"तिरुवल्लुवर" के अवतरणों में अंतर

847 बैट्स् जोड़े गए ,  5 वर्ष पहले
छो
Reverted 1 edit by 183.83.173.127 (talk) to last revision by जैन. (TW)
छो (Reverted 1 edit by 183.83.173.127 (talk) to last revision by जैन. (TW))
जॉर्ज उग्लो पोप या जी.यू पोप जैसे अधिकांश शोधकर्ताओं और तमिल के महान शोधकर्ताओं ने जिन्होंने [[तमिल नाडु|तमिलनाडु]] में कई वर्ष बिताए और [[अंग्रेज़ी भाषा|अंग्रेजी]] में कई पाठों का अनुवाद किया है जिसमें तिरुक्कुरल शामिल है, उन्होंने तिरुवल्लुवर को परैयार के रूप में पहचाना है। कार्ल ग्रौल (1814-1864) ने पहले ही 1855 तक तिरुक्कुरल को बौद्ध पंथ की एक कृति के रूप में चित्रित किया था। इस संबंध में यह विशेष दिलचस्पी का विषय था कि थिरुक्कुरल के लेखक तिरुवल्लुवर को तमिल परंपरा में परैयार के रूप में पहचाना गया (जैसा कि, संयोग से, अन्य प्रसिद्ध प्राचीन तमिल लेखकों के मामले में था, जैसे, औवैयार; cf. पोप 1886: i–ii, x–xi). हो सकता है ग्रौल ने जैनियों को भी बौद्धों के अंतर्गत सम्मिलित किया (ग्रौल 1865: xi नोट).
 
===जैन==he is very good person=
जैन विद्वान् और कई इतिहासकार मानते है की तिरुवल्लुवर एक जैन मुनि थे, क्यूंकि तिरुक्कुरल का पहला अध्याय जैन धर्म के प्रथम [[तीर्थंकर]] [[ऋषभदेव]] को समर्पित है | इसके आलावा तिरुक्कुरल की शिक्षाएं जैन धर्म की शिक्षाओं से मेल खाती है | भारतीय ज्ञानपीठ द्वारा प्रकाशित पुस्तक कुरल काव्य में भी तिरुवल्लुवर के जैन होने की बात स्पष्ट लिखी है |
 
== तिरुक्कुरल ==
117

सम्पादन