"गायत्री मन्त्र": अवतरणों में अंतर

34 बैट्स् जोड़े गए ,  6 वर्ष पहले
 
== गायत्री उपासना का विधि-विधान ==
{{Manual|section|date=April 2016}}
 
गायत्री उपासना कभी भी, किसी भी स्थिति में की जा सकती है। हर स्थिति में यह लाभदायी है, परन्तु विधिपूर्वक भावना से जुड़े न्यूनतम कर्मकाण्डों के साथ की गयी उपासना अति फलदायी मानी गयी है। तीन माला गायत्री मंत्र का जप आवश्यक माना गया है। शौच-स्नान से निवृत्त होकर नियत स्थान, नियत समय पर, सुखासन में बैठकर नित्य गायत्री उपासना की जानी चाहिए।