"विदूषक" के अवतरणों में अंतर

2 बैट्स् जोड़े गए ,  6 वर्ष पहले
 
== संस्कृत नाटकों में विदूषक ==
विश्व रंग मंच में विदूषक की परिकल्पना भारतीय नाटकों में एकमेव है। [[नाट्यशास्त्र]] के रचयिता [[भरत मुनि]] ने विदूषक के चरित्र एवं रूपरंग पर काफी विचार किया है। [[अश्वघोष]] ने अपने संस्कृत नाटकों में विदूषक को स्थान दिया जो [[प्रकृतप्राकृत]] बोलते हैं। [[भास]] ने तीन अमर विदूषक चरित्रों का सृजन किया - '''वसन्तक''', '''सन्तुष्ट''' और '''मैत्रेय'''।
 
== बाहरी कड़ियाँ ==