"समर्थ रामदास" के अवतरणों में अंतर

851 बैट्स् नीकाले गए ,  5 वर्ष पहले
छो (220.227.59.34 (Talk) के संपादनों को हटाकर Kalyandasdomgaon के आखिरी अवतरण को पूर्वव...)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
 
== प्रभु दर्शन ==
बचपन में ही उन्हें साक्षात प्रभु रामचंद्रजी के दर्शन हुए थे। इसलिए वे अपने आपको रामदास कहलाते थे। उस समय महाराष्ट्र में मराठों का शासन था। शिवाजी महाराज रामदासजी के कार्य से बहुत प्रभावित हुए तथा जब इनका मिलन हुआ तब शिवाजी महाराज ने अपना राज्य रामदासजी की झोली में डाल दिया।
 
रामदासजी ने महाराज से कहा, 'यह राज्य न तुम्हारा है न मेरा। यह राज्य भगवान का है, हम सिर्फ न्यासी हैं।' शिवाजी समय-समय पर उनसे सलाह-मशविरा किया करते थे।
 
रामदास स्वामी ने बहुत से ग्रंथ लिखे। इसमें 'दासबोध' प्रमुख है। इसी प्रकार उन्होंने हमारे मन को भी संस्कारित किया 'मनाचे श्लोक' द्वारा।
 
बेनामी उपयोगकर्ता