"ग्रैंड ट्रंक रोड" के अवतरणों में अंतर

295 बैट्स् जोड़े गए ,  6 वर्ष पहले
References
(References added)
(References)
 
===उत्तरपथ===
यह नाम इसे [[मौर्य राजवंश|मौर्य साम्राज्य]] के वक्त दिया गया था। ''उत्तरपथ'', [[संस्कृत]] भाषा का शब्द है जिसका साहित्यिक अर्थ है- ''''उत्तर दिशा की ओर जाने वाला मार्ग''''<ref>{{cite web|url=http://www.spokensanskrit.de/index.php?tinput=uttarApatha&direction=SE&script=HK&link=yes&beginning=|title=उत्तरपथ अर्थ|publisher=सम्भाषणसंस्कृतम् शब्दकोश:|accessdate=१ जनवरी २०१५}}</ref>। यह मार्ग गंगा नदी के किनारे की बगल से होते हुए, गंगा के मैदान के पार, [[पंजाब]] के रास्ते से [[तक्षशिला]] को जाता था। इस रास्ते का पूर्वी छोर [[तमलुक]] में था जो [[गंगा नदी]] के मुहाने पर स्थित एक शहर है। भारत के पूर्वी तट पर समुद्री [[बंदरगाह (पोर्ट)|बंदरगाहों]] के साथ समुद्री संपर्कों में वृद्धि की वजह से [[मौर्य साम्राज्य]] के काल में इस मार्ग का महत्व बढा और इसका व्यापार के लिए उपयोग होने लगा। बाद में, उत्तरपथ शब्द का प्रयोग पूरे उत्तर मार्ग के प्रदेश को दर्शाने के लिए किया जाने लगा<ref name="विपासना न्यूजलेटर">{{Cite book|author=७ वा पूस्तक|title= ग्रैंड ट्रंक रोड|year=१९९७}}</ref> ।<br>
हाल में हुआ संशोधन यह दर्शाता है कि, मौर्य साम्राज्य के कालावधि में, [[भारत]] और [[पश्चिमी एशिया]] के कई भागों और हेलेनिस्टिक दुनिया के बीच थलचर व्यापार, उत्तर-पश्चिम के शहरों मुख्यतः [[तक्षशिला]] के माध्यम से होता था। तक्षशिला, मौर्य साम्राज्य के मुख्य शहरों से, सड़कों द्वारा अच्छी तरह से जुडा हुआ था। मौर्य राजाओं ने [[पाटलिपुत्र]] ([[पटना]]) को ज़ोडने के लिए तक्षशिला से एक राजमार्ग का निर्माण किया था। [[चंद्रगुप्त मौर्य]] ने [[यूनानी धर्म|यूनानी]] राजनयिक [[मेगस्थनीज]] की आज्ञा से इस [[राजमार्ग]] के रखरखाव के लिए अपने सैनिकों को विविध जगहों पर तैनात किया था। आठ चरणों में निर्मित यह राजमार्ग, [[पेशावर]], [[तक्षशिला]], [[हस्तिनापुर]],[[कन्नौज]], [[इलाहाबाद|प्रयाग]], [[पाटलिपुत्र]] और [[ताम्रलिप्त]] के शहरों को ज़ोडने का काम करता था।
===सड़क-ए-आजम===
1,109

सम्पादन