा था। सबसे पहले, कैनेडी ने संकट से एक माह पहले अमेरिकी जनता से स्पष्ट वादा किया था कि "अगर अमेरिका के खिलाफ आक्रामक कार्रवाई करने लायक क्षमता से संपन्न होता है।..तो अमेरिका कार्रवाई करेगा,"<ref>{{cite journal|unused_data=DUPLICATE DATA: title=In Public Papers of the Presidents: John F Kennedy, 1962|last=Kennedy |first=J. |title=The President's News Conference of September 13, 1962 |location=Washington, DC |publisher= Government Printing Office |year=1963}}</ref>{{rp|674-681}} दूसरे, उसके सहयोगियों और अमेरिकी जनता के बीच यू॰एस॰ (U.S.) की विश्वसनीयता को क्षति पहुंचेगी, अगर वे क्यूबा में मिसाइल लगाने के जरिये सामरिक संतुलन को बदलता ''दिखाने'' की सोवियत संघ को इजाजत देते हैं। संकट के बाद कैनेडी ने कहा कि "इससे राजनीतिक रूप से शक्ति संतुलन बदल जाता. ऐसा आभास हो रहा था और आभास का वास्तविकता में योगदान होता है।"<ref>{{cite journal|last=Kennedy, J. |title=After Two Years: A conversation with the president |format=Television and radio interview |date=December 17, 1962 |work=In 'Public Papers of the Presidents: John F. Kennedy, 1962' |location=Washington, DC. |publisher=Government Printing Office |year=1963}}</ref>{{rp|889-904}}
 
[[चित्र:CMC Gromyko.jpg|thumb|ओवल ऑफिस में राष्ट्रपति कैनेडी की सोवियत राजदूत आंद्रेई ग्रोम्य्को के साथ मुलाकात]] गुरुवार, 18 अक्टूबर को, राष्ट्रपति कैनेडी ने सोवियत विदेश मंत्री अंद्रेई ग्रोमिको से मुलाक़ात की, जिन्होंने दावा किया कि हथियार केवल रक्षात्मक प्रयोजनों के लिए हैं। उन्हें जिस बात की पहले से जानकारी थी वे उसे प्रकट करना नहीं चाहते थे और वे अमेरिकी जनता में घबराहट फैलाना नहीं चाहते थे,<ref>{{cite web|url=http://www.u-s-history.com/pages/h1736.html|title=Cuban Missile Crisis|publisher=Online Highways LLC|accessdate=5 Mayमई 2010}}</ref> सो राष्ट्रपति ने मिसाइल तैयारी की अपनी जानकारी को सार्वजनिक नहीं किया।<ref name="historyplace">{{cite web|url=http://www.historyplace.com/speeches/jfk-cuban.htm|title=JFK on the Cuban Missile Crisis|publisher=The History Place|accessdate=3 Mayमई 2010}}</ref>
 
शुक्रवार, 19 अक्तूबरअक्टूबर तक, बारंबार उड़ान भर रहे यू -2 जासूसी विमानों ने चार सामरिक अड्डों को दिखाया. नाकाबंदी के हिस्से के रूप में, यू॰एस॰ (U.S.) सेना को नाकाबंदी लागू करने के लिए हाई अलर्ट पर रखा गया था और एक पल की चेतावनी पर क्यूबा पर आक्रमण करने के लिए तैयार रखा गया था। पहला बख़्तरबंद प्रभाग [[जार्जिया (अमरीकी राज्य)|जॉर्जिया]] के लिए भेजा जा चुका था और सेना के पांच प्रभागों को अधिकतम कार्रवाई के लिए सतर्क कर दिया गया था। सामरिक वायु कमान (SAC) ने अपने छोटी दूरी के बी-47 स्ट्राटोजेट मध्यम बमवर्षकों का नागरिक हवाई अड्डों में वितरण कर दिया और अपने बी-52 स्ट्राटोफोर्ट्रेस भारी बमवर्षकों को हवा में ऊपर भेज दिया.<ref name="global" />
 
== सामरिक योजनाएं ==
नौसेना परिचालन प्रमुख एडमिरल एंडरसन ने एक स्थिति दस्तावेज लिखा, जिससे कैनेडी को आक्रामक हथियारों के संगरोध और सभी सामग्री की नाकेबंदी के बीच फर्क करने में मदद मिली, संकेत दिया कि एक पारंपरिक नाकेबंदी का मौलिक इरादा नहीं है। चूंकि यह अंतरराष्ट्रीय जल में होने वाला था, इसलिए राष्ट्रपति कैनेडी रियो संधि के गोलार्द्ध रक्षा प्रावधानों के तहत सैन्य कार्रवाई करने के लिए ओएएस (OAS) (Organization of American States) से अनुमोदन प्राप्त किया।
 
