"कुरुक्षेत्र" के अवतरणों में अंतर

14 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
छो
clean up, replaced: । → । (13) AWB के साथ
छो (clean up, replaced: । → । (13) AWB के साथ)
}}
 
'''कुरुक्षेत्र''' {{audio|Kurukshetra.ogg|उच्चारण}} ({{lang-en|Kurukshetra}})[[हरियाणा]] [[राज्य]] का एक प्रमुख जिला और उसका मुख्यालय है। यह [[हरियाणा]] के उत्तर में स्थित है तथा [[अम्बाला]], [[यमुना नगर]], [[करनाल]] और [[कैथल]] से घिरा हुआ है तथा [[दिल्ली]] और [[अमृतसर]] को जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग और रेलमार्ग पर स्थित है। इसका शहरी इलाका एक अन्य एटिहासिक स्थल थानेसर से मिला हुआ है। यह एक महत्वपूर्ण [[हिन्दू]] तीर्थस्थल है। माना जाता है कि यहीं [[महाभारत]] की लड़ाई हुई थी और [[भगवान कृष्ण]] ने [[अर्जुन]] को [[गीता]] का उपदेश यहीं [[ज्योतिसर]] नामक स्थान पर दिया था। यह क्षेत्र [[बासमती चावल]] के उत्पादन के लिए भी प्रसिद्ध है।
 
श्रीमन नारायण नारायणनारायण। ।अखबारअखबार का कारनामा कुरूक्षेत्र के इतिहास के स्वरूप को बदलने का प्रयासप्रयास। कुरूक्षेत्र का नाम कुरूक्षेत्र _धर्मक्षेत्र कैसे पड़ा इसके बारे महाभारत मे उल्लिखित किया गया है जब शौनक जी को सुत जी बताते हैकि आदि काल से ही यह क्षेत्र युद्ध क्षेत्र रहा है। इसी धरती पर वशिष्ट जी और विश्वामित्रजी के साथ युद्ध हुआ था।इसी धरती पर परशुरामजी ने हैहय वंश का नाश किया था। सुत जी कहते है कि ऐसी किवन्दंती है कि एक किसान खेत मे पानी भर रहा था उसी समय उसकी पत्नी खाना लेकर आई थी पति ने कहा जब तक मै भोजन कर रहा हु तब तक तुम काम देखो तब पत्नी पानी रोकने लगी लेकिन पानी रूक नहीं रहा था सो उसने अपने बच्चे को मेढ मे डाल कर चली आयी थी यह घटना बार की बात है भगवान् श्रीकृष्ण युद्ध स्थल को तय करने के लिए अर्जुन को लेकर यात्रा पर गए थे जहाँ उन्होंने देखा था।यह देखकर प्रभु श्री कृष्ण समझ गए थे कि यह स्थान युद्ध के लिए उपयुक्त हैहै। क्यो कि किसी भी काय॔ के लिये उचित स्थान होता है भगवान् श्रीकृष्ण को डर था कि कही अपने लोगो का रक्त बहते देख कही कौरव पांडव संधि ना कर ले तो इस लिए इसी भूमि का चुनाव किया क्योकि इस भुमि मे मोह नही था। कुरू ने अपने अष्टाड़ भगवान् को दान मे दे दिया था तब भगवान् ने वरदान दिया था कि यह क्षेत्र कुरू क्षेत्र के नाम से जाना जायेगाजायेगा। चुकि कुरू अष्टाड़धम॔ कि खेती कर रहे थे इसलिए इस क्षेत्र को धर्म क्षेत्र कहा जाता हैहै। क्योंकि धर्म मे क्रोध नही हो ता है लेकिन कुरूक्षेत्र मे तप साहस धर्म सबकुछ थाथा। इस बात का उल्लेख प्रभुदत जी ने भी अपने विचार अपने पुस्तक धर्म राष्ट्र मे किया हैहै। अंत मे श्रीमन नारायण नारायण ।नारायण।
 
