"विष्णु सखाराम खांडेकर" के अवतरणों में अंतर

43.252.250.59 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 2915874 को पूर्ववत किया
(43.252.250.59 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 2915874 को पूर्ववत किया)
इन्हें [[साहित्य एवं शिक्षा]] के क्षेत्र में सन [[१९६८]] में [[भारत सरकार]] ने [[पद्म भूषण]] से सम्मानित किया था। उन्होंने उपन्यासों और कहानियों के अलावा नाटक, निबंध और आलोचनात्मक निंबंध भी लिखे। खांडेकर के [[ललित निबंध]] उनकी भाषा शैली के कारण काफी पसंद किए जाते हैं।
 
{{अनुवाद}}{{अनुवाद}}{{अनुवाद}}{{अनुवाद}}== जीवन परिचय ==
खांडेकर महाराष्ट्र के सांगली में 19 जनवरी 1898 को पैदा हुए। स्कूल के दिनों में खांडेकर को नाटकों में काफी रूचि थी और उन्होंने कई नाटकों में अभिनय भी किया। बाद में उन्होंने अध्यापन को अपना पेशा बनाया और वह शिरोड कस्बे में स्कूल शिक्षक बने। उन्होंने 1938 तक इस स्कूल में अध्यापन कार्य किया। शिरोड प्रवास खांडेकर के साहित्य रचनाकर्म के लिए काफी उर्वर साबित हुआ क्योंकि इस दौरान उन्होंने काफी रचनाएं लिखीं। 1941 में उन्हें वार्षिक मराठी साहित्य सम्मेलन का अध्यक्ष चुना गया।
 
14,096

सम्पादन