"महाराणा प्रताप" के अवतरणों में अंतर

22 बैट्स् जोड़े गए ,  5 वर्ष पहले
जन्म तिथि में केवल ज्येष्ठ शब्द जोड़ा ~~~~
(1549 की बजाय 1540)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
(जन्म तिथि में केवल ज्येष्ठ शब्द जोड़ा ~~~~)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
|}}
 
'''महाराणा प्रताप सिंह ''' ( ज्येष्ठ शुक्ल तृतीया रविवार विक्रम संवत 1597 तदानुसार 9 मई 1540–२९ जनवरी 1597) [[उदयपुर]], [[मेवाड]] में [[शिशोदिया राजवंश]] के राजा थे। उनका नाम [[इतिहास]] में वीरता और दृढ प्रण के लिये अमर है। उन्होंने कई सालों तक मुगल सम्राट [[अकबर]] के साथ संघर्ष किया। महाराणा प्रताप सिंह ने मुगलो को कही बार युद्ध में भी हराया।
उनका जन्म राजस्थान के कुम्भलगढ में महाराणा उदयसिंह एवं माता राणी जीवत कँवर के घर हुआ था। १५७६ के हल्दीघाटी युद्ध में २०,००० राजपूतों को साथ लेकर राणा प्रताप ने
मुगल सरदार राजा मानसिंह के ८०,००० की सेना का सामना किया। शत्रु सेना से घिर चुके महाराणा प्रताप को झाला मानसिंह ने आपने प्राण दे कर बचाया ओर महाराणा को युद्ध भूमि छोड़ने के लिए बोला। शक्ति सिंह ने आपना अशव दे कर महाराणा को बचाया। प्रिय अश्व [[चेतक]] की भी मृत्यु हुई। यह युद्ध तो केवल एक दिन चला परन्तु इसमें १७,००० लोग मारे गएँ। मेवाड़ को जीतने के लिये अकबर ने सभी प्रयास किये। महाराणा की हालत दिन-प्रतिदिन चिंतीत हुई। २५,००० राजपूतों को १२ साल तक चले उतना अनुदान देकर भामा शाह भी अमर हुआ।
6,802

सम्पादन