"गंगेश उपाध्याय" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
छो (पूर्णविराम (।) से पूर्व के खाली स्थान को हटाया।)
 
[[तत्वचिंतामणि]] पर जितनी टीकाएँ जितने विस्तार के साथ लिखी गई हैं उतनी किसी अन्य ग्रंथ पर नहीं लिखी गई। पहले इसकी टीका [[पक्षधर मिश्र]] ने की; तदनंतर उनके शिष्य रुद्रदत्त ने एक अपनी टीका तैयार की। और इन दोनों से भिन्न वासुदेव सार्वभौम, रघुनाथ शिरोमणि, गंगाधर, जगदीश, मथुरानाथ, गोकुलनाथ, भवानंद, शशधर, शितिकंठ, हरिदास, प्रगल्भ, विश्वनाथ, विष्णुपति, रघुदेव, प्रकाशधर, चंद्रनारायण, महेश्वर और हनुमान कृत टीकाएँ हैं। इन टीकाओं की भी असंख्य टीकाएँ लिखी गई हैं।
 
==सन्दर्भ==
{{टिप्पणीसूची}}
 
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
514

सम्पादन