"लोक संगीत" के अवतरणों में अंतर

4 बैट्स् जोड़े गए ,  13 वर्ष पहले
विकिफाई
छो (फारमट-सह-छोटा बदलाव)
(विकिफाई)
वैदिक ॠचाओं की तरह '''लोक संगीत''' या '''लोकगीत''' अत्यंत प्राचीन एवं मानवीय संवेदनाओं के सहजतम उद्गार हैं। ये लेखनी द्वारा नहीं बल्कि लोक-जिह्वा का सहारा लेकर जन-मानस से निःसृत होकर आज तक जीवित रहे।
 
राष्ट्रपिता [[महात्मा गांधी]] ने कहा था कि लोकगीतों में धरती गाती है, पर्वत गाते हैं, नदियां गाती हैं, फसलें गाती हैं। उत्सव, मेले और अन्य अवसरों पर मधुर कंठों में लोक समूह लोकगीत गाते हैं।
 
स्व० [[रामनरेश त्रिपाठी]] के शब्दों में जैसे कोई नदी किसी घोर अंधकारमयी गुफ़ा में से बहकर आती हो और किसी को उसके उद्गम का पता न हो, ठीक यही दशा लोकगीतों के बारे में विद्वान मनीषियों ने स्वीकारी है।
1,011

सम्पादन