"अजित केशकंबली" के अवतरणों में अंतर

7 बैट्स् जोड़े गए ,  5 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (Bot: Migrating 6 interwiki links, now provided by Wikidata on d:q153187 (translate me))
[[भगवान बुद्ध]] के समकालीन एवं तरह-तरह के मतों का प्रतिपादन करने वाले जो कई धर्माचार्य मंडलियों के साथ घूमा करते थे उनमें '''अजित केशकंबली''' भी एक प्रधान आचार्य थे। इनका नाम था अजित और केश का बना कंबल धारण करने के कारण वह केशकंबली नाम से विख्यात हुए। उनका सिद्धांतसिद्धान्त घोर [[उच्छेदवाद]] का था। भौतिक सत्ता के परे वह किसी तत्व में विश्वास नहीं करते थे। उनके मत में न तो कोई कर्म पुण्य था और न पाप। मृत्यु के बाद शरीर जला दिए जाने पर उसका कुछ शेष नहीं रहता, चार महाभूत अपने तत्व में मिल जाते हैं और उसका सर्वथा अंत हो जाता है- यही उनकी शिक्षा थी।
 
== इन्हें भी देखें ==