"कोशिका" के अवतरणों में अंतर

39 बैट्स् जोड़े गए ,  5 वर्ष पहले
छो
'लुइवेनहाक' से बदल कर एंटोनी वॉन ल्यूवेन्हॉक किया गया
छो (रॉबर्ट हुक को बदल कर रॉबर्ट हूक कर दिया)
छो ('लुइवेनहाक' से बदल कर एंटोनी वॉन ल्यूवेन्हॉक किया गया)
* [[रॉबर्ट हूक]] ने 1665 में बोतल की [[कार्क]] की एक पतली परत के अध्ययन के आधार पर मधुमक्खी के छत्ते जैसे कोष्ठ देखे और इन्हें कोशा नाम दिया। यह तथ्य उनकी पुस्तक माइक्रोग्राफिया में छपा। राबर्ट हुक ने कोशा-भित्तियों के आधार पर कोशा शब्द प्रयोग किया।
 
* '''1674''' लुइवेनहाक[[एंटोनी वॉन ल्यूवेन्हॉक]] ने जीवित कोशा का सर्वप्रथम अध्ययन किया।
 
* तदरोचित नामक वैज्ञानिक ने 1824 में कोशावाद (cell theory) का विचार प्रस्तुत किया, परन्तु इसका श्रेय वनस्पति-विज्ञान-शास्त्री श्लाइडेन (Matthias Jakob Schleiden) और जन्तु-विज्ञान-शास्त्री श्वान (Theodor Schwann) को दिया जाता है जिन्होंने ठीक प्रकार से कोशावाद को (1839 में) प्रस्तुत किया और बतलाया कि 'कोशाएँ पौधों तथा जन्तुओं की रचनात्मक इकाई हैं।'