{{bquote|Latin American participation in the quarantine now involved two Argentine destroyers which were to report to the U.S. Commander South Atlantic [COMSOLANT] at Trinidad on 9 November. An Argentine submarine and a Marine battalion with lift were available if required. In addition, two Venezuelan destroyers and one submarine had reported to COMSOLANT, ready for sea by November 2. The Government of Trinidad and Tobago offered the use of [[Chaguaramas, Trinidad|Chaguaramas]] Naval Base to warships of any OAS nation for the duration of the quarantine. The Dominican Republic had made available one escort ship. Colombia was reported ready to furnish units and had sent military officers to the U.S. to discuss this assistance. The Argentine Air Force informally offered three [[Grumman SA-16|SA-16]] aircraft in addition to forces already committed to the quarantine operation.<ref name=NHC-Intro>{{cite journal | unused_data = DUPLICATE DATA: title=Chief of Naval Operations | title = The Naval Quarantine of Cuba, 1962 | first = George Whelan Jr. | last = Anderson | chapter = The Naval Quarantine of Cuba, 1962: Abeyance and Negotiation, 31 October-13 Novemberनवम्बर | authorlink = George Whelan Anderson, Jr. | work = Report on the Naval Quarantine of Cuba, Operational Archives Branch, Post 46 Command File, Box 10, Washington, DC | publisher = U.S. Naval Historical Center | url = http://www.history.navy.mil/faqs/faq90-5c.htm }}</ref>}}
 
{{bquote|This initially was to involve a naval blockade against offensive weapons within the framework of the [[Organization of American States]] and the [[Inter-American Treaty of Reciprocal Assistance|Rio Treaty]]. Such a blockade might be expanded to cover all types of goods and air transport. The action was to be backed up by surveillance of Cuba. The CNO's scenario was followed closely in later implementing the quarantine.}}
 
19 अक्तूबरअक्टूबर को, एक्सॉम (EXCOMM) ने हवाई हमले और नाकाबंदी विकल्पों को जांचने के लिए अलग-अलग कार्य समूह का गठन किया और दोपहर तक एक्सॉम (EXCOMM) का अधिकांश नाकाबंदी का पक्षधर हो गया।
 
[[चित्र:President Kennedy signs Cuba quarantine proclamation, 23 Octoberअक्टूबर 1962.jpg|right|thumb|23 अक्टूबर 1962 को ओवल कार्यालय में राष्ट्रपति कैनेडी क्यूबा के आक्रामक हथियारों के वितरण पर पाबंदी की उद्घोषणा पर हस्ताक्षर करते हैं।]]
सोमवार, 22 अक्टूबर दोपहर 3:00 बजे ईएसटी (EST) बजे राष्ट्रपति कैनेडी ने औपचारिक रूप से राष्ट्रीय सुरक्षा कार्रवाई ज्ञापन (एनएसएएम (NSAM)) 196 के साथ कार्यकारिणी समिति एक्सॉम (EXCOMM) की स्थापना की. शाम 5:00 बजे, वे कांग्रेस के नेताओं से मिले, जो कलहपूर्वक नाकाबंदी का विरोध कर रहे थे और एक तगड़ी प्रतिक्रया की मांग कर रहे थे। मास्को में, राजदूत कोहलर ने अध्यक्ष ख्रुश्चेव को आसन्न नाकाबंदी और राष्ट्र के नाम कैनेडी के भाषण के बारे में बताया. दुनिया भर के राजदूतों ने गैर-[[पूर्वी ब्लॉक|पूर्वी खेमे]] के नेताओं को अग्रिम सूचना दे दी. भाषण से पहले, यू॰एस॰ (U.S.) के प्रतिनिधिमंडल ने कनाडा के प्रधानमंत्री जॉन डिफेनबेकर, ब्रिटिश प्रधानमंत्री हेरोल्ड मैकमिलन, पश्चिम जर्मन चांसलर कोनराड अड़ेनौअर और फ्रांस के राष्ट्रपति [[शार्ल डु गोल|चार्ल्स डी गाल]] के साथ मुलाकात की और उन्हें यू॰एस॰ (U.S.) ख़ुफ़िया विभाग तथा अपनी प्रस्तावित प्रतिक्रिया के बारे में बताया. सभी ने यू॰एस॰ (U.S.) की स्थिति का समर्थन किया।<ref>{{cite web|url=http://www.cubacrisis.net/angl/pages/aubord01.html|title=The Cuban Missile Crisis—Brinkmanship
| last=Buffet |first=Cyril |coauthors=Vincent Touze|accessdate=3 Mayमई 2010}}</ref>
 
22 अक्टूबर, सोमवार शाम को 7:00 बजे EST, राष्ट्रपति कैनेडी ने सभी प्रमुख नेटवर्क द्वारा प्रसारित एक देशव्यापी टेलीविजन भाषण दिया, जिसमें मिसाइलों की खोज की घोषणा की.
 
