"सितार": अवतरणों में अंतर

118 बाइट्स जोड़े गए ,  6 वर्ष पहले
Nothing just added some more information
छो (बॉट: आंशिक वर्तनी सुधार।)
(Nothing just added some more information)
टैग: यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
आधुनिक काल में सितार के तीन घराने अथवा शैलियाँ इस के वैविध्य को प्रकाशित करते रहे हैं। बाबा अलाउद्दीन खाँ द्वारा दी गयी तन्त्रकारी शैली जिसे पण्डित [[रविशंकर]] [[निखिल बैनर्जी]] ने अपनाया दरअसल सेनी घराने की शैली का परिष्कार थी। अपने बाबा द्वारा स्थापित इमदादखानी शैली को मधुरता और कर्णप्रियता से पुष्ट किया उस्ताद [[विलायत खाँ]] ने। पूर्ण रूप से तन्त्री वाद्यों हेतु ही वादन शैली '''मिश्रबानी''' का निर्माण डॉ [[लालमणि मिश्र]] ने किया तथा सैंकडों रागों में हजारों बन्दिशों का निर्माण किया। ऐसी ३०० बन्दिशों का संग्रह वर्ष २००७ में प्रकाशित हुआ है।
 
सितार से कुछ बडा वाद्य [[सुर-बहार]] आज भी प्रयोग में है किन्तु सितार से अधिक लोकप्रिय कोई भी वाद्य नहीं है। इसकी ध्वनि को अन्य स्वरूप के वाद्य में उतारने की कई कोशिशें की गयीं किन्तु ढांचे में निहित तन्त्री खिंचाव एवं ध्वनि परिमार्जन के कारण ठीक वैसा ही माधुर्य प्राप्त नहीं किया जा सका। गिटार की वादन शैली से सितार समान स्वर उत्पन्न करने की सम्भावना रन्जन वीणा में कही जाती है किन्तु सितार जैसे प्रहार, अन्गुली से खींची मींड की व्यवस्था न हो पाने के कारण सितार जैसी ध्वनि नहीं उत्पन्न होती। मीराबाई कृष्ण भजन मे सितार का प्रयोग करती थी।
 
==बाहरीाहरी कड़ियाँ==
* [http://www.omenad.net/articles/bjack_Ragrup.htm '''राग-रूपान्जलि'''] डॉ पुष्पा बसु; रत्ना प्रकाशन, कमच्छा, वाराणासी। २००७, पृ० ३३६। संलग्न: बन्दिशों की सी डी रॉम
* [http://www.omenad.net/articles/bsv_sitar1.htm '''सितार का स्वरूप'''] - ''भारतीय संगीत वाद्य'' के कुछ अंश
गुमनाम सदस्य