"समुद्र मन्थन" के अवतरणों में अंतर

353 बैट्स् जोड़े गए ,  5 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (GifTagger द्वारा Dasavatara2.gif की जगह File:Dasavatara2.png लगाया जा रहा है (कारण: Replacing GIF by exact PNG duplicate.))
{{Double image stack|left|अंगकोरवाटसमुद्रमंथन.jpg|Awatoceanofmilk01.JPG‎|300|[[अंगकोर वाट]] में समुद्र मंथन का भित्ति चित्र।}}
'''समुद्र मन्थन''' एक प्रसिद्ध [[हिन्दू]] पौराणिक कथा है। यह कथा [[भागवत पुराण]], [[महाभारत]] तथा [[विष्णु पुराण]] में आती है।
 
==कथा==
श्री शुकदेव जी बोले, "हे राजन्! राजा [[बलि]] के राज्य में [[दैत्य]], [[असुर]] तथा [[दानव]] अति प्रबल हो उठे थे। उन्हें [[शुक्राचार्य]] की शक्ति प्राप्त थी। इसी बीच [[दुर्वासा]] ऋषि के शाप से देवराज इन्द्र शक्तिहीन हो गये थे। दैत्यराज बलि का राज्य तीनों लोकों पर था। इन्द्र सहित देवतागण उससे भयभीत रहते थे। इस स्थिति के निवारण का उपाय केवल बैकुण्ठनाथ विष्णु ही बता सकते थे, अतः ब्रह्मा जी के साथ समस्त देवता भगवान [[नारायण]] के पास पहुचे। उनकी स्तुति करके उन्होंने भगवान विष्णु को अपनी विपदा सुनाई। तब भगवान मधुर वाणी में बोले कि इस समय तुम लोगों के लिये संकट काल है। दैत्यों, असुरों एवं दानवों का अभ्युत्थान हो रहा है और तुम लोगों की अवनति हो रही है। किन्तु संकट काल को मैत्रीपूर्ण भाव से व्यतीत कर देना चाहिये। तुम दैत्यों से मित्रता कर लो और क्षीर सागर को मथ कर उसमें से अमृत निकाल कर पान कर लो। दैत्यों की सहायता से यह कार्य सुगमता से हो जायेगा। इस कार्य के लिये उनकी हर शर्त मान लो और अन्त में अपना काम निकाल लो। अमृत पीकर तुम अमर हो जाओगे और तुममें दैत्यों को मारने का सामर्थ्य आ जायेगा।
 
इस तरह देवताओं को अमृत पिलाकर भगवान विष्णु वहाँ से लोप हो गये। उनके लोप होते ही दैत्यों की मदहोशी समाप्त हो गई। वे अत्यन्त क्रोधित हो देवताओं पर प्रहार करने लगे। भयंकर देवासुर संग्राम आरम्भ हो गया जिसमें देवराज इन्द्र ने दैत्यराज बालि को परास्त कर अपना इन्द्रलोक वापस ले लिया।
 
== चौदह रत्न्रत्न ==
* [[कालकूट]]
* [[ऐरावत]]
* [[धन्वन्तरि]]
* [[अमृत]]
 
==बाहरी कड़ियाँ==
 
[[श्रेणी:हिन्दू धर्म]]