"आन्ध्र प्रदेश" के अवतरणों में अंतर

289 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
अब लोकसभा/राज्यसभा का 25/12सिट आंध्र में और लोकसभा/राज्यसभा17/8 सिट तेलंगाना मे होगा।
(अब लोकसभा/राज्यसभा का 25/12सिट आंध्र में और लोकसभा/राज्यसभा17/8 सिट तेलंगाना मे होगा।)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
| leader_title = [[राज्यपाल]]
| leader_name = [[ई. एस. एल. नरसिम्हन]]
| leader_title1 = [[मुख्यमंत्री]]
| leader_name1 = [[चंद्रबाबू नायडू]]
| leader_title2 = [[विधान मंडल]]
| leader_name2 = [[द्विसदनीय]] (175 + 56 सीटें)
ऐतिहासिक दृष्टि से राज्य में शामिल क्षेत्र ''आंध्रपथ'', ''आंध्रदेस'', ''आंध्रवाणी'' और ''आंध्र विषय'' के रूप में जाना जाता था।<ref>तेलुगू जगहों के नामों का एक अध्ययन-एस एस रामचंद्र मूर्ति द्वारा, पृ. 10 </ref> आंध्र राज्य से आंध्र प्रदेश का गठन 1 नवम्बर 1956 को किया गया।
 
फरवरी 2014 को भारतीय संसद ने अलग [[तेलंगाना]] राज्य को मंजूरी दे दी। [[तेलंगाना]] राज्य में दस जिले तथा शेष आन्ध्र प्रदेश (सीमांन्ध्र) में 13 जिले होंगे। दस साल तक [[हैदराबाद, भारत|हैदराबाद]] दोनों राज्यों की संयुक्त राजधानी होगी। नया राज्य सीमांन्ध्र दो-तीन महीने में अस्तित्व में आजाएगा जायेगा।अब लोकसभा/राज्यसभा का 25/12सिट आंध्र में और लोकसभा/राज्यसभा17/8 सिट तेलंगाना मे होगा।<ref>http://www.bellevision.com/belle/index.php?action=topnews&type=8551</ref> इसी माह आन्ध्र प्रदेश में [[राष्ट्रपति शासन]] भी लागू हो गया जो कि राज्य के बटवारे तक लागू रहेगा।<ref>{{cite news|url=http://khabar.ndtv.com/news/india/cabinet-recommends-presidents-rule-in-andhra-pradesh-381838 |title=आंध्र प्रदेश में में लागू होगा राष्ट्रपति शासन |publisher=एनडीटीवी इंडिया |date= 28 फ़रवरी 2014 |accessdate=}}</ref>
{| class="wikitable" border="1" cellspacing="1" style="float:right;width:260px;margin:0 0 1em 1em;background:#f4f5f6;border:1px #c6c7c8 solid;font-size:90%"
46

सम्पादन