मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

6 बैट्स् नीकाले गए ,  3 वर्ष पहले
छो
बॉट: चित्र कड़ी ठीक की।
[[प्राचीन यूनान की कृषि|यूनान]] और [[रोमन कृषि|रोम]] वासियों ने, सुमेर वासियों द्वारा शुरू की गई तकनीकों को न सिर्फ़ आगे बढाया बल्कि उनमें कुछ मौलिक परिवर्तन भी किए। दक्षिणी यूनानी अत्यन्त अनुपजाऊ भूमि होने के बावजूद वर्षों तक एक प्रबल समाज के रूप में बने रहने के लिए संघर्ष करते रहे। रोम निवासियों ने व्यापार के लिए फसलें उपजाने पर जोर दिया।
 
[[चित्र:Pieter Bruegel the Elder- The Corn Harvest (August)।JPG.JPG|thumb|दी हारवेसटर्स पीटर ब्रुएगेल। 1565।]]
 
=== मध्य युग ===
</ref>
 
आधुनिक या औद्योगिक कृषि दो मौलिक तरीकों से पेट्रोलियम पर निर्भर करती है: 1) खेती-बीज से फसल उगा कर कटाई करना। 2) परिवहन-कटाई करके उपभोक्ता के फ्रिज तक पहुँचाना। इस प्रक्रिया में ट्रैक्टर व खेतों में जुताई के लिए काम में लिए जाने वाले उपकरणों को ईंधन उपलब्ध कराने के लिए, प्रति नागरिक प्रति वर्ष लगभग 400 गैलन तेल प्रयुक्त होता है। यह देश के कुल उर्जा उपयोग का 17 प्रतिशत है।<ref>[149] ^ डेविड पिमेंटेल, मेरिको पिमेंटेल और मरिंने करपनस्टेन-मचान, "कृषि में ऊर्जा का उपयोग : एक अवलोकन," dspace।library।cornell।edu/bitstream/1813/118/3/Energy।PDF।Energy.PDF।</ref> तेल और प्राकृतिक गैस भी खेतों में प्रयुक्त किये जाने वाले उर्वरकों, कीटनाशकों और शाक विनाशियों के निर्माण ब्लॉक हैं।
पेट्रोलियम बाज़ार में पहुँचने से पहले भोजन से प्रसंस्करण की प्रक्रिया के लिए आवश्यक उर्जा भी उपलब्ध करता है। नाश्ते के लिए 2 पौंड अनाज के बैग का उत्पादन करने में आधा गैलन गैसोलिन के तुल्य उर्जा खर्च होती है।<ref>[150] ^ रिचर्ड मैनिंग, "तेल जो हम कहते हैं: फिर से इराक में खाद्य श्रृंखला का अनुसरण करते हुए," 'हार्पर की पत्रिका, फरवरी 2004।</ref> इसमें इस अनाज को बाजार तक पहुँचने के लिए आवश्यक उर्जा नहीं जोड़ी गयी है; प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ और फसलों के परिवहन में सबसे अधिक तेल खर्च होता है।
 
कमी का एक असर यह हो सकता है कि कृषि पूरी तरह से [[कार्बनिक कृषि]] की और लौट जाये। पीक तेल मुद्दों के प्रकाश में, कार्बनिक विधियां समकालीन प्रथाओं की तुलना में अधिक स्थायी होंगी, क्योंकि उनमें पेट्रोलियम आधारित कीटनाशकों, शाक विनाशियों, या उर्वरकों का उपयोग नहीं किया जाता है।
 
आधुनिक कार्बनिक खेती की विधियों का उपयोग करने वाले कुछ किसानों ने पारंपरिक विधियों के तुलना में अधिक उत्पादन की रिपोर्ट दी है। [<ref>[176] ^ [http://www।biotech-info।net/Alex_Avery।html कार्बनिक खेती की वास्तविकताएं]</ref><ref>[177] ^ http://extension।agron।iastate।edu/organicag/researchreports/nk01ltar.pdf</ref><ref>[178] ^ [http://www।cnr।berkeley।edu/~christos/articles/cv_organic_farming।html कार्बनिक कृषि दुनिया को भोजन उपलब्ध करा सकती है!]</ref><ref>[179] ^ [http://www।terradaily।com/news/farm-05c।html कार्बनिक खेत कम उर्जा और जल का उपयोग करते हैं]</ref> हालांकि कार्बनिक खेती अधिक [[श्रम (अर्थशास्त्र)|श्रम]] प्रधान हो सकती है और इसमें कार्य क्षेत्र पर शहरी से ग्रामीण क्षेत्रों की ओर स्थानान्तरण का दबाव हो सकता है।<ref>Strochlic, आर, सियरा, एल (2007।[http://www।cirsinc।org/Documents/Pub0207। 1।PDF1.PDF पारंपरिक, मिश्रित और "अपंजीकृत" कार्बनिक किसान: प्रवेश में बाधाएं और केलिफोर्निया में कार्बनिक उत्पादन को उत्तेजित करने के लिए कारण।] ग्रामीण अध्ययन के लिए कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट</ref>
 
ऐसी सलाह दी गयी है कि ग्रामीण समुदाय [[बायोचर]] ओर [[सिन ईंधन|सिनफ्यूल]] प्रक्रियाओं से ईंधन प्राप्त कर सकते हैं, जिसमें सामान्य ''भोजन बनाम ईंधन'' डाटाबेस के बजाय [[खाद्य बनाम ईंधन|ईंधन]] ''और'', खाद्य ओर चारकोल उर्वरक उपलब्ध कराने के लिए कृषि के व्यर्थ पदार्थों का उपयोग किया जाता है।