"सुखदेव" के अवतरणों में अंतर

19,552 बैट्स् नीकाले गए ,  4 वर्ष पहले
182.64.200.124 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 3050017 को पूर्ववत किया। कॉपी पेस्ट
(182.64.200.124 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 3050017 को पूर्ववत किया। कॉपी पेस्ट)
'''सुखदेव थापर''' का जन्म [[पंजाब (भारत)|पंजाब]] के शहर [[लायलपुर]] में श्रीयुत् रामलाल थापर व श्रीमती रल्ली देवी के घर विक्रमी सम्वत १९६४ के फाल्गुन मास में शुक्ल पक्ष सप्तमी तदनुसार १५ मई १९०७ को अपरान्ह पौने ग्यारह बजे हुआ था। जन्म से तीन माह पूर्व ही [[पिता]] का स्वर्गवास हो जाने के कारण इनके ताऊ अचिन्तराम ने इनका पालन पोषण करने में इनकी [[माता]] को पूर्ण सहयोग किया। सुखदेव की तायी जी ने भी इन्हें अपने [[पुत्र]] की तरह पाला।
 
[[लाला लाजपत राय]] की मौत का बदला लेने के लिये जब योजना बनी तो साण्डर्स का वध करने में इन्होंने भगत सिंह तथा राजगुरु का पूरा साथ दिया था। यही नहीं, सन् १९२९ में जेल में कैदियों के साथ अमानवीय व्यवहार किये जाने के विरोध में राजनीतिक बन्दियों द्वारा की गयी व्यापक हड़ताल में बढ-चढकर भाग भी लिया था। गान्धी-इर्विन समझौते के सन्दर्भ में इन्होंने एक खुला खत गान्धी के नाम [[अंग्रेजी]] में लिखा था जिसमें इन्होंने महात्मा जी से कुछ गम्भीर प्रश्न किये थे। उनका उत्तर यह मिला कि निर्धारित तिथि और समय से पूर्व जेल मैनुअल के नियमों को दरकिनार रखते हुए २३ मार्च १९३१ को सायंकाल ७ बजे सुखदेव, राजगुरु और [[भगत सिंह]] तीनों को [[लाहौर]] सेण्ट्रल जेल में [[फाँसी]] पर लटका कर मार डाला गया। इस प्रकार भगत सिंह तथा राजगुरु के साथ सुखदेव भी मात्र २३वर्ष की आयु में शहीद हो गये।
== क्रान्तिकारी जीवन का प्रारम्भः==
 
सुखदेव शुरु से ही देश के लिये कुछ करना चाहते थे। अपने देश प्रेम की भावना के कारण ही इन्होंने नेशनल कॉलेज में प्रवेश लिया था। इस कॉलेज में प्रवेश के साथ ही इनका क्रान्तिकारी जीवन शुरु हो गया था। यहॉ इनकी मित्रता भगत सिंह, यशपाल, जयदेव गुप्ता और झंड़ा सिंह से हुई। वे सब भी इनकी तरह सशक्त क्रान्ति के समर्थक थे। ये पढ़ाई के बाद या कभी कभी पढ़ाई छोड़कर भगत सिंह व अन्य साथियों के साथ संगठन के निर्माण की तैयारियाँ करते थे। बीच बीच मे वे अपने गाँव लायलपुर चले जाते थे, वहाँ इनके ताया जी ने इनके लिये आटे की चक्की लगवा दी थी ये कुछ समय उसका कार्य देखते और फिर वापस लाहौर आकर भगत के साथ भावी योजनाओं पर कार्य करने लगते।
 
इसी कार्य को आगे बढ़ाते हुये इन्होंने भगत सिंह और भगवती चरण वोहरा के साथ 1926 में नौ जवान भारत सभा का गठन किया। ये हिन्दुस्तान रिपब्लिकन ऐसोसिएशन के कार्यशील सदस्य थे और पंजाब प्रान्त के नेता के रुप में कार्य करते थे। लाला लाजपत राय की मृत्यु का बदला लेने के लिये जब साण्डर्स को मारने का निश्चय किया गया तो इन्होंने भगत सिंह और राजगुरु की पूरी सहायता की थी। ये भगत सिंह के अन्तरंग मित्र थे और उनके सभी कार्यों में कदम से कदम मिलाकर सहयोग करते थे। ये भगत सिंह के परम हितैषी भी थे। ये संगठन के क्रान्तिकारी गतिविधियों के पीछे निहित उद्देश्यों को आम जनता के सामने स्पष्ट करने का समर्थन करते थे। इन्हें लाहौर षड़यंत्र के लिये गिरफ्तार करके जेल में रखा गया। उस समय भगत सिंह ने अपने साथियों के साथ राजनैतिक कैदियों के अधिकारों लिये भूख हड़ताल की जिसमें सुखदेव भी शामिल हुये।
 
== 1928 की फिरोजशाह किले की बैठक: ==
 
सभी क्रान्तिकारियों को संगठित करने के उद्देश्य से भगत सिंह, सुखदेव व शिवशर्मा के प्रयासों से उत्तर भारत प्रान्त के क्रान्तिकारी प्रतिनिधियों की एक बैठक दिल्ली के फिरोजशाह किले के खण्डरों में आयोजित की गयी। यह बैठक 8 या 9 सितम्बर 1928 को की गयी थी। इस बैठक में विभिन्न प्रान्तों में क्रान्ति का नेतृत्व कर रहे क्रान्तिकारी शामिल हुये थे। जिसमें पंजाब से भगत सिंह और सुखदेव, बिहार से फणीन्द्रनाथ घोष व मनमोहन बैनर्जी, राजपूताना से कुन्दनलाल और युगप्रान्त से शिववर्मा, जयदेव, विजयकुमार सिन्हा, ब्रह्मदत्त मिश्र, सुरेन्द्र पाण्डेय के नाम प्रमुख है। चन्द्रशेखर आजाद इस बैठक में शामिल नहीं हो पाये थे पर उन्होंने आश्वासन दिया था कि जो भी निर्णय लिया जायेगा वे स्वीकार कर लेंगे। ये सभी युवा क्रान्तिकारी एक संगठन के आधार पर क्रान्ति का एक नया मार्ग अपनाना चाहते थे।
 
दिल्ली की बैठक में भगत सिंह और सुखदेव ने सभी प्रान्तों से प्रतिनिधि लेकर एक केन्द्रीय समिति बनाई और उस संयुक्त संगठन का नाम हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन आर्मी रखा। इसी सभा में सुखदेव को पंजाब प्रान्त का प्रतिनिधि संगठनकर्ता नियुक्त किया गया तथा साथ ही पंजाब में होने वाली सभी क्रान्तिकारी गतिविधियों का नेतृत्व करने का उत्तरदायित्व दिया गया।
 
==भगत सिंह को फरार करने में सहायताः==
 
लाला लाजपत राय पर लाठी से हमला करने वाले जे. पी. साण्डर्स को गोली मारते समय भगत सिंह को एक दो पुलिसकर्मियों ने देख लिया था, इस कारण उन्हें लाहौर से फरार करने में बड़ी परेशानी हो रही थी। क्योंकि इस बात का भय लगातार बना हुआ था कि एक छोटी सी गलती होने पर भगत सिंह को गिरफ्तार किया जा सकता है। इस समय में सुखदेव ने भगत सिंह को लाहौर से बाहर भेजने में सहायता की।
 
भगत सिंह के भेष को बदलने के लिये उनके बाल काट दिये और उनकी दाड़ी भी साफ करा दी गयी। किन्तु इतना सब करने पर भी उन्हें पहचाना जा सकता था। अतः सुखदेव ने एक तरकीब निकाली और रात को करीब 8 बजे के आसपास दुर्गा भाभी (भगवती चरण वोहरा की पत्नी और क्रान्तिकारी संगठन की सहयोगी) के पास गये और सारी परिस्थिति को समझाकर कहा कि भगत को उसकी मेम साहिबा बनकर यहाँ से बाहर निकालना है। साथ ही यह भी बताया कि गोली चलने का भी भय है। दुर्गा भाभी मदद के लिये तैयार हो गयी और अगली सुबह 6 बजे कलकत्ता मेल से भगत को लाहौर से फरार करने में सफल हुये। पुलिस अधिकारी साण्डर्स को मारने वाले पुलिस फोर्स की नाक के नीचे से निकल गये और वे उन्हें छू तक न सके।
 
