"विकिपीडिया:मूल शोध नहीं": अवतरणों में अंतर

विकिलिंक किया
छोNo edit summary
(विकिलिंक किया)
'''विकिपीडिया के लेखों में मूल शोध शामिल नहीं होना चाहिये।''' वाक्यांश "मूल शोध" ऐसी सामाग्री जैसे तथ्य, आरोपों और विचारों के लिये प्रयोग होता है जिसके लिए कोई विश्वसनीय, प्रकाशित स्रोत मौजूद नहीं हैं।<ref name="मौजूद">"मौजूद" से समुदाय का मतलब है कि विश्वसनीय स्रोत प्रकाशित किया गया है और अभी भी मौजूद है—दुनिया में कहीं भी, किसी भी भाषा में, चाहे वो इंटरनेट पर उपलब्ध हो या नहीं—भले ही वर्तमान में लेख में कोई स्रोत नामित नहीं है—लेख जिनमें फिलहाल किसी भी प्रकार का स्रोत नामित नहीं है इस नीति के साथ पूरी तरह अनुरूप हो सकते है जब तक कि एक ''उचित उम्मीद'' है कि पूरी सामग्री प्रकाशित, विश्वसनीय स्रोत द्वारा समर्थित है।</ref> इसमें प्रकाशित सामग्री का कैसा भी [[#प्रकाशित सामग्री का संश्लेषण|विश्लेषण या संश्लेषण शामिल है जो किसी निष्कर्ष पर पहुँचता है या संकेत करता है जो स्रोतों ने नहीं कहा है]]। आप मूल शोध नहीं जोड़ रहे है प्रदर्शित करने के लिये आपको प्रकाशित विश्वसनीय स्रोत उपलब्ध करने के लिये सक्षम होना चाहिये जो सीधे लेख के विषय से संबंधित है और सीधे प्रस्तुत की जा रही सामग्री का समर्थन करता हैं। (मूल शोध नहीं की यह नीति वार्ता पृष्ठों के लिए लागू नहीं होती।)
 
मूल शोध का निषेध होने का मतलब है कि लेख में जोड़ी गई सभी सामग्री विश्वसनीय प्रकाशित स्रोत पर ''आरोपणीय'' हो, चाहे वास्तव में ''आरोपित'' न हो।<ref name="मौजूद"></ref> [[वि:सत्यापनीयता|सत्यापनीय नीति]] कहती है कि सभी कोटेशन के लिए विश्वसनीय स्रोत का इनलाइन उद्धरण प्रदान किया जाना चाहिए और कुछ भी जिसको चुनौती दी है या दी जाने की संभावना हो—लेकिन स्रोत उन सामग्री के लिए भी मौजूद होना चाहिए जिसको चुनौती नहीं दी गई हो। उदाहरण के लिए: विवरण "पेरिस फ्रांस की राजधानी है" के लिये कोई स्रोत की जरूरत नहीं है, क्योंकि कोई इस पर आपत्ति करेगा इसकी कम ही संभावना है और हम जानते है कि इसके लिये स्रोत मौजूद है। विवरण ''आरोपणीय'' है भले ही ''आरोपित'' नहीं है।
 
सामग्री को विश्वसनीय स्रोतों पर आरोपित करने की आवश्यकता के बावजूद, '''आपको उनकी साहित्यिक चोरी''' या उनके [[विकिपीडिया:कापीराइट उल्लंघन|कॉपीराइट का उल्लंघन]] नहीं करना चाहिए। काफी हद तक स्रोत की सामग्री के अर्थ को बरकरार रखते हुए लेख को अपने ही शब्दों में लिखा जाना चाहिए।