"रोमन लिपि" के अवतरणों में अंतर

2 बैट्स् नीकाले गए ,  6 वर्ष पहले
छो
बॉट: विराम चिह्नों के बाद खाली स्थान का प्रयोग किया।
छो (बॉट: अनावश्यक अल्पविराम (,) हटाया।)
छो (बॉट: विराम चिह्नों के बाद खाली स्थान का प्रयोग किया।)
|-}
 
स्वर के ऊपर समतल रेखा (Macron) का अर्थ होता था कि स्वर दीर्घ है, पर इसे लिखना ज़रूरी नहीं माना जाता था। बाद में यूनानी भाषा के उधार के शब्द लाने के लिये [[यूनानी लिपि]] से ये अक्षर लिये गये : K (क), Y (इयु), Z (ज़)। [[व्यंजन]] "उअ" के लिये V प्रयुक्त किया जाने लगा और स्वर "उ" के लिये U। इसके भी कुछ बाद J (य) और W (व) जुड़े। छोटे अक्षरों के रुप (a, b, c, d, e, f, g, h, i, j, k, l, m, n, o, p, q, r, s, t, u, v, w, x, y, z) मध्ययुग में आये। पश्चिम और मध्य [[यूरोप]] की सारी भाषाओं ने लिखावट के लिये रोमन लिपि अपना ली।
 
== अंग्रेज़ी ==
* रोमन लिपि में एक ही अल्फ़ाबेट के कई उच्चारण होते हैं। जैसे '''c''' कहीं 'क' कहीं 'च' कहीं 'स' होता है।
 
* एक ही उच्चारण कई अल्फ़ाबेट्स या उनके समूह से होता है - जैसे '''क''' का उच्चारण 'k' से (kill), 'ch' से (school), 'C' से (Coat),
'Ck' से (Check) या 'Q' (Cheque) होता है।