==नाई की मंडी में बम बनाना सीखनाः==
 
फरारी के जीवन के दौरान कलकत्ता में भगत सिंह की मुलाकात यतीन्द्र नाथ से हुई, जो बम बनाने की कला को जानते थे। उनके साथ रहकर भगत सिंह ने गनकाटन बनाना सीखा साथ ही अन्य साथियों को यह कला सिखाने के लिये आगरा में दल को दो भागों में बाँटा गया और बम बनाने का कार्य सिखाया गया। नाई की मंडी में बम बनाने का तरीका सिखाने के लिये पंजाब से सुखदेव व राजपूताना से कुंदनलाल को बुलाया गया। यहीं रहकर सुखदेव ने बम बनाना सीखा। इसी समय उन बमों का भी निर्माण किया गया था जिनका प्रयोग असेंम्बली बम धमाके के लिये किया गया था।
 
==मित्र के लिये कर्तव्य का निर्वहनः==
 
जिस समय असेंम्बली में बम फेंकने का निर्णय किया गया तो भगत सिंह के स्थान पर विजयकुमार सिन्हा और बटुकेश्वर दत्त का नाम निश्चित किय गया। जब यह निर्णय लिया गया उस समय सुखदेव केन्द्रीय समिति की बैठक में शामिल नहीं हो पाये थे। किन्तु इस निर्णय की सूचना उन तक पहुँचा दी गयी थी। इस सूचना को सुनते ही सुखदेव तुरन्त दिल्ली आ गये। भगत सिंह और सुखदेव में गहरी मित्रता थी। दोनों एक दूसरे पर अपनी जान न्यौछावर करने के लिये तत्पर रहते थे। वहाँ पहुँचते ही सुखदेव ने भगत सिंह से अकेले में पूछा कि सभा में बम फेंकने तुम जाने वाले थे, यह निर्णय क्यों बदला गया। भगत सिंह ने बताया कि समिति क निर्णय है कि संगठन के भविष्य के लिये मुझे पीछे रहने की आवश्यकता है।
 
सुखदेव से यह बर्दास्त न हुआ। इन्होंने कहा कि मैं तुम्हारा मित्र हूँ और तुम्हें अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मारते हुये नहीं देख सकता। तुम्हारा अंहकार बढ़ गया है। तुम खुद को दल का एकमात्र सहारा समइने लगे हो। तुम्हें नहीं पता तुम्हारा अन्त क्या होगा? एक ना एक दिन तो तुम्हें अदालत में आना पड़ेगा, तब तुम क्या करोगें जब जज तुम पर परमानन्द (भाई परमानन्द 1914-15 के लाहौर षड़यंत्र के सूत्राधार थे, किन्तु उन्होंने अपने अन्य साथियों को आगे कर यह कार्य पूर्ण किया। जब वे अदालत के सामने प्रस्तुत किये गये तब जज ने इन पर टिप्पणी की थी, यह आदमी कायर है, संकट के काम में दूसरों को आगे करके अपने प्राण बचाने की चेष्ठा करता है।) जैसी टिप्पणी करेगा। क्या उस समय तुम उस सत्य का सामना कर पाओंगे? क्या तुम खुद को देश पर मर मिटने के लिये तैयार रहने वाला कह सकोगे?
 
सुखदेव की इस तरह की बातें सुनकर भगत सिंह ने असेंम्बली में बम फेंकने जाने का पक्का निर्णय कर लिया। इस तरह सुखदेव ने अपने सच्चे मित्र होने के कर्तव्य को पूरा किया। सुखदेव जब दिल्ली से लाहौर पहुँचे तब उनकी आँखें सूजी हुई थी। ऐसा लगता था कि वे बहुत रोये थे। इसके बाद सुखदेव ने भगत सिंह से मिलने के लिये भगवती चरण वोहरा को दुर्गा भाभी के साथ बुलाया और भगत सिंह से इन सब की आखिरी मुलाकात कुदशिया बाग में हुई। इस मुलाकात में भगवती चरण, सुशीला दीदी, शची (शचीन्द्र वोहरा, भगवती चरण का बेटा) शामिल थे।
 
