मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

15 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
छो
बॉट: अनुभाग शीर्षक एकरूपता के लिए अनुभाग का नाम बदला।
अखण्ड पाञ्चाल की सत्ता [[पाण्डव|पाण्डवों]] के ससुर तथा [[द्रौपदी]] के पिता [[द्रुपद]] के पास थी। कहा जाता है कि पहले द्रुपद तथा पाण्डवों और [[कौरव|कौरवों]] के गुरु [[द्रोणाचार्य]] के बीच घनिष्ट मित्रता थी लेकिन कुछ कारणवश दोनों में मन-मुटाव हो गया। फलतः दोनों के बीच युद्ध छिड़ गया। युद्ध में द्रुपद की हार हुयी और पाञ्चाल का विभाजन हुआ। उत्तर पाञ्चाल के राजा द्रोणाचार्य के पुत्र [[अश्वत्थामा]] मनोनीत हुये तथा द्रुपद को दक्षिण पाञ्चाल से ही संतोष करना पड़ा। दोनों राज्यों को गंगा अलग करती थी।
 
== संदर्भसन्दर्भ ==
<references/>
 
== यहइन्हें भी देखें ==
* [[महाजनपद]]
{{महाभारत}}