"याज्ञवल्क्य" के अवतरणों में अंतर

2 बैट्स् जोड़े गए ,  6 वर्ष पहले
No edit summary
अब तक इसकी दो शाखायें प्राप्‍त होती है जो कि‍ पूर्व में 15 हुआ करती थी। प्राप्‍त शाखाआें में प्रथम है माध्‍यन्‍दि‍न तथा द्वि‍तीय है काण्‍व।
 
==== माध्‍यन्‍दि‍न शाखा ====
इस शाखा का प्रचार प्रसार सम्‍प्रति‍ उत्‍तर भारत में प्रायश: सर्वत्र देखने में आता है। इस शाखा की संहि‍ता पर आचार्य महीधर, आचार्य उव्‍वट, स्‍वामी दयानन्‍द सरस्‍वती, पूज्‍यपाद श्री करपात्र स्‍वामी तथा श्रीपाददामोदर सातवलेकर की व्‍याख्‍या महत्‍वपूर्ण है।
=== शतपथ ब्राह्मण ===
8,287

सम्पादन