"सबलगढ़ किला" के अवतरणों में अंतर

1,208 बैट्स् जोड़े गए ,  6 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
{{आज का आलेख}}
{{ज्ञानसन्दूक सैन्य निर्माण
|name = <big>सबलगढ़ दुर्ग</big>
|partof = करौली राजवंश
|location = [[सबलगढ़]], [[मध्य प्रदेश]]
|image = [[चित्र:Sabalgarh_ka_durg.jpeg|thumb|right|सबलगढ़ का क़िला ]]
|caption =
|map_type = मध्य प्रदेश
|latitude = 26 | latm = 14 | lats = 28.8 | latNS = N
|longitude = 77 | longm = 24 | longs = 20.2 | longEW = E
|map_size = 220
|map_caption = सबलगढ़ दुर्ग
|type = रक्षा किला
<!-- |coordinates = {{coord|18|14|2|N|73|26|24|E|display=inline}} -->
|built = [[१७-१८ वी सताब्दी ]]
|builder = [[महाराजा गोपाल सिंह]]
|materials = पत्थर, बलुआ पत्थर
|height =
|used = नहीं
|demolished =
|condition = स्मारक
|ownership =
|open_to_public =हां
|controlledby = मध्य प्रदेश सरकार
|garrison =
|current_commander =
|commanders =
|occupants =
|battles =
|events =
|image2 =
|caption2 =
}}
[[चित्र:Sabalgarh_ka_durg.jpeg|thumb|right|सबलगढ़ दुर्ग]]
[[मुरैना]] के '''सबलगढ़ नगर''' में स्थित यह किला मुरैना से लगभग 60 किमी. की दूरी पर है। मध्यकाल में बना यह किला एक पहाड़ी के शिखर बना हुआ है। इस किले की नींव सबला गुर्जर ने डाली थी जबकि करौली के महाराजा गोपाल सिंह ने 18वीं शताब्दी में इसे पूरा करवाया था। कुछ समय बाद सिंकदर लोदी ने इस किले को अपने नियंत्रण में ले लिया था लेकिन बाद में करौली के राजा ने मराठों की मदद से इस पर पुन: अधिकार कर लिया। किले के पीछे सिंधिया काल में बना एक बांध है, जहां की सुंदरता देखते ही बनती है।
30

सम्पादन