{{bquote|It shall be the policy of this nation to regard any nuclear missile launched from Cuba against any nation in the Western Hemisphere as an attack on the United States, requiring a full retaliatory response upon the Soviet Union.<ref name=upi/>}}
कैनेडी ने प्रशासन की योजना को वर्णित किया:
 
{{bquote|To halt this offensive buildup, a strict quarantine on all offensive military equipment under shipment to Cuba is being initiated. All ships of any kind bound for Cuba from whatever nation and port will, if found to contain cargoes of offensive weapons, be turned back. This quarantine will be extended, if needed, to other types of cargo and carriers. We are not at this time, however, denying the necessities of life as the Soviets attempted to do in their Berlin blockade of 1948.<ref name=upi>{{cite news|url=http://www.upi.com/Audio/Year_in_Review/Events-of-1962/Cuban-Missile-Crisis/12295509437657-6/ |title=1962 Year In Review: Cuban Missile Crisis |year=1962|publisher= United Press International, Inc.|accessdate=22 Aprilअप्रैल 2010}}</ref>}}
 
भाषण के दौरान विश्व भर में यूएस (US) सेनाओं को DEFCON 3 (defense readiness condition) में रखे जाने का निर्देश जारी हुआ।
 
[[चित्र:Khrushchev letter to kennedy.gif|thumb|left|निकिता ख्रुश्चेव ने राष्ट्रपति कैनेडी को पत्र लिखकर कहा कि क्यूबा का मिसाइल संकट संगरोध "आक्रामकता के एक अधिनियम की स्थापना" [करता है] है।]]
23 अक्टूबर, मंगलवार सुबह 11:24 बजे EST को, जॉर्ज बॉल का तैयार किया गया मसौदा केबिल से तुर्की में यू॰एस॰ (U.S.) राजदूत और नाटो के यू॰एस॰ (U.S.) राजदूत के पास पहुंचा, जिसमें उन्हें सूचित किया गया था कि वे क्यूबा से सोवियत की वापसी के एवज में इटली और तुर्की से मिसाइलों को हटा लेने पर विचार कर रहे हैं, जैसा कि यू॰एस॰ (U.S.) को पता था कि वो मिसाइलें लगभग बेकार किस्म की थीं। तुर्की के अधिकारियों ने कहा कि उनके देश में यू॰एस॰ (U.S.) मिसाइलों की उपस्थिति को लेकर अगर उन्होंने कोई सौदा किया तो वे "अत्यंत नाराज" होंगे.<ref>{{cite web|url=http://www.gwu.edu/~nsarchiv/nsa/cuba_mis_cri/621026_621115%20Chronology%201.pdf|title=The Cuban Missile Crisis|publisher=National Security Archives|accessdate=3 Mayमई 2010}}</ref> दो दिन बाद, गुरुवार 25 अक्टूबर की सुबह, पत्रकार वाल्टर लिपमैन ने सिंडिकेटेड स्तम्भ में ठीक वही बात प्रस्तावित किया। कास्त्रो ने क्यूबा की आत्मरक्षा के अधिकार के बारे में फिर से अपना दावा दुहराया और कहा कि उसके सारे हथियार रक्षात्मक हैं और क्यूबा किसी जांच की अनुमति नहीं देगा.<ref name="franklin" />
 
=== अंतरराष्ट्रीय प्रतिक्रिया ===
कैनेडी के भाषण को ब्रिटेन में कोई ख़ास पसंद नहीं किया गया था। भाषण के अगले दिन, सीआईए की पिछली भूलों को याद करते हुए ब्रिटिश प्रेस ने क्यूबा में सोवियत अड्डे के अस्तित्व को नहीं माना और उसका अनुमान था कि कैनेडी की यह कार्रवाई उनके पुनर्निर्वाचन से संबंधित हो सकती है।<ref name="cubacrisis" />
 
कैनेडी के भाषण के दो दिन बाद, चीनी ''पीपुल्स डेली'' ने घोषणा की कि "650,000,000 चीनी पुरुष और महिलाएं क्यूबा की जनता के साथ खड़े हैं।"<ref>{{cite web|url=http://www.cubacrisis.net/angl/pages/aubordset_02.html|title=The Cuban Missile Crisis -- Brinkmanship|accessdate=3 Mayमई 2010}}</ref>
 
जर्मनी में, समाचार पत्रों ने संयुक्त राज्य अमेरिका की प्रतिक्रिया का समर्थन किया, लगे हाथ पिछले महीनों के दौरान इस क्षेत्र में ढुलमुल अमेरिकी कार्रवाईयों के साथ इसकी तुलना भी कर डाली. उन्होंने अपने कुछ भय भी व्यक्त किये कि सोवियत संघ बर्लिन में बदला ले सकता है।<ref name="cubacrisis">{{cite web|url=http://www.cubacrisis.net/angl/pages/aubord_rfa11.html| title=The Cuban Missile Crisis—Brinkmanship |last=Buffet |first=Cyril |coauthors=Vincent Touze|accessdate=3 Mayमई 2010}}</ref> 23 अक्तूबरअक्टूबर को फ्रांस में, यह संकट सभी दैनिक समाचार पत्रों की सुर्खियां बना हुआ था। अगले दिन, ''ले मोंडे'' के एक संपादकीय में सीआईए के फोटोग्राफिक सबूत की प्रामाणिकता के बारे में संदेह व्यक्त किया गया। दो दिन बाद, एक उच्चस्तरीय सीआईए (CIA) एजेंट के आने के बाद, उन्होंने तस्वीरों की वैधता को स्वीकार किया। फ्रांस में ही, ''ले फिगारो'' के 29 अक्टूबर के अंक में रेमंड एरोन ने अमेरिकी प्रतिक्रिया के समर्थन में लिखा.<ref name="cubacrisis" />
 
=== सोवियत प्रसारण ===
=== अमेरिकी सतर्कता स्तर में बढ़ोतरी ===
 
[[चित्र:Adlai_Stevenson_shows_missiles_to_UN_Security_Council_with_David_Parker_standing.jpg|right|thumb|अडलाई स्टेबेंसो क्यूबा के मिसाइल की हवाई तस्वीर 1962 नवंबरनवम्बर को संयुक्त राष्ट्र को दिखाते हैं।]]
गुरुवार, 25 अक्टूबर को संयुक्त राज्य अमेरिका ने [[संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद]] की आपात बैठक बुलाने का अनुरोध किया। सुरक्षा परिषद् की आपात बैठक में यू.एन. (U.N.) में यू॰एस॰ (U.S.) राजदूत अडलाई स्टीवेंसन ने सोवियत राजदूत वैलेरियन ज़ोरीन का सामना करते हुए ऊंची आवाज में रोब जमाने के स्वर में उनसे मिसाइलों के अस्तित्व को स्वीकार करने की मांग की. राजदूत जोरीन ने जवाब देने इंकार कर दिया. अगले दिन रात 10:00 ईएसटी (EST) बजे यू॰एस॰ (U.S.) अमेरिका ने डेफकॉन (DEFCON) 2 बलों के बराबर एसएसी (SAC) बलों के तत्परता स्तर को बढ़ा दिया. अमेरिकी इतिहास में एकमात्र पक्के समय के लिए बी-52 बमवर्षकों को 15 मिनट की नोटिस पर विभिन्न स्थानों के लिए रवाना किया गया और उन्हें पूरी साज-सज्जा के साथ उड़ान भरने को तैयार रहने के लिए कहा गया।<ref name="hpol">{{cite web|url=http://www.hpol.org/jfk/cuban/ |title=The Cuban Missile Crisis, October 18–29, 1962|accessdate=6 Mayमई 2010|publisher=History Out Loud |date=August 21, 1997}}</ref> एसएसी (SAC) के 1,436 बमवर्षकों में से आठवें हिस्से को विमानस्थ रहने के लिए सावधान कर दिया गया था, जबकि एयर डिफेन्स कमांड (एसीडी (ADC)) ने 161 परमाणु-हथियार से लैस अवरोधक विमानों को 16 वितरण क्षेत्रों में नौ घंटे के अंदर पुनः वितरित किया, जिनमे से एक-तिहाई को 15-मिनट की सावधान अवस्था में रखा गया।<ref name="Kamps, Charles Tustin 2007, page 88" />
 
"२२ अक्टूबर तक, सामरिक वायु कमान (टीएसी (TAC)) ने एक घंटे की सतर्क अवस्था में क्यूबा का सामना करने के लिए 511 लड़ाकू विमानों सहित मददगार टैंकरों और टोही विमानों को तैनात कर दिया था। हालांकि, टीएसी और सैन्य एयर ट्रांसपोर्ट सेवा की समस्याएं थीं। फ्लोरिडा में विमानों के जमाव से कमान और सहायक पंक्तियों में तनाव पैदा हुआ; हमें सुरक्षा, हथियारों और संचार में कर्मियों की कमी के संकट का सामना करना पडा; पारंपरिक युद्ध सामग्री के युद्ध-आरक्षित भंडार के लिए आरंभिक अनुमति के अभाव में TAC को मजबूरन उधार लेना पडा; और किसी बड़े हवाई ड्रॉप में सहायता के लिए हवाई परिवहन सामग्री की कमी के कारण 24 रिजर्व स्क्वाड्रनों के लिए भर्ती का आदेश देना जरुरी हो गया।<ref name="Kamps, Charles Tustin 2007, page 88" />
 
25 अक्टूबर, गुरुवार की सुबह 1:45 ईएसटी (EST) बजे कैनेडी ने ख्रुश्चेव के तार का जवाब देते हुए कहा कि यू॰एस॰ (U.S.) को कार्रवाई के लिए मजबूर किया गया है, हमें लगातार यह आश्वासन मिलता रहा कि क्यूबा में कोई आक्रामक हथियार नहीं लगाए गये हैं और जब ये आश्वासन गलत साबित हुए तब तैनाती "के खिलाफ वो प्रतिक्रियाएं जरुरी हो गयीं जिनकी मैंने घोषणा की है।.. मुझे आशा है कि आपकी सरकार पहले की स्थिति की बहाली के लिए आवश्यक कार्रवाई करेगी."
[[चित्र:Location of Navy and Soviet ships during the Cuban Missile Crisis.jpg|right|thumb|एक हाल ही में संकट के चरम समय में यू॰एस॰ (U.S.) नौसेना के अटलांटिक बेडे द्वारा गुप्त रूप से प्रयोग किए गए वर्गीकृत मानचित्र में अमेरिका और सोवियत पोतों की स्थिति को ‍दिखाते हुए.]]
 