== इतिहास ==
'स्यमन्तपंचक' शब्द भी आया है। (वामन पुराण 22.20 एवं पद्म पुराण 4.17.7) [[विष्णु पुराण]] (विष्णु पुराण, 4.19.74-77) के मत से कुरु की वंशावलीयों है- 'अजमीढ-ऋक्ष-संवरण-कुरु' एवं 'य इदं धर्मक्षेत्रं चकार'।</ref>
[[File:Kurukshetra.jpg|thumb|250px|left|[[महाभारत]] कुरुक्षेत्र में युद्ध के चित्रण से संवन्धित एक पांडुलिपि]]
कुरुक्षेत्र ब्राह्मणकाल में वैदिक संस्कृति का केन्द्र था और वहाँ विस्तार के साथ यज्ञ अवश्य सम्पादित होते रहे होंगे। इसी से इसे धर्मक्षेत्र कहा गया और देवों को देवकीर्ति इसी से प्राप्त हुई कि उन्होंने धर्म (यज्ञ, तप आदि) का पालन किया था और कुरुक्षेत्र में सत्रों का सम्पादन किया था। कुछ ब्राह्मण-ग्रन्थों में आया है कि बह्लिक प्रातिपीय नामक एक कौरव्य राजा था। तैत्तिरीय ब्राह्मण<ref>तैत्तिरीय ब्राह्मण, 18.4.1</ref> में आया है कि [[कुरु]]-[[पांचाल]] शिशिर-काल में पूर्व की ओर गये, पश्चिम में वे ग्रीष्म ऋतु में गये जो सबसे बुरी ऋतु है। [[ऐतरेय ब्राह्मण]] का उल्लेख अति महत्त्वपूर्ण है। [[सरस्वती देवी|सरस्वती]] ने कवष मुनि की रक्षा की थी और जहाँ वह दौड़ती हुई गयी उसे परिसरक कहा गया।<ref>ऐतरेय ब्राह्मण 8.1 या 2.19</ref> एक अन्य स्थान पर ऐतरेय ब्राह्मण<ref>ऐतरेय ब्राह्मण, 35। 4=7। 30</ref> में आया है कि उसके काल में कुरुक्षेत्र में 'न्यग्रोध' को 'न्युब्ज' कहा जाता था। ऐतरेय ब्राह्मण ने कुरुओं एवं पंचालों के देशों का उल्लेख वश-उशीनरों के देशों के साथ किया है।<ref>ऐतरेय ब्राह्मण, 38.3=8.14</ref> तैत्तिरीय आरण्यक<ref>तैत्तिरीय आरण्यक, 5.1.1</ref> में गाथा आयी है कि देवों ने एक सत्र किया और उसके लिए कुरुक्षेत्र वेदी के रूप में था।<ref>देवा वै सत्रमासत। ... तेषां कुरुक्षेत्रे वेदिरासीत्। तस्यै खाण्डवो दक्षिणार्ध आसीत्। तूर्ध्नमुत्तरार्ध:। परीणज्जधनार्ध:। मरव उत्कर:॥ तैत्तिरीय आरण्यक (तैत्तिरीय आरण्यक 5.1.1) क्या 'तूर्घ्न' 'स्त्रुघ्न' का प्राचीन रूप है? 'स्त्रुघ्न' या आधुनिक 'सुध' जो प्राचीन [[यमुना नदी|यमुना]] पर है, थानेश्वर से 40 मील एवं सहारनपुर से उत्तर-पश्चिम 10 मील पर है।</ref> उस वेदी के दक्षिण ओर खाण्डव था, उत्तरी भाग तूर्घ्न था, पृष्ठ भाग परीण था और मरु (रेगिस्तान) उत्कर (कूड़ा वाल गड्ढा) था। इससे प्रकट होता है कि खाण्डव, तूर्घ्न एवं परीण कुरुक्षेत्र के सीमा-भाग थे और मरु जनपद कुरुक्षेत्र से कुछ दूर था। अवश्वलायन<ref>अवश्वलायन, 12.6</ref>, लाट्यायन<ref>लाट्यायन, 10.15</ref> एवं कात्यायन<ref>कात्यायन, 24.6.5</ref> के श्रौतसूत्र ताण्ड्य ब्राह्मण एवं अन्य ब्राह्मणों का अनुसरण करते हैं और कई ऐसे तीर्थों का वर्णन करते हैं जहाँ सारस्वत सत्रों का सम्पादन हुआ था, यथा प्लक्ष प्रस्त्रवर्ण (जहाँ से [[सरस्वती नदी|सरस्वती]] निकलती है), सरस्वती का वैतन्धव-ह्रद; कुरुक्षेत्र में परीण का स्थल, कारपचव देश में बहती यमुना एवं त्रिप्लक्षावहरण का देश।
 
