मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

{{मुख्य|हिन्दू काल गणना}}
 
प्राचीन हिन्दू खगोलीय और पौराणिक पाठ्योंग्रन्थों में वर्णित '''समय चक्र''' आश्चर्यजनक रूप से एक समान हैं.हैं। प्राचीन भारतीय भार और मापन पद्धतियां, अभी भी प्रयोग में हैं, मुख्यतः हिन्दू और जैन धर्म के धार्मिक उद्देश्यों में.में। यह सभी [[सूरत शब्द योग]] में भी पढ़ाई जातीं हैं.हैं। इसके साथ साथ ही हिन्दू ग्रन्थों मॆंमें लम्बाई, भार, क्षेत्रफ़लक्षेत्रफल मापन की भी इकाइयाँ परिमाण सहित उल्लेखितउल्लिखित हैं.हैं।
 
हिन्दू ब्रह्माण्डीय समयचक्र [[सूर्य सिद्धांत]] के पहले अध्याय के श्लोक 11–23 में आते हैं.<ref>cf. Burgess.</ref>: