"तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम लिमिटेड" के अवतरणों में अंतर

छो
बॉट: दिनांक लिप्यंतरण और अल्पविराम का अनावश्यक प्रयोग हटाया।
छो (सन्दर्भ की स्थिति ठीक की।)
छो (बॉट: दिनांक लिप्यंतरण और अल्पविराम का अनावश्यक प्रयोग हटाया।)
| company_logo = [[चित्र:ONGC Logo.svg.png|150px]]
| company_type = [[Government-owned corporation|State-owned enterprise]]<br />[[public company|Public]] ({{BSE|500312}}, {{NSE|ONGC}})
| foundation = 14 Augustअगस्त 1956
| location = [[Dehradun]], [[Uttaranchal]], [[India]]
| key_people = A. K. Hazarika <br /> ([[Chairman]] & [[Managing Director|MD]])
| industry = [[List of petroleum companies|Oil and Gas]]
| products = [[Petroleum]]<br />[[Natural gas]]<br />[[Petrochemicals]]
| revenue = {{profit}} [[United States dollar|US$]] 21.447 billion <small>(2010)</small><ref name=f500>{{cite web|url=http://money.cnn.com/magazines/fortune/global500/2010/snapshots/6362.html|title=Fortune Global 500 Rankings|date=26 Julyजुलाई 2010|publisher=[[Fortune (magazine)|Fortune]]|accessdate=24 Novemberनवम्बर 2010}}</ref>
| net_income = {{profit}} US$ 4.089 billion <small>(2010)</small><ref name=f500/>
| assets = US$ 37.264 billion <small>(2010)</small><ref name=f500/>
[[चित्र:ONGC Oil Platform.jpg|thumb|right|ONGC platform at [[Bombay High]] in the [[Arabian Sea]]]]
 
तेल और प्राकृतिक गैस निगम लिमिटेड (ओएनजीसी)[[23 जून]] [[1993]] से प्रारंभ हुई एक भारतीय [[सार्वजनिक क्षेत्र]] की पेट्रोलियम कंपनी है। इसे [[फॉर्च्यून ग्लोबल 500]] द्वारा 335 वें स्थान पर रखा गया है। यह भारत मे कच्चे तेल के कुल उत्पादन मे 77% और गैस के उत्पादन मे 81% का योगदान करती है। यह सार्वजनिक क्षेत्र की सबसे अधिक लाभ अर्जित करने वाली कंपनी है। इसे 14 अगस्त, 1956 को एक आयोग के रूप में स्थापित किया गया था। इस कंपनी में भारत सरकार की कुल इक्विटी हिस्सेदारी 74,14% है।
 
ओएनजीसी कच्चे तेल के अन्वेषण और उत्पादन गतिविधियों में संलिप्त है। इसकी [[हाइड्रोकार्बन]] के अन्वेषण और उत्पादन गतिविधियों भारत के 26 तलछटी बेसिनों में चल रही हैं। यह भारत के कच्चे तेल की कुल आवश्यकता का लगभग 30% उत्पादन करती है। इसके स्वामित्व मे एक 11000 किलोमीटर लम्बी पाइपलाइन है जिसका परिचालन यह स्वंय करती है। मार्च 2007 तक यह [[मार्केट कैप]] के संदर्भ में यह भारत की सबसे बड़ी कंपनी थी।