"कामाख्या मन्दिर" के अवतरणों में अंतर

82 बैट्स् नीकाले गए ,  5 वर्ष पहले
1.39.48.58 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 3087343 को पूर्ववत किया
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
(1.39.48.58 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 3087343 को पूर्ववत किया)
विश्व के सभी तांत्रिकों, मांत्रिकों एवं सिद्ध-पुरुषों के लिये वर्ष में एक बार पड़ने वाला अम्बूवाची योग पर्व वस्तुत एक वरदान है। यह अम्बूवाची पर्वत भगवती (सती) का रजस्वला पर्व होता है। पौराणिक शास्त्रों के अनुसार सतयुग में यह पर्व 16 वर्ष में एक बार, द्वापर में 12 वर्ष में एक बार, त्रेता युग में 7 वर्ष में एक बार तथा कलिकाल में प्रत्येक वर्ष जून माह में तिथि के अनुसार मनाया जाता है। इस बार अम्बूवाची योग पर्व जून की 22, 23, 24 तिथियों में मनाया गया।
 
== शीर्षक =हे भगवती हमेशा कृपा बनाये रखना =
 
== पौराणिक सन्दर्भ ==
पौराणिक सत्य है कि अम्बूवाची पर्व के दौरान माँ भगवती रजस्वला होती हैं और मां भगवती की गर्भ गृह स्थित महामुद्रा (योनि-तीर्थ) से निरंतर तीन दिनों तक जल-प्रवाह के स्थान से रक्त प्रवाहित होता है। यह अपने आप में, इस कलिकाल में एक अद्भुत आश्चर्य का विलक्षण नजारा है। कामाख्या तंत्र के अनुसार -