"जैन धर्म में भगवान" के अवतरणों में अंतर

50 बैट्स् नीकाले गए ,  6 वर्ष पहले
छो
(सुधार)
== भगवान का स्वरुप ==
 
[[आचार्य समन्तभद्र]] विरचित प्रमुख [[जैन ग्रंथ]], [[रत्नकरण्ड श्रावकाचार]] के दो श्लोक सच्चे देव का स्वरुप बताते हैं:
 
:आप्तेनो च्छिनदोषेण सर्वज्ञेनागमेशिना।