यह ज्ञातव्य है कि यद्यपि वनपर्व ने 83वें अध्याय में सरस्वती तट पर एवं कुरुक्षेत्र में कतिपय तीर्थों का उल्लेख किया है, किन्तु ब्राह्मणों एवं श्रौतसूत्रों में उल्लिखित तीर्थों से उनका मेल नहीं खाता, केवल 'विनशन'<ref>वनपर्व 83.11</ref> एवं 'सरक'<ref>जो ऐतरेय ब्राह्मण का सम्भवत: परिसरक है</ref> के विषय में ऐसा नहीं कहा जा सकता। इससे यह प्रकट होता है कि वनपर्व का सरस्वती एवं कुरुक्षेत्र से संबन्धित उल्लेख श्रौतसूत्रों के उल्लेख से कई शताब्दियों के पश्चात का है। नारदीय पुराण<ref>उत्तर, अध्याय 65</ref> ने कुरुक्षेत्र के लगभग 100 तीर्थों के नाम दिये हैं। इनका विवरण देना यहाँ सम्भव नहीं है, किन्तु कुछ के विषय में कुछ कहना आवश्यक है। पहला तीर्थ है ब्रह्मसर जहाँ राजा कुरु संन्यासी के रूप में रहते थे।<ref>वनपर्व 83। 85, वामन पुराण 49। 38-41, नारदीय पुराण, उत्तर 65.95</ref> ऐंश्येण्ट जियाग्राफी आव इण्डिया<ref>पृ0 334-335</ref> में आया है कि यह सर 3546 फुट (पूर्व से पश्चिम) लम्बा एवं उत्तर से दक्षिण 1900 फुट चौड़ा था।
 
== भूगोल ==
कुरुक्षेत्र का पौराणिक महत्त्व अधिक माना जाता है। इसका [[ऋग्वेद]] और [[यजुर्वेद]] में अनेक स्थानो पर वर्णन किया गया है। यहाँ की पौराणिक नदी [[सरस्वती नदी|सरस्वती]] का भी अत्यन्त महत्त्व है। इसके अतिरिक्त अनेक [[पुराण|पुराणों]], स्मृतियों और महर्षि [[वेदव्यास]] रचित [[महाभारत]] में इसका विस्तृत वर्णन किया गया हैं। विशेष तथ्य यह है कि कुरुक्षेत्र की पौराणिक सीमा 48 कोस की मानी गई है जिसमें कुरुक्षेत्र के अतिरिक्त [[कैथल]], [[करनाल]], [[पानीपत]] और [[जींद]] का क्षेत्र सम्मिलित हैं।<ref>भारत ज्ञान कोश, खंड-1, पप्युलर प्रकाशन मुंबई, पृष्ठ संख्या-395, आई एस बी एन 81-7154-993-4</ref>
 
