मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

68 बैट्स् जोड़े गए ,  3 वर्ष पहले
{{ज्ञानकोषीय नहीं|date=जून 2016}}
<sub>{{मौसम}}
तुलसीदासजी ने रामचरितमानस में शरद ऋतु का गुणगान करते हुए लिखा है -