"टैंगो चार्ली (2005 फ़िल्म)" के अवतरणों में अंतर

छो
 
[[भारत]] और [[पाकिस्तान]] की उपजी तनाव [[कारगिल]] युद्ध में बदलती है, माइक अल्फा की प्लाटुन अपनी बटालियन समेत [[कश्मीर]] के मुख्य पुल की सुरक्षा की नियुक्ति मिलती है, आपातकालिन परिस्थितियों से निबटने के लिए वो इसका पूर्वाभ्यास भी करते है, माइक से तरुण को सख्त निर्देश मिलते है की जबतक कोई गेटपास के लिए तीन बार पासवर्ड पुछने पर जवाब न मिले तो उसे फौरन गोली मार दे ।
तरुण को पुल की प्रवेशद्वार पर चौकसी करने को मिलती है, जो उसके लिए बहुत नीरस काम था । पर इसी तरह एक रोज आतंकवादियों का लीडर सेना का उच्चाधिकरी (मुकेश तिवारी) के रूप में अपने लश्करों के साथ पुल पार करने की दर्ख्वासत करता है, जिसे बगैर फासवर्ड मिले वह जाने नहीं देता, तिलमिलाया ऑफिसर उसे काॅर्टमार्शल की धमकी देता है । जब उचित जवाब नहीं मिलता तो तरुण उसके एक सदस्य को गोली मार देता है । अब लीडर अपने जेहादियों को पुल को तबाह करने का आदेश देता है, तरुण उन पर गोलियाँ बरसाता है । तब तक माइक और उनकी पलटन बचाव रणनीति अपनाते हुए उन सबको मार गिराता है, लेकिन दुश्मनों की संख्या अधिक होने पर उसके सिपाही भी मारे जाते है, माइक भी लीडर के हाथों बुरी तरह घायल होता है, फिर भी रिइंफाॅर्समेंट टीम (अतिरिक्त दल) के आने तक उनको रोके रहता हैं । तब तक वह दुश्मनों को पीछे खदेड़ देता है, तरुण बदला लेने उनके पीछे जाता है । रिइंफाॅर्समेंट टीम पहुँचने पर जख्मी माइक उनको रोककर पासवर्ड पुछता है, जिसका सही जवाब 'बरसात' होता है ।
 
== मुख्य कलाकार ==
1,068

सम्पादन