"समराङ्गणसूत्रधार" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
: अय:कपालाहितमन्दवह्निप्रतप्ततत्कुम्भभुवा गुणेन
: व्योम्नो झगित्याभरणत्वमेति सन्तप्तगर्जद्ररसरागशक्त्या॥ ९८
 
==संरचना==
{| class="wikitable"
|-
! अध्याय !! नाम
|-
| १ || महासमागमन
|-
| ३ || प्रश्न
|-
| ५ || भुवनकोश
|-
| ६ || सहदेवाधिकार
|-
| ८ || भूमिपरीक्षा
|-
| ९ || हस्तलक्षणम्
|-
| १० ||
|-
| ११ || वास्तुत्रयविभाग
|-
| १२ ||
|-
| १३ || मर्मवेध
|-
| १४ ||
|-
| १५ || राजनिवेशः
|-
| १६ || वनप्रवेश
|-
| १७ ||
|-
| १८ ||
|-
| १९ ||
|-
| २० ||
|-
| ८३ ||
|}
 
==इन्हें भी देखें==