"लघुगणक" के अवतरणों में अंतर

269 बैट्स् जोड़े गए ,  6 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
[[चित्र:Logarithms.png|thumb|300px| अलग-अलग आधार के लिये लघुगणकीय फलन का आरेखण: <span style="color:red">लाल रंग</span> वाला ''<span style="color:red">e</span>'', <span style="color:green">हरा रंग</span> वाला <span style="color:green">10</span>, तथा<span style="color:purple">बैगनी</span> वाला <span style="color:purple">1.7</span>. सभी आधारों के लघुगणक बिन्दु (1,&nbsp;0) से होकर गुजरते हैं क्योंकि किसी भी संख्या पर शून्य घातांक का मान 1 होता है।]]
 
[[स्कॉटलैंड]] निवासी [[नैपियर]] द्वारा प्रतिपादित '''लघुगणक''' (Logarithm / लॉगेरित्मलॉगेरिद्म) एक ऐसी गणितीय युक्ति है जिसके प्रयोग से गणनाओं को छोटा किया जा सकता है। इसके प्रयोग से गुणा और भाग जैसी जटिल प्रक्रियाओं को जोड़ और घटाने जैसी अपेक्षाकृत सरल क्रियाओं में बदल दिया जाता है। [[कम्प्यूटर]] और [[कैलकुलेटर]] के आने के पहले जटिल गणितीय गननाएँ लघुगणक के सहारे ही की जातीं थीं।
 
==परिभाषा==
[[गणित]] में किसी दिए हुए आधार पर किसी संख्या का '''लघुगणक''' वह संख्या होती है जिसको उस आधार के उपर [[घात (गणित)|घात]] लगाने से उसका मान दी हुई संख्या के बराबर हो जाय। उदाहरण के लिये, १० आधार पर १००००० (एक लाख) का लघुगणक ५ होगा क्योंकि आधार १० पर ५ घात लगाने से उसका मान १००००० हो जाता है।