"तिरुवल्लुवर" के अवतरणों में अंतर

372 बैट्स् जोड़े गए ,  6 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (बॉट: दिनांक लिप्यंतरण और अल्पविराम का अनावश्यक प्रयोग हटाया।)
'''तिरुवल्लुवर''' ({{lang-ta|திருவள்ளுவர்}}) एक प्रख्यात [[तमिल भाषा|तमिल]] कवि हैं जिन्होंने [[तमिल साहित्य]] में नीति पर आधारित कृति थिरूकुरल का सृजन किया। उन्हें थेवा पुलवर, वल्लुवर और पोयामोड़ी पुलवर जैसे अन्य नामों से भी जाना जाता है।
 
तिरुवल्लुवर का जन्म [[मयलापुर|मायलापुर]] में हुआ था। उनकी पत्नी वासुकी एक पवित्र और समर्पित महिला थी, एक ऐसी आदर्श पत्नी जिसने कभी भी अपने पति के आदेशों की अवज्ञा नहीं की और उनका शतशः पालन किया। तिरुवल्लुवर ने लोगों को बताया कि एक व्यक्ति गृहस्थ या गृहस्थस्वामी का जीवन जीने के साथ-साथ एक दिव्य जीवन या शुद्ध और पवित्र जीवन जी सकता है। उन्होंने लोगों को बताया कि शुद्ध और पवित्रता से परिपूर्ण दिव्य जीवन जीने के लिए परिवार को छोड़कर सन्यासी बनने की आवश्यकता नहीं है। उनकी ज्ञान भरी बातें और शिक्षा अब एक पुस्तक के रूप में मौजूद है जिसे 'थीरूकुरल[[तिरुक्कुरल]]' के रूप में जाना जाता है।<ref>http://www.tn.gov.in/literature/thiruvalluvar/Thirukkural/kural.htm</ref> तमिल कैलेंडर की अवधि उसी समय से है और उसे तिरुवल्लुवर आन्दु (वर्ष) के रूप में संदर्भित किया जाता है।<ref>http://www.dlshq.org/saints/thiruvalluvar.htm</ref>
 
तिरुवल्लुवर के अस्तित्व का समय पुरातात्विक साक्ष्य के बजाय ज्यादातर भाषाई सबूतों पर आधारित है क्योंकि किसी पुरातात्विक साक्ष्य को अभी तक निर्धारित नहीं किया गया है। उनके काल का अनुमान 200 ई.पू. और 30 ई.पू. के बीच लगाया गया है।<ref>http://www.tn.gov.in/literature/thiruvalluvar/thiruvalluvar.htm</ref>
प्रत्येक अध्याय में कुल 10 दोहे या ''कुरल'' है और कुल मिलाकर कृति में 1330 दोहे हैं।
 
===ऋषभदेव===
तिरुक्कुरल का प्रथम अध्याय ईश्वर-स्तुति पर है, जिसमे जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर [[ऋषभदेव]] की स्तुति की गयी है|
 
==मूर्ति==
भारतीय उपमहाद्वीप (कन्याकुमारी) के दक्षिणी सिरे पर संत तिरुवल्लुवर की 133 फुट लंबी प्रतिमा बनाई गई है जहां अरब सागर, [[बंगाल की खाड़ी]] और हिंद महासागर मिलते हैं।
133 फुट, तिरुक्कुरल के 133 अध्यायों या ''अथियाकरम'' का प्रतिनिधित्व करते हैं और उनकी तीन अंगुलिया ''अरम'', ''पोरूल'' और ''इनबम'' नामक तीन विषय अर्थात नैतिकता, धन और प्रेम के अर्थ को इंगित करती हैं।
* [[तिरुक्कुरल]]
* [[वल्लुवर कोट्टम]]
* [[तमिल जैन]]
 
== टिप्पणियां ==