"स्वदेशी" के अवतरणों में अंतर

1 बैट् नीकाले गए ,  5 वर्ष पहले
छो
बॉट: विराम चिह्नों के बाद खाली स्थान का प्रयोग किया।
छो (बॉट: डॉट (.) को पूर्णविराम और लाघव चिह्न (॰) में बदला।)
छो (बॉट: विराम चिह्नों के बाद खाली स्थान का प्रयोग किया।)
'''स्वदेशी''' का अर्थ है - 'अपने देश का' अथवा 'अपने देश में निर्मित'। वृहद अर्थ में किसी भौगोलिक क्षेत्र में जन्मी, निर्मित या कल्पित वस्तुओं, नीतियों, विचारों को स्वदेशी कहते हैं। वर्ष 1905 के [[बंग-भंग]] विरोधी जनजागरण से स्वदेशी आन्दोलन को बहुत बल मिला। यह 1911 तक चला और गान्धीजी के [[भारत]] में पदार्पण के पूर्व सभी सफल अन्दोलनों में से एक था। [[अरविन्द घोष]], [[रवीन्द्रनाथ ठाकुर]], [[वीर सावरकर]], लोकमान्य [[बाल गंगाधर तिलक]] और [[लाला लाजपत राय]] स्वदेशी आन्दोलन के मुख्य उद्घोषक थे।<ref> {{cite book |last1=क्रान्त |first1=मदनलाल वर्मा|authorlink1= |last2= |first2= |editor1-first= |editor1-last= |editor1-link= |others= |title=स्वाधीनता संग्राम के क्रान्तिकारी साहित्य का इतिहास |url=http://www.worldcat.org/title/svadhinata-sangrama-ke-krantikari-sahitya-ka-itihasa/oclc/271682218 |format= |accessdate= |edition=1 |series= |volume=1 |date= |year=2006 |month= |origyear= |publisher=प्रवीण प्रकाशन |location=नई दिल्ली |language=Hindi |isbn= 81-7783-119-4|oclc= |doi= |id= |page=84 |pages= |chapter= |chapterurl= |quote= |ref= |bibcode= |laysummary= |laydate= |separator= |postscript= |lastauthoramp=}} </ref>
आगे चलकर यही स्वदेशी आन्दोलन [[महात्मा गांधी]] के स्वतन्त्रता आन्दोलन का भी केन्द्र-बिन्दु बन गया। उन्होने इसे "[[स्वराज]] की आत्मा" कहा।
== स्वदेशी का आधार ==