==स्पष्टवादिताः==
 
सुखदेव स्पष्टवादी थे। उनका मानना था कि चाहे जो भी कार्य किया जाये उसका उद्देश्य सभी के सामने स्पष्ट होना चाहिये। ये वहीं करते थे जो इन्हें उचित (ठीक) लगता था। यही कारण है कि जब साण्डर्स की हत्या की गयी तो इस हत्या के पीछे के उद्देश्यों को पर्चें लगा कर लोगों तक पहुँचाया गया। इनकी स्पष्टवादिता का प्रमाण इनके द्वारा गाँधी को लिखे गये खुले पत्र के द्वारा प्राप्त होता है। इन्होंने मार्च 1931 में गाँधी को एक पत्र लिखकर उनसे से उनकी नीतियों को जनता के सामने स्पष्ट करने के लिये कहा। ये जानते थे कि गाँधी ने अंग्रेजों से जो समझौता किया है उसको बड़ी चतुराई से स्पष्ट करके भी स्पष्ट नहीं किया अर्थात् लोगों को ऊपरी तौर पर देखने पर लगता कि सब बातें स्पष्ट हैं, लेकिन यदि उनके समझौते का ध्यान से अध्ययन किया जाये तो वह समझौता बिल्कुल अस्पष्ट था। इसी विचार को ध्यान में रखते हुये उन्होंने गाँधी को पत्र लिखा। सुखदेव के जीवन के बारे में अध्ययन करके यह कहा जा सकता है कि वह स्पष्ट बोलने वाले थे और अपने कार्यों और उद्देश्यों के सम्बन्ध में सारी बातें स्पष्ट करते थे। उनके कार्यों के स्पष्टीकरण से इनके निश्चछल स्वभाव का पता चलता है।
 
==सुखदेव की गिरफ्तारीः==
 
सुखदेव को लाहौर षड़यंत्र केस में गिरफ्तार किया गया। इसके बाद इन पर मुकदमा चला इस मुकदमें का नाम “ब्रिटिश राज बनाम सुखदेव व उनके साथी” था क्योंकि उस समय ये क्रान्तिकारी दल की पंजाब प्रान्त की गतिविधियों का नेतृत्व कर रहे थे। इन तीनों क्रान्तिकारियों (भगत सिंह, सुखदेव व राजगुरु) को एक साथ रखा गया और मुकदमा चलाया गया। जेल यात्रा के दौरान इनके दल के भेदों और साथियों के बारे में जानने के लिये पुलिस न इन पर बहुत अत्याचार किये, किन्तु उन्होंने अपना मुँह नहीं खोला।
 
1929 में राजनैतिक कैदियों के साथ दुर्व्यवहार के विरोध में जब भगत सिंह ने भूख हड़ताल का आयोजन किया तो सुखदेव ने भी अपने साथियों का साथ देने के लिये भूख हड़ताल में भाग लिया। इन्होंने मरते दम तक अपनी दोस्ती निभाई। जब भी भगत सिंह को इनके साथ की आवश्यकता होती ये सब से पहले उनकी मदद करते थे तो इतने बड़े आन्दोलन में उन्हें अकेला कैसे छोड़ सकते थे। यदि भगत सिंह दल का विचारात्मक नेतृत्व करते और सुखदेव दल के नेता के रुप में कार्य करते थे। यहीं कारण है कि साण्डर्स की हत्या में सुखदेव के प्रत्यक्ष रुप से शामिल न होने के बाद भी इन्हें इनके दो साथियों भगत सिंह और राजगुरु के साथ फाँसी की सजा दी गयी। 23 मार्च 1931 की शाम 7 बजकर 33 मिनट पर सेंट्रल जेल में इन्हें फाँसी पर चढ़ा दिया गया और खुली आँखों से भारत की आजादी का सपना देखने वाले ये तीन दिवाने हमेशा के लिये सो गये।
== बाहरी कड़ियाँ ==
* [http://www.bbc.co.uk/hindi/regionalnews/story/2007/09/070925_bhagat_sukhdev_letter.shtml गाँधी जी के नाम खुली चिट्ठी-बीबीसी हिंदी पर]
* [http://www.bbc.co.uk/hindi/india/2012/03/120323_sukhdev_birthplace_va.shtml कई तालों में कैद है आजादी के मतवाले सुखदेव का घर]
* [http://www.hindikiduniya.com/biography/freedom-fighters/sukhdev-thapar/]
 
{{भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम}}