गुरुवार की सुबह 7:15 ईएसटी (EST) बजे यूएसएस ''एसेक्स'' (USS Essex) और यूएसएस ''गेयरिंग'' (USS Gearing) ने ''बुखारेस्ट'' को बीच में रोकने का प्रयास किया मगर ऐसा करने में विफल रहे. काफी हद तक निश्चित था कि उस टैंकर में कोई सैन्य सामग्री नहीं थी, इसे नाकाबंदी से जाने की अनुमति दे दी गयी थी। बाद में उस दिन, शाम 5:43 पर, नाकाबंदी प्रयास के कमांडर ने यूएसएस ''कैनेडी'' को लेबनानी मालवाहक जहाज ''मरुक्ला'' (Marucla) को रोकने और उस पर चढ़ने का आदेश दिया. यह काम अगले दिन हुआ और उसके कार्गो की जांच के बाद ''मरुक्ला'' को नाकाबंदी से बहार जाने की अनुमति दे दी गयी।<ref>{{cite web|url=http://www.battleshipcove.org/news-boarding-marucla.htm|title=Boarding MARUCLA: A personal account from the Executive Officer of USS Joseph P. Kennedy, Jr.|last=Reynolds|first=K.C.|accessdate=2010-06-22}}</ref>
 
25 अक्तूबर,अक्टूबर गुरुवार की शाम 5:00 ईएसटी (EST) बजे विलियम क्लीमेंट्स ने घोषणा की कि क्यूबा में मिसाइलों पर अभी भी सक्रिय रूप से काम किया जा रहा है। बाद में सीआईए (CIA) की एक रिपोर्ट द्वारा इस रिपोर्ट को सत्यापित किया गया, जिसके अनुसार काम ज़रा भी धीमा नहीं हुआ था। जवाब में, कैनेडी ने सुरक्षा कार्रवाई ज्ञापन 199 जारी किया, इसके द्वारा SACEUR (सोवियत संघ पर पहला हवाई हमला करने का जिसका जिम्मा था) के कमांड के तहत विमानों पर परमाणु हथियार लादने के काम के लिए अधिकृत किया गया। दिन के दौरान, सोवियतों ने १४ जहाजों को वापस करके अपनी संगरोध पर प्रतिक्रिया दिखाई, उन जहाजों में संभवतः आक्रामक हथियार लदे थे।<ref name="hpol" />
 
=== संकट गतिरोध ===
 
अगली सुबह, शुक्रवार, 26 अक्टूबर, कैनेडी ने एक्सॉम (EXCOMM) को सूचित किया कि उनका मानना है कि सिर्फ आक्रमण से ही क्यूबा से मिसाइलों को हटाया जा सकेगा. हालांकि, इस मामले को समय देने तथा सैन्य व कूटनीतिक दबाव जारी रखने के लिए उन्हें राजी किया गया। वे सहमत हुए और उन्होंने द्वीप पर कम ऊंचाई की उड़ानों में वृद्धि करने के आदेश दिए, प्रतिदिन दो बार की जगह दो घंटे में एक बार उड़ान भरने का आदेश दिया गया। क्यूबा पर अगर हमला हुआ तो वहां एक नयी नागरिक सरकार की स्थापना के लिए उन्होंने एक अकस्मात कार्यक्रम का भी आदेश दिया.
 
इस बिंदु पर, संकट जाहिरा तौर पर एक गतिरोध में फंस गया था। यूएसएसआर (USSR) ने कोई संकेत नहीं दिया था कि वे पीछे हटने वाले हैं और उन्होंने इसके विपरीत कई टिप्पणियां कीं. यू.एस (U.S.) के पास कुछ और विश्वास करने का कोईकार्न नहीं था और वह आक्रमण की तैयारी के शुरुआती दौर में था, साथ ही सोवियत संघ पर नाभिकीय हमला करने की भी योजना थी अगर उसने सैन्य प्रतिक्रिया की, जो मान लिया गया था।<ref name="GWUCubaAG">{{cite web
| url = http://www.gwu.edu/~nsarchiv/nsa/cuba_mis_cri/620119%20Meeting%20with%20the%20Attorney%20Gen..pdf
| date = 19 Januaryजनवरी 1962 | title = Memorandum for the Director of Central Intelligence: Meeting with the Attorney General of the United States Concerning Cuba | author = Helms, Richard (Deputy Director for Plans, CIA) | publisher = [[George Washington University]], National Security Archive }}</ref>
 
