"अनेकांतवाद" के अवतरणों में अंतर

69 बैट्स् जोड़े गए ,  5 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
प्रत्येक वस्तु अनन्त धर्मों का समवाय है। वस्तु में अनन्त विरोधी युगल एक साथ रहते हैं। एक ही वस्तु में वस्तुत्व के निष्पादक परस्पर विरोधी युगलों का प्रकाशन करना ही अनेकान्त है। नित्यत्व-अनित्यत्व, वाच्यत्व-अवाच्यत्व, एकत्व-अनेकत्व आदि विरोधी धर्म परस्पर सापेक्ष रहकर ही अपने अस्तित्व को सुरक्षित रख सकते हैं। <ref>[http://shodhganga.inflibnet.ac.in/bitstream/10603/8458/11/11_chapter%205.pdf नय तथा प्रमाण (शोधगंगा)]</ref>
 
जैन दर्शन के तीन मूलभूत सिद्धान्त हैं- (१) अनेकान्तवाद, (२) नयवाद, (३) स्याद्वाद।[[स्याद्वाद]]। आगम युग में नयवाद प्रधान था। दार्शनिक युग अथवा प्रमाण युग में स्याद्वाद और अनेकान्तवाद प्रमुख बन गए, नयवाद गौण हो गया। [[सिद्धसेन दिवाकर|सिद्धसेन]] ने अनेकान्त की परिभाषा
''’अनेके अन्ता धर्मा यत्र सोऽनेकान्तः’'' [[नयवाद]] के आधार पर की है। नयवाद अनेकान्त का मूल आधार है।
 
* [[नयवाद]]
* [[सिद्धसेन दिवाकर]]
 
==सन्दर्भ==
{{टिप्पणीसूची}}
 
==बाहरी कड़ियाँ==