"श्रेयांसनाथ": अवतरणों में अंतर

37 बैट्स् नीकाले गए ,  6 वर्ष पहले
सन्दर्भ
(सन्दर्भ)
(सन्दर्भ)
{{जैन धर्म}}
 
'''श्रेयांसनाथ''', [[जैन धर्म]] में वर्तमान अवसर्पिणी काल के ११वें [[तीर्थंकर]] है। श्रेयांसनाथ जी के पिता का नाम विष्णु और माता का वेणुदेवी था। उनका जन्मस्थान सिंहपुर ([[सारनाथ]]) और निर्वाणस्थान [[संमेदशिखर]] माना जाता है।{{sfn|जैन|२०१५|p=१९४}} [[गैंडा]] इनका चिह्न था। श्रेयांसनाथ के काल में [[जैन धर्म]] के अनुसार अचल नाम के प्रथम बलदेव, त्रिपृष्ठ नाम के प्रथम वासुदेव और अश्वग्रीव नाम के प्रथम प्रतिवासुदेव का जन्म हुआ।
 
==इन्हें भी देखें==
==ग्रन्थ==
*{{citation|last1=जैन|first1=विजय कुमार|title=Acarya Samantabhadra’s Svayambhustotra|date=२०१५|publisher=विकल्प प्रकाशन|isbn=9788190363976|accessdate=1 नवंबर 2015|url=https://archive.org/details/SvayambhuWeb_201501|quote=Not in Copyright}}
*{{citation|last1=जैन|first1=बलभद्र|title=Bhārata ke digambara Jaina Tīrtha: Bhagavān Mahāvīrake 2500 veṃ nirvāṇa mahotsavake upalakshya meṃ, Volume 5|date=१९७५|publisher=Bhāratavarshīya Digambara Jaina Tīrthakshetra Kameṭī|accessdate=1 नवंबर 2015|url=https://books.google.co.in/books?id=lShGAQAAIAAJ&dq=%E0%A4%B6%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A5%87%E0%A4%AF%E0%A4%BE%E0%A4%82%E0%A4%B8%E0%A4%A8%E0%A4%BE%E0%A4%A5&focus=searchwithinvolume&q=%E0%A4%B6%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A5%87%E0%A4%AF%E0%A4%BE%E0%A4%82%E0%A4%B8%E0%A4%A8%E0%A4%BE%E0%A4%A5}}
 
{{साँचा:तीर्थंकर}}