== गुप्त वार्ता ==
 
[[चित्र:S-75 Dzwina RB2.jpg|thumb|लांचर पर S-75 ‍डविना V-750V 1D मिसाइल के साथ. मेजर एंडरसन का U-2 जिसे क्यूबा में मार गिराया गया था, उसी के समान एक अन्य स्थापन.]]
दूसरी ओर कास्त्रो को यकीन दिलाया गया कि आक्रमण जल्द ही होनेवाला है और उन्होंने एक पत्र ख्रुश्चेव को लिखवाया, जिसे यू॰एस॰ (U.S.) पर पूर्वक्रियक हमले की मांग के रूप में देखा गया। उन्होंने क्यूबा में सभी विमान भेदी हथियारों का बौछार यू॰एस॰ (U.S.) विमानों पर करने का भी आदेश दिया,<ref>{{cite web|url=http://www.marxists.org/history/cuba/subject/missile-crisis/ch03.htm|title=Cuban History Missile Crisis|last=Baggins.|first=Brian |work=Marxist History: Cuba (1959 - present)|publisher=Marxists Internet Archive|accessdate=7 Mayमई 2010}}</ref> जबकि इससे पहले केवल दो या दो से अधिक को छोड़ने का आदेश था। 27 अक्टूबर शनिवार, सुबह 6:00 ईएसटी (EST) बजे सीआईए (CIA) ने यह बताते हुए एक ज्ञापन दिया कि सैन क्रिस्टोबॉल के चार में से तीन मिसाइल स्थलों और सागुआ ला ग्रैंडे के दो स्थलों पर पूरी कार्रवाई हुई नजर आती है। उसने यह भी कहा कि क्यूबा की सेना का कार्रवाई के लिए व्यवस्थित होना जारी है, हालांकि उन्हें यह आदेश दिया गया है कि जब तक हमला न हो कोई कार्रवाई न की जाए.{{Citation needed|date=May 2010}}
 
27 अक्टूबर की शनिवार सुबह 9:00 ईएसटी (EST) बजे रेडियो मास्को ने ख्रुश्चेव के एक संदेश का प्रसारण शुरू किया। पिछली रात के पत्र के विपरीत इस संदेश में एक नया प्रस्ताव दिया गया, कि इटली और तुर्की से जूपिटर मिसाइलें हटा ली गयीं तो बदले में क्यूबा से मिसाइलें हटा ली जाएंगी. सुबह 10:00 ईएसटी (EST) बजे स्थिति पर चर्चा के लिए कार्यकारी समिति की फिर से बैठक हुई और यह निष्कर्ष निकला कि क्रेमलिन में ख्रुश्चेव और पार्टी के अन्य अधिकारियों के बीच आंतरिक तर्क-वितर्क के बाद संदेश में परिवर्तन हुआ।<ref>{{cite book |title=For the President's Eyes Only: Secret Intelligence and the American Presidency from Washington to Bush |last=Christopher |first= Andrew |pages=688 |isbn=0060921781|publisher=Harper Perennial |date=March 1, 1996}}</ref>{{rp|300}} मैकनैमारा ने पाया कि ''ग्रोज्नी'' नाम का एक और टैंकर रवाना होने{{convert|600|mi|km|-1}} को है, उसे रोक दिया जाना चाहिए. उन्होंने यह भी पाया कि उनलोगों ने यूएसएसआर (USSR) को संगरोधी रेखा के बारे में जागरूक नहीं किया गया है, इसीलिए संयुक्त राष्ट्र में [[यू थान्ट|यू थांट]] के जरिए उन्हें यह सूचना पहुंचा देने का उन्होंने सुझाव दिया.
पत्र मिलने के साथ ही एक समझौता तैयार हुआ। हालांकि जैसे कि रॉबर्ट कैनेडी ने जिक्र किया, एक छोटी-सी अपेक्षा थी कि इसे स्वीकार कर लिया जाएगा. रात 9:00 ईएसटी (EST) बजे अगले दिन की कार्रवाई पर विचार करने के लिए एक्सॉम (EXCOMM) की फिर से बैठक हुई. मिसाइल स्थलों के साथ ही साथ अन्य आर्थिक लक्ष्यों, विशेष रूप से पोट्रोलियम भंडारण पर हवाई हमलों की योजनाओं को रोक दिया गया। मैकनैमारा ने कहा कि उन्हें "दो चीजें तैयार रखनी" ही पड़ेंगी: क्यूबा के लिए एक सरकार, क्योंकि हमें इसकी जरूरत पड़ने वाली है; और दूसरा, यूरोप में सोवियत संघ से कैसे निपटा जाय इसकी योजनाएं, क्योंकि निश्चित तौर पर वे लोग वहां कुछ न कुछ गड़बड़ करने वाले हैं।{{Citation needed|date=May 2010}}
 
27 अक्टूबर, शनिवार की मध्य रात्रि 12:12 ईएसटी (EST) को यू॰एस॰ (U.S.) ने अपने नाटो (NATO) सहयोगियों को सूचित किया कि "स्थिति कमजोर होने जा रही है।.. संयुक्त राज्य अमेरिका को जरूरी लगता है बहुत ही कम समय के भीतर अपने हितों के लिए उसे और पश्चिमी गोलार्द्ध में उसके सहयोगी देशों को कोई भी सैन्य कार्रवाई करना जरूरी हो सकता है।" सुबह 6 बजे सीआईए (CIA) ने चिंता में और इजाफा करने के लिए रिपोर्ट किया कि क्यूबा में सभी मिसाइलें कार्रवाई के लिए तैयार थीं।
 
