"कहरुवा" के अवतरणों में अंतर

443 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
ऐंबर एक जीवाश्म रेज़िन है। यह एक ऐसे वृक्ष का जीवाश्म रेज़िन है जो आज कहीं नहीं पाया जाता। रगड़ने से इससे बिजली पैदा होती है (यह [[आवेश|आवेशित]] हो जाता है)। यह इसकी विशेषता है और इसी गुण के कारण इसकी ओर लोगों का ध्यान पहले पहल आकर्षित हुआ। आजकल ऐंबर के अनेक उपयोग हैं। इसके मनके और मालाएँ, तंबाकू की नलियाँ (पाइप), सिगार और सिगरेट की धानियाँ (होल्डर) बनती हैं।
 
ऐंबर बाल्टिक सागर के तटों पर, समुद्रतल के नीचे के स्तर में, पाया जाता है।<ref name="Ostsee">[https://books.google.com/books?id=VWkX5TzCF1IC Danzig, Ostsee, Masuren: unterwegs im Nordosten Polens], Klaus Klöppel und Peter Hirth, DuMont Reiseverlag, 2010, ISBN 978-3-77019-209-0, ''... Noch bis ins 19. Jahrhundert wurde Bernstein vor allem am Strand der Ostsee aufgelesen. Bernsteinfischer suchten mit an langen Stangen befestigten Netzen den Meeresboden nach dem Gold der Ostsee ab ...''</ref> समुद्र की तरंगों से बहकर यह तटों पर आता है और वहाँ चुन लिया जाता है, अथवा जालों में पकड़ा जाता है। ऐसा ऐंबर [[डेनमार्क]], [[स्वीडन]] और बाल्टिक प्रदेशों के अन्य समुद्रतटों पर पाया जाता है। [[सिसली]] में भी ऐंबर प्राप्त होता है। यहाँ का ऐंबर कुछ भिन्न प्रकार का और प्रतिदीप्त (फ़्लुओरेसेंट) होता है। ऐंबर के समान ही कई किस्म के अन्य फ़ौसिल रेज़िन अन्य देशों में पाए जाते हैं।
 
ऐंबर के भीतर लिगनाइट अथवा काठ-फ़ौसिल और कभी कभी मरे हुए कीड़े सुरक्षित पाए जाते हैं। इससे ज्ञात होता है कि इसकी उत्पत्ति कार्बनिक स्रोतों से हुई है।
== इन्हें भी देखें ==
* [[सम्ख़]]
* [[टरपीन]]
 
== सन्दर्भ ==
2

सम्पादन