"ढाकेश्वरी मन्दिर" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
[[चित्र:Dhakeshwari Temple (1904).jpg ढाकेश्वरी मंदिर (१९०४ में ; फ्रिज काप ( Fritz Kapp) द्वारा लिया गया फोटो]]
यह मन्दिर [[ढाका]] नगर का सबसे महत्वपूर्ण मन्दिर है। धारणा है कि [[बल्लाल सेन]] ने '''ढाकेश्वरी मन्दिर''' बनवाया।
'''ढाकेश्वरी मन्दिर''' [[ढाका]] नगर का सबसे महत्वपूर्ण [[मन्दिर]] है। इन्हीं ढाकेश्वरी देवी के नाम पर ही ढाका का नामकरण हुआ है। [[भारत का विभाजन|भारत के विभाजन]] से पहले तक ढाकेश्वरी देवी मन्दिर सम्पूर्ण भारत के शक्तिपूजक समाज के लिए आस्था का बहुत बड़ा केन्द्र था। 12वीं शताब्दी में [[सेन राजवंश]] के [[बल्लाल सेन]] ने ढाकेश्वरी देवी मन्दिर का निर्माण करवाया था। ढाकेश्वरी पीठ की गिनती [[शक्तिपीठ]] में की जाती है क्योंकि यहां पर सती के आभूषण गिरे थे।
 
== दीर्घा ==
<gallery>
Image:Dhakeshwari_temple_main_structure_from_side_by_Ragib_Hasan.jpg|Main temple structure from the west side. Photo by [[:en:User:Ragib|Ragib]]
Image:Dhakeshwari temple statue by Ragib Hasan.jpg|The Goddess statue at the Dhakeshwari Temple. Photo by [[:en:User:Ragib|Ragib Hasan]]
File:Dhakeshwari Temple (1904).jpg|Dhakeshwari Temple (1904), Photograph taken by Fritz Kapp
</gallery>
 
==बाहरी कड़ियाँ==
*[http://panchjanya.com//Encyc/2014/12/22/पूर्वोत्तर-का-सौंदर्य-कर-दे-निरुत्तर.aspx पूर्वोत्तर का सौंदर्य कर दे निरुत्तर]
 
[[श्रेणी:बांग्लादेश के मंदिर]]