बाद में उसी दिन, इस जानकारी के बगैर ही कि पनडुब्बी परमाणु-सिरे वाला टारपिटो के ऐसे क्रम में लैस था ताकि अगर पनडुब्बी के ढांचे में "छेद हो जाए" (गहराई पर मार करनेवाले हथगोले से सतह पर आग लगने पर छेद हो जाना) तो इसके प्रयोग किया जा सके, यूएस (US) नौसेना ने बहुत सारा "सिग्नलिंग डीप चार्जेज" (बहुत गहराई में छोड़े जानेवाले हैंड ग्रैनेड का आकार<ref>{{cite web|url=http://www.gwu.edu/~nsarchiv/NSAEBB/NSAEBB75/|title=The Submarines of October|accessdate=1 Mayमई 2010|publisher= [[George Washington University]], National Security Archive }}</ref>) संगरोधी रेखा में सोवियत पनडुब्बी (बी-59) पर गिराया, व्हाइट हाउस ने बाद में उसे "काला शनिवार" कहा.<ref>{{cite web|url=http://www.gwu.edu/~nsarchiv/nsa/cuba_mis_cri/press3.htm|title=The Cuban Missile Crisis, 1962: Press Release, 11 Octoberअक्टूबर 2002, 5:00 PM|date=2002-10-11|publisher= [[George Washington University]], National Security Archive |accessdate=2008-10-26}}</ref> उसी दिन, यू॰एस॰ (U.S.) के एक जासूसी विमान U-2 ने गलती से, अनाधिकृत रूप से सोवियत संघ के सुदूर पूर्वी तट के ऊपर से उड़ान भरी.<ref>{{cite web|url=http://www.usip.org/files/resources/sr205.pdf|title=Why We Should Still Study the Cuban Missile Crisis|last=Dobbs|first=Michael|date=June 2008|work=Special Report 205|publisher=United States Institute of Peace|accessdate=2 Mayमई 2010}}</ref>
व्रेंगल द्वीप से सोवियत का मिग लड़ाकू विमान तेजी से उड़ा और इसके प्रतिक्रियास्वरूप अमेरिका ने हवा से हवा में मार करनेवाले परमाणु मिसाइलों के साथ F-102 को बेरिंग सागर के ऊपर भेजा.<ref>{{cite web|url=http://history.sandiego.edu/gen/filmnotes/thirteendays4.html|title=The Thirteen Days, October 16–28, 1962 |last=Schoenherr|first=Steven |date=April 10, 2006|accessdate=3 Mayमई 2010}}</ref>
 
== संकट का अंत ==
सोवियत संघ और कैनेडी की कैबिनेट के बीच काफी विचार-विमर्श के बाद, कैनेडी गुप्त रूप से दक्षिणी इटली और तुर्की में सभी मिसाइलों को हटा लेने पर सहमत हुए, बाद में सोवियत संघ की सीमा पर से भी, बदले में ख्रुश्चेव ने क्यूबा से सभी मिसाइलें हटा लीं.
 
20 अक्टूबर, सोमवार के दिन सुबह 9:00 ईडीटी (EDT) बजे मॉस्को रेडियो पर ख्रुश्चेव का नया संदेश प्रसारित किया गया। ख्रुश्चेव ने कहा कि, "सोवियत सरकार ने, हर्थियारों निर्माण स्थलों पर काम बंद करने के पहले के जारी निर्देश के अलावा, जिसे आप 'आक्रामक' बताते हैं, उन हथियारों को नष्ट करने और उन्हें पेटीबंद करके सोवियत संघ वापस लाने का एक नया आदेश भी जारी किया है।
 
कैनेडी ने तुरंत बयान जारी करते हुए इसे "शांति के लिए एक महत्वपूर्ण और रचनात्मक कदम" बताया. एक औपचारिक पत्र में उन्होंने आगे कहा: "सत्ताइस अक्टूबर को आपको लिखे गए मेरे पत्र और आज आपके जवाब को मैं हमारी दोनों सरकारों का दृढ़ उपक्रम मानता हूं, जिसे मुस्तैदी के साथ जारी रखा जाना चाहिए... क्यूबा के संदर्भ में सुरक्षा परिषद के ढांचे के तहत यू॰एस॰ (U.S.) एक बयान देगा, जो इस तरह है: यह घोषणा की जाएगी कि संयुक्त राज्य अमेरिका क्यूबा की सीमाओं की अनुल्लंघनीयता, इसकी संप्रभुता का सम्मान करेगा, आंतरिक मामले में दखल नहीं देगा, अतिक्रमण नहीं करने और क्यूबा पर हमला करने के लिए एक मोर्चे के रूप में अपनी भूमि के इस्तेमाल करने की अनुमति नहीं देने की शपथ लेगा और यू.एस (U.S.) की जमीन पर से या क्यूबा के पड़ोसी देश की जमीन से क्यूबा पर आक्रमण करने की योजना बनाने वालों को रोकेगा."<ref name="Faria">{{cite web|last=Faria |first=Miguel |title=Cuba in Revolution—Escape from a Lost Paradise |year=2002 |publisher= Hacienda Publishing |location=Macon, Georgia | ISBN=0-9641077-3-2}}</ref>{{rp|103}}
 