इसका [[ऋग्वेद]] और [[यजुर्वेद]] मे अनेक स्थानो पर वर्णन किया गया है। यहां की पौराणिक नदी [[सरस्वती]] का भी अत्यन्त महत्व है। सरस्वती एक पौराणिक नदी जिसकी चर्चा वेदों में भी है। इसके अतिरिक्त अनेक पुराणो, स्मृतियों और महर्षि वेद व्यास रचित [[महाभारत]] में इसका विस्तृत वर्णन किया गया हैं। विशेष तथ्य यह है कि कुरुक्षेत्र की पौराणीक सीमा 48 कोस की मानी गई है। वन पर्व में आया है कि कुरुक्षेत्र के सभी लोग पापमुक्त हो जाते हैं और वह भी जो सदा ऐसा कहता है- 'मैं कुरुक्षेत्र को जाऊँगा और वहाँ रहूँगा।' इस विश्व में इससे बढ़कर कोई अन्य पुनीत स्थल नहीं है। यहाँ तक कि यहाँ की उड़ी हुई धूलि के कण पापी को परम पद देते हैं।' यहाँ तक कि गंगा की भी तुलना कुरुक्षेत्र से की गयी है। नारदीय पुराण में आया है कि ग्रहों, नक्षत्रों एवं तारागणों को कालगति से (आकाश से) नीचे गिर पड़ने का भय है, किन्तु वे, जो कुरुक्षेत्र में मरते हैं पुन: पृथ्वी पर नहीं गिरते, अर्थात् वे पुन: जन्म नहीं लेते।
 
कुरुक्षेत्र अम्बाला से 25 मील पूर्व में है। यह एक अति पुनीत स्थल है। इसका इतिहास पुरातन गाथाओं में समा-सा गया है। ऋग्वेद<ref>ऋग्वेद 10.33.4</ref> में त्रसदस्यु के पुत्र कुरुश्रवण का उल्लेख हुआ है। 'कुरुश्रवण' का शाब्दिक अर्थ है 'कुरु की भूमि में सुना गया या प्रसिद्ध।' [[अथर्ववेद]]<ref>अथर्ववेद 20.127.8</ref> में एक कौरव्य पति (सम्भवत: राजा) की चर्चा हुई है, जिसने अपनी पत्नी से बातचीत की है। ब्राह्मण-ग्रन्थों के काल में कुरुक्षेत्र अति प्रसिद्ध तीर्थ-स्थल कहा गया है। [[शतपथ ब्राह्मण]]<ref>शतपथ ब्राह्मण 4.1.5.13</ref> में उल्लिखित एक गाथा से पता चलता है कि देवों ने कुरुक्षेत्र में एक यज्ञ किया था जिसमें उन्होंने दोनों अश्विनों को पहले यज्ञ-भाग से वंचित कर दिया था। मैत्रायणी संहिता<ref>मैत्रायणी संहिता 2.1.4, 'देवा वै सत्रमासत्र कुरुक्षेत्रे</ref> एवं तैत्तिरीय ब्राह्मण<ref>तैत्तिरीय ब्राह्मण 5.1.1, 'देवा वै सत्रमासत तेषां कुरुक्षेत्रं वेदिरासीत्'</ref> का कथन है कि देवों ने कुरुक्षेत्र में सत्र का सम्पादन किया था। इन उक्तियों में अन्तर्हित भावना यह है कि ब्राह्मण-काल में वैदिक लोग यज्ञ-सम्पादन को अति महत्त्व देते थे, जैसा कि ऋग्वेद<ref>ऋग्वेद, 10.90.16</ref> में आया है- 'यज्ञेय यज्ञमयजन्त देवास्तानि धर्माणि प्रथमान्यसन्।'
 
