"फ़बासी" के अवतरणों में अंतर

1,639 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
[[चित्र:Flowering_kudzu.jpg|thumb|right|फैबेसी कुल का एक पौधा]]
[[चित्र:Vicia sepium10 ies.jpg|right|thumb|300px|फैबेसी कुल की अनेक स्पीशीज़ की जड़ों में ग्रंथिकाएँ (nodules) होती हैं (सफेद रंग) , जिनमें हवा के [[नाइट्रोजन यौगिकीकरण|नाइट्रोजन का यौगिकीकरण]] (fixing) करनेवाले [[जीवाणु]] विद्यमान रहते हैं।]]
'''फ़ैबेसी'''''' (Fabaceae), '''लेग्युमिनोसी''' (Leguminosae) या '''पापील्योनेसी''' (Papilionaceae) एक महत्त्वपूर्ण [[पादप]] [[कुल]] है जिसका बहुत अधिक आर्थिक महत्त्व है। इस कुल में लगभग ४०० वंश तथा १२५० जातियाँ मिलती हैं जिनमें से [[भारत]] में करीब ९०० जातियाँ पाई जाती हैं। इसके पौधे उष्ण प्रदेशों में मिलते हैं। [[शीशम]], [[काला शीशम]], [[कसयानी]], [[सनाई]], [[चना]], [[अकेरी]], [[अगस्त पौधा|अगस्त]], [[मसूर]], [[खेसारी]], [[मटर]], [[उरद]], [[मूँग]], [[सेम]], [[अरहर]], [[मेथी]], [[मूँगफली]], [[ढाक]], [[इण्डियन टेलीग्राफ प्लाण्ट]], [[सोयाबीन]] एवं [[रत्ती]] इस कुल के प्रमुख पौधे हैं। लेग्युमिनोसी द्विबीजपत्री पौधों का विशाल कुल है, जिसके लगभग ६३० वंशों (genera) तथा १८,८६० जातियों का वर्णन मिलता है। इस कुल के पौधे प्रत्येक प्रकार की जलवायु में पाए जाते हैं, परंतु प्राय: शीतोष्ण एवं उष्ण कटिबंधों में इनका बाहुल्य है। इस कुल के अंतर्गत शाक (herbs), क्षुप (shrubs) तथा विशाल पादप आते हैं। कभी कभी इस कुल के सदस्य आरोही, जलीय (aquatic), मरुद्भिदी (xerophytic) तथा समोद्भिदी (mescphytic) होते हैं।
 
इस कुल के पौधों में एक मोटी जड़ होती है, जो आगे चलकर मूलिकाओं (rootlets) एवं उपमूलिकाओं में विभक्त हो जाती है। अनेक स्पीशीज़ की जड़ों में ग्रंथिकाएँ (nodules) होती हैं, जिनमें हवा के [[नाइट्रोजन यौगिकीकरण|नाइट्रोजन का यौगिकीकरण]] (fixing) करनेवाले [[जीवाणु]] विद्यमान रहते हैं। ये जीवाणु नाइट्रोजन का स्थायीकरण कर, खेतों को उर्वर बनाने में पर्याप्त योग देते हैं। अत: ये अधिक आर्थिक महत्व के हैं। इसी वर्ग के पौधे [[अरहर]], [[मटर]], [[ऐल्फेल्फा]] (alfalfa) आदि हैं।
 
आर्थिक महत्व - लेग्युमिनोसी कुल के पौधे बड़े आर्थिक महत्व के हैं। अनेक पौधों के बीच आहार में काम आते हैं, जैसे अरहर, मटर, चना, उड़द, मूँग, मसूर आदि की दालें बनती हैं। कुछ बड़े वृक्षों जैसे शीशम, बबूल, इमली आदि से इमारती लकड़ी मिलती है। मूंगफली से खाद्य तेल प्राप्त होता है। कुछ पौधों के फल और पत्तियाँ साग सब्ज़ी के रूप में प्रयुक्त होती हैं, तो कुछ पौधे चारे के काम आते हैं। कुछ पौधों, जैसे सनई, से रेशे प्राप्त होते हैं, जिनसे रस्सियाँ बनती हैं। आकेशा कैटेचू नामक वृक्ष से कत्था प्राप्त होता है। कुछ पौधे हरी खाद में काम आते हैं कुछ पौधे औषधियों के रूप में व्यवहृत होते हैं, और कुछ पौधे वायुमंडल के नाइट्रोजन का अपनी जड़ की ग्रंथिकाओं में रहनेवाले जीवाणुओं द्वारा स्थायीकरण कर खेत की उर्वरा शक्ति को बढ़ाते हैं।
 
== चित्रावली ==
<gallery>
File:MG 7005.jpg|''[[Acacia baileyana]]'' (Wattle)
File:Starr 050419-0368 Alysicarpus vaginalis.jpg|[[Loment]]s of ''[[Alysicarpus]] vaginalis''
File:CalliandraEmarginata.JPG|''[[Calliandra]] emarginata''
File:Desmodium gangeticum W2 IMG 2776.jpg|''[[Desmodium gangeticum]]''
File:Sickle Bush (Dichrostachys cinerea) in Hyderabad, AP W2 IMG 9903.jpg|''[[Dichrostachys cinerea]]'' Sickle Bush
File:Indigofera-gerardiana.JPG|''[[Indigofera gerardiana]]''
File:Lathyrus odoratus 5 ies.jpg|Tendrils of ''[[Lathyrus odoratus]]'' (Sweet pea)
File:Arboreus infl.jpg|Inflorescence of ''[[Lupinus arboreus]]'' (Yellow bush lupin)
File:Blauwschokker Kapucijner rijserwt Pisum sativum.jpg|''[[Pisum sativum]]'' (Peas); note the leaf-like stipules
File:Smithia conferta W IMG 2191.jpg|''[[Smithia conferta]]''
File:Trifolium repens in Kullu distt W IMG 6655.jpg| ''[[Trifolium repens]]'' in [[Kullu]] District of [[Himachal Pradesh]], [[India]].
File:Vicia cassubica W.jpg|''[[Kashubian vetch]]'' – [[Kashubia]]
File:Zornia gibbosa W IMG 1666.jpg|''[[Zornia gibbosa]]''
</gallery>
 
[[श्रेणी:पादप कुल]]