यू॰एस॰ (U.S) ने संगरोध जारी रखा और अगले दिनों में, हवाई जांच ने साबित कर दिया कि सोवियत का मिसाइल प्रणालियों को दूर हटाने का काम प्रगति पर था। 42 मिसाइलों और उनके सहयोगी उपकरणों को आठ सोवियत जहाज पर लाद दिया गया था। 5-9 नवंबरनवम्बर तक जहाजों ने क्यूबा छोड़ दिया. यू॰एस॰ (U.S.) ने अंतिम दृश्य जांच किया कि हरेक जहाज संगरोधी लाइन को पार चुका हैं या नहीं. सोवियत आईएल-28 बमवर्षकों को हटाने के लिए आगे और भी राजनयिक प्रयासों की जरूरत थी और 5 तथा 6 दिसंबरदिसम्बर को वे तीन सोवियत जहाजों में लाद दिए गए। संगरोध औपचारिक रूप से 20 नवंबरनवम्बर 1962 को शाम 6:45 ईडीटी (EDT) बजे समाप्त हो गया।<ref name="global">{{cite web|url=http://www.globalsecurity.org/military/ops/cuba-62.htm|title=Cuban Missile Crisis|publisher=Global Security|accessdate=6 Mayमई 2010}}</ref>
 
यू॰एस॰ (U.S.) एटॉर्नी जनरल रॉबर्ट कैनेडी ने सोवियत राजदूत एंटोनी डोब्रेनि‍न से अपने समझौते में अनौपचारिक रूप से प्रस्ताव दिया कि [[तुर्की]] में जूपिटर मिसाइलों को "संकट खत्म होने के कुछ ही दिनों के भीरत" हटा लिया जाएगा.<ref>{{cite book | last=Glover |first=Jonathan |title=Humanity: a moral history of the twentieth century |url=http://books.google.com/?id=xtqFJVhmuowC |accessdate=2009-07-02 |year=2000 |publisher=Yale University Press |isbn=0300087004 |pages=464 }}</ref>{{rp|222}} आखिरी यू॰एस॰ (U.S.) मिसाइलों को 24 अप्रैल 1963, तक खोलकर अलग-अलग कर दिया गया और इसके तुरंत बाद उन्हें तुर्की से बाहर भेज दिया गया।<ref>{{cite book |last=Schlesinger |first=Arthur |title=Robert Kennedy and his times |url=http://books.google.com/?id=0xqrU5lnD7AC&pg=PA528&dq=robert+kennedy+ambassador++cuban+missile |accessdate=July 2, 2009 |year=2002 |publisher=Houghton Mifflin Harcourt |isbn=0618219285 |page=523 |pages=1088 }}</ref>
इस नतीजे से यू॰एस॰ (U.S.) के एक सैन्य कमांडर बहुत खुश नहीं थे। जनरल लेमे ने राष्ट्रपति से कहा कि "हमारे इतिहास में यह सबसे बड़ी हार है" और यू॰एस॰ (U.S.) को तुरंत क्यूबा पर आक्रमण करना चाहिए.
 
क्यूबा मिसाइल संकट ने हॉटलाइन एग्रीमेंट के लिए प्रेरित किया, जिससे मॉस्को-वाशिंगटन हॉट लाइन का निर्माण मॉस्को और वाशिंगटन डी.सी. के बीच सीधे संपर्क के लिए हुआ। इसका उद्देश्य ऐसा रास्ता निकालना था, जिससे शीत युद्ध के दोनों देशों के नेता ऐसे संकट को सुलझाने के लिए सीधे संवाद स्थापित कर सके.‍ विश्व व्यापी यूएस (US) सैन्य बल डेफोकन 3 (DEFCON 3) की स्थिति 20 नवंबरनवम्बर 1962 को डेफकोन 4 (DEFCON 4) में बदल गया। यू-2 (U-2) पायलट मेजर एंडरसन की लाश संयुक्त राज्य अमेरिका लौटी और उसे पूरे सैनिक सम्मान के साथ दक्षिण कैरोलिना में दफनाया गया था। नव निर्मित एअर फोर्स क्रॉस पानेवाले वे पहले थे, जिन्हें मरणोपरांत सम्मानित किया गया।
 
हालांकि इस संकट के दौरान केवल मेजर रुडोल्फ एंडरसन की लड़ाई में मृत्यु हुई; साथ ही 27 सितंबर और 11 नवबंर 1962 के बीच की अवधि के दौरान 55वें स्ट्रैटिजिक रीकॉनसैंस विंग (Strategic Reconnaissance Wing) के तीन रीकॉनसैंस (प्राथमिक आक्रमण) बोइंग आरबी-47 स्ट्रैटोजेट्स (Boeing RB-47 Stratojets) की दुर्घटना में चालक दल के ग्यारह सदस्य भी मारे गए थे।<ref>लॉयड, एल्विन टी., "बोइंग बी-47 स्ट्राटोजेट", स्पेशिएलिटी प्रेस, नॉर्थ ब्रांच, मिनेसोटा, 2005, ISBN 978-1-58007-071-3, पृष्ठ 178.</ref>