"मास्ती वेंकटेश अयंगार" के अवतरणों में अंतर

"Jnanpith-logo.jpg" को हटाया। इसे कॉमन्स से JuTa ने हटा दिया है। कारण: No source since 12 September 2015
("Masti_Venkatesh_Aingar_book.jpeg" को हटाया। इसे कॉमन्स से Hedwig in Washington ने हटा दिया है। कारण: Copyright violation; see [[:c:COM:Licensing|C)
("Jnanpith-logo.jpg" को हटाया। इसे कॉमन्स से JuTa ने हटा दिया है। कारण: No source since 12 September 2015)
मास्ती वेंकटेश अयंगार, सन १९२९ में, ''कन्नड साहित्य परिश्द'' के सबसे कम उम्र में सभापति किया। इस कार्यक्रम कर्नाटक के [[बेल्गाम]] जिल्ला में आयोजित किया गया था। मैसूर के माहाराजा नलवाडी कृष्णराजा वडियर ने उनको ''राजसेवासकता'' के पदवी से सम्मानित किया था। कर्नाक और मैसोर के विश्वविद्यालय ने उनको डाक्टर का उपाधि से सम्मानित किया गया। १९४३ में वे ''कन्नड साहित्य परिशद'' के उपाध्यक्ष के पद पर चुनें गये थे। १९७४ में वे ''साहित्य अकेडमी'' के फैलोशिप से सम्मानित किए गए थे। इससे पहले उनको अपने क्षुद्र कहानियों के लिये ''साहित्य अकेडमी अवार्ड'' मिला। सन १९८३ में उनको भारत के सबसे उच्चतम सहित्य पुरस्कार ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किए गए थे।
<gallery>
File:Jnanpith-logo.jpg|ज्ञानपीठ पुरस्कार
</gallery>