"पार्वती": अवतरणों में अंतर

253 बैट्स् जोड़े गए ,  6 वर्ष पहले
छो
सम्पादन सारांश रहित
(धर्म प्राथमिक टैग जोड़ा (ज्यादा उपयुक्त टैग); लहजा और कहानी टैग हटाया)
छोNo edit summary
 
निश्चित दिन शिव जी बारात ले कर [[हिमालय]] के घर आये। वे बैल पर सवार थे। उनके एक हाथ में त्रिशूल और एक हाथ में डमरू था। उनकी बारात में समस्त देवताओं के साथ उनके गण भूत, प्रेत, पिशाच आदि भी थे। सारे बाराती नाच गा रहे थे। सारे संसार को प्रसन्न करने वाली भगवान शिव की बारात अत्यंत मन मोहक थी। इस तरह शुभ घड़ी और शुभ मुहूर्त में शिव जी और पार्वती का विवाह हो गया और पार्वती को साथ ले कर शिव जी अपने धाम कैलाश पर्वत पर सुख पूर्वक रहने लगे।
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
* [https://spiritualworld.co.in/religious-songs-and-vrat-kathayen/hindu-aarti-collection/shri-gori-ambey-ji-ki-aarti-in-hindi-and-english श्री गौरी अम्बे जी की आरती]
 
[[श्रेणी:हिन्दू देवियाँ]]
65

सम्पादन