"असमिया भाषा" के अवतरणों में अंतर

7 बैट्स् जोड़े गए ,  4 वर्ष पहले
छो (+{{Authority control}})
* धार्मिक कथा काव्य या संग्रह
 
असमीया की पारंपरिक कविता उच्चवर्ग तक ही सीमित थी। [[भर्तृदेवभट्टदेव]] (१५५८-१६३८) ने असमिया गद्य साहित्य को सुगठित रूप प्रदान किया। [[दामोदर देवदामोदरदेव]] ने प्रमुख जीवनियाँ लिखीं। [[पुरुषोत्तम ठाकुर]] ने [[व्याकरण]] पर काम किया। अठारहवी शती के तीन दशक तक साहित्य में विशेष परिवर्तन दिखाई नहीं दिए। उसके बाद चालीस वर्षों तक असमिया साहित्य पर [[बांग्ला]] का वर्चस्व बना रहा। असमिया को जीवन प्रदान करने में [[चंद्रचन्द्र कुमार अग्रवाल]] (१८५८-१९३८), [[लक्ष्मीनाथ बेजबरुआबेजबरुवा]] (१८६७-१८३८), व [[हेमचंद्र गोस्वामी]] (१८७२-१९२८) का योगदान रहा। असमीया में छायावादी आंदोलन छेड़ने वाली मासिक पत्रिका [[जोनाकी]] का प्रारंभ इन्हीं लोगों ने किया था। उन्नीसवीं शताब्दी के उपन्यासकार [[पद्मनाभ गोहेन बरुआगोहाञिबरुवा]] और [[रजनीकंतरजनीकान्त बार्दोलोईबरदलै]] ने ऐतिहासिक उपन्यास लिखे। सामाजिक उपन्यास के क्षेत्र में [[देवाचंद्रदेवाचन्द्र तालुकदार]] व [[बीना बरुआबरुवा]] का नाम प्रमुखता से आता है। स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद [[बिरेन्द्रबीरेन्द्र कुमार भट्टाचार्य]] को [[मृत्युंजय (उपन्यास)|मृत्यंजय]] उपन्यास के लिए [[ज्ञानपीठ पुरस्कार]] से सम्मानित किया गया। इस भाषा में क्षेत्रीय व जीवनी रूप में भी बहुत से उपन्यास लिखे गए हैं। ४०वे व ५०वें दशक की कविताएँ व गद्य मार्क्सवादी विचारधारा से भी प्रभावित दिखाई देती है।
 
== यह भी देखें ==
35

सम्पादन