"चेतक" के अवतरणों में अंतर

3 बैट्स् नीकाले गए ,  5 वर्ष पहले
:राणाप्रताप के घोड़े से
:पड़ गया हवा का पाला था
 
:
:जो तनिक हवा से बाग हिली
:लेकर सवार उड जाता था
:राणा की पुतली फिरी नहीं
:तब तक चेतक मुड जाता था
|
:
:गिरता न कभी चेतक तन पर
:राणाप्रताप का कोड़ा था
:वह दौड़ रहा अरिमस्तक पर
:वह आसमान का घोड़ा था
 
:
:था यहीं रहा अब यहाँ नहीं
:वह वहीं रहा था यहाँ नहीं
:सरपट दौडा करबालों में
:फँस गया शत्रु की चालों में
 
:
:बढते नद सा वह लहर गया
:फिर गया गया फिर ठहर गया
:बिकराल बज्रमय बादल सा
:अरि की सेना पर घहर गया।
|
:
:भाला गिर गया गिरा निशंग
:हय टापों से खन गया अंग
बेनामी उपयोगकर्ता