== पौराणिक कथा ==
कुरू ने जिस क्षेत्र को बार-बार जोता था, उसका नाम कुरूक्षेत्र पड़ा। कहते हैं कि जब कुरू बहुत मनोयोग से इस क्षेत्र की जुताई कर रहे थे तब इन्द्र ने उनसे जाकर इस परिश्रम का कारण पूछा। कुरू ने कहा-'जो भी व्यक्ति यहाँ मारा जायेगा, वह पुण्य लोक में जायेगा।' इन्द्र उनका परिहास करते हुए स्वर्गलोक चले गये। ऐसा अनेक बार हुआ। इन्द्र ने देवताओं को भी बतलाया। देवताओं ने इन्द्र से कहा-'यदि संभव हो तो कुरू को अपने अनुकूल कर लो अन्यथा यदि लोग वहां यज्ञ करके हमारा भाग दिये बिना स्वर्गलोक चले गये तो हमारा भाग नष्ट हो जायेगा।' तब इन्द्र ने पुन: कुरू के पास जाकर कहा-'नरेश्वर, तुम व्यर्थ ही कष्ट कर रहे हो। यदि कोई भी पशु, पक्षी या मनुष्य निराहार रहकर अथवा युद्ध करके यहाँ मारा जायेगा तो स्वर्ग का भागी होगा।' कुरू ने यह बात मान ली। कुरूक्षेत्र का नाम कुरूक्षेत्र _धर्मक्षेत्र कैसे पड़ा इसके बारे महाभारत मे उल्लिखित किया गया है जब शौनक जी को सुत जी बताते हैकि आदि काल से ही यह क्षेत्र युद्ध क्षेत्र रहा है। इसी धरती पर वशिष्ट जी और विश्वामित्रजी के साथ युद्ध हुआ था।इसी धरती पर परशुरामजी ने हैहय वंश का नाश किया था। सुत जी कहते है कि ऐसी किवन्दंती है कि एक किसान खेत मे पानी भर रहा था उसी समय उसकी पत्नी खाना लेकर आई थी पति ने कहा जब तक मै भोजन कर रहा हु तब तक तुम काम देखो तब पत्नी पानी रोकने लगी लेकिन पानी रूक नहीं रहा था सो उसने अपने बच्चे को मेढ मे डाल कर चली आयी थी यह घटना बार की बात है भगवान् श्रीकृष्ण युद्ध स्थल को तय करने के लिए अर्जुन को लेकर यात्रा पर गए थे जहाँ उन्होंने देखा था।यह देखकर प्रभु श्री कृष्ण समझ गए थे कि यह स्थान युद्ध के लिए उपयुक्त हैहै। क्यो कि किसी भी काय॔ के लिये उचित स्थान होता है भगवान् श्रीकृष्ण को डर था कि कही अपने लोगो का रक्त बहते देख कही कौरव पांडव संधि ना कर ले तो इस लिए इसी भूमि का चुनाव किया क्योकि इस भुमि मे मोह नही था। कुरू ने अपने अष्टाड़ भगवान् को दान मे दे दिया था तब भगवान् ने वरदान दिया था कि यह क्षेत्र कुरू क्षेत्र के नाम से जाना जायेगाजायेगा। चुकि कुरू अष्टाड़धम॔ कि खेती कर रहे थे इसलिए इस क्षेत्र को धर्म क्षेत्र कहा जाता हैहै। क्योंकि धर्म मे क्रोध नही हो ता है लेकिन कुरूक्षेत्र मे तप साहस धर्म सबकुछ थाथा। इस बात का उल्लेख प्रभुदत जी ने भी अपने विचार अपने पुस्तक धर्म राष्ट्र मे किया हैहै। इस बात कि व्याख्या संगमेशवरी शक्ति महापीठ मंदिर विन्दगाँवा भोजपुर के संत पुजयश्री योगा बाबा ने भी गर्थों के आधार पर की है।
 
== कुरुक्षेत्र के प्रमुख तीर्थ स्थान ==
 
== अन्य जानकारी ==
[[File:Sheikh Chilli Tomb, Kurukshetra, Haryana, India.jpg|thumb| कुरुक्षेत्र स्थित शेख चिल्ली का मकबरा]]
 
*'''जलवायु''' - यहाँ की जलवायु जुलाई और अगस्त में बारिश के साथ (1 डिग्री सेल्सियस के नीचे तक) और बहुत गर्मी में गर्म (47 डिग्री सेल्सियस के ऊपर तक) पहुँच जाती है, जबकि सर्दियों में काफी ठंड पड़ती है।
{{हरियाणा}}
{{हरियाणा के जिले}}
 
[[श्रेणी:भारत के नगर]]
[[श्रेणी:प्राचीन भारतीय शहर]]
